Raj Express
www.rajexpress.co
विद्युत अमले पर भड़के विधायक
विद्युत अमले पर भड़के विधायक|Pankaj Yadav
मध्य प्रदेश

छतरपुर : चीफ इंजीनियर की मौजूदगी में विद्युत अमले पर भड़के विधायक

छतरपुर: आये दिन हो रही बिजली समस्या पर विधायक आलोक चतुर्वेदी ने चीफ इंजीनियर जीपी सिंह की मौजूदगी में विद्युत अमले पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा, इसकी वजह से मैं जनता को मुंह नहीं दिखा पा रहा।

Pankaj Yadav

राज एक्सप्रेस। छतरपुर में आये दिन हो रही बिजली समस्या पर विधायक आलोक चतुर्वेदी के सब्र का बांध टूट गया। उन्होंने चीफ इंजीनियर जीपी सिंह की मौजूदगी में छतरपुर के विद्युत अमले पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि, सिर्फ छतरपुर में ही प्रदेश का सबसे बड़ा बिजली संकट निर्मित क्यों हो रहा है। गणेश चतुर्वेदी जैसे त्यौहार पर शहर में चार घंटे लाईट नहीं रही। मैं बिजली समस्या के कारण लोगों को मुंह नहीं दिखा पा रहा हूं। यदि आप लोगों ने हालात नहीं सुधारे तो आप भी यहां मुंह दिखाने लायक नहीं रहेंगे।

कई नेता रहे मौजूद :

उल्लेखनीय है कि, मंगलवार को चीफ इंजीनियर जीपी सिंह छतरपुर के दौरे पर आये थे। विधायक ने उनसे बात कर शाम 4 बजे सटई रोड स्थित एसई कार्यालय में शहर के सभी वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ली। इस बैठक में शहर के कई गणमान्य नागरिक, कांग्रेस के नेता, समाजसेवी और पत्रकार भी मौजूद थे। विधायक ने कहा कि, जबसे कांग्रेस की सरकार बनी है तब से छतरपुर में बिजली का संकट क्यों गहरा गया है। विद्युत आपूर्ति वही है, स्टाफ और संसाधन भी वही हैं फिर आखिर यह समस्या क्यों आ रही है। उन्होंने कहा कि, विभाग के लोग आमजनता से असभ्यता से पेश आ रहे है। दिन में तीन से चार घंटे बिजली कटौती हो रही है। शिकायत केंद्रों पर कोई फोन उठाने वाला नहीं है आखिर विभाग में इतनी भर्राशाही क्यों है। आमजनता ने भी इस अवसर पर अधिकारियों के मुंह पर खरी खोटी सुनाई। इस बैठक में कई नेता मौजूद रहे।

विभाग ने मांगी 15 दिन की मोहलत :

विधायक और आमजनता से खरी खोटी सुनने के बाद विभाग ने कई मुद्दों पर सुधार के लिए 15 दिन की मोहलत मांगी। चीफ इंजीनियर की मौजूदगी में एसई ने कहा कि, हम एक बार में पूरा मेंटेनेंस पूरा करेंगे, ताकि रोज-रोज समस्या न हो, शिकायत केंद्रों को दुरुस्त करेंगे, यह निश्चित करेंगे कि, जनता की समस्या सुनी जायें और सभ्यता से जवाब दिया जाये। ऐसे ट्रांसफार्मर जो एक साथ दो या तीन की संख्या में फीड ले रहे है, उनके सुधरने के दौरान बड़े क्षेत्र की लाईट जाती है, इन्हें अगल-अगल फीड दिलाई जाएगी। चौक बाजार एवं बजरिया क्षेत्र की घटिया लाईनों को बदला जाएगा। पठापुर गांव को बकायन फीडर एवं ग्राम हररई को हमा फीडर से जोड़ा जायेगा। नये उपभोक्ताओं को सीधे 6 महीने में मिलने वाले बिल पर छूट दी जाएगी। हटवारा, परवारी मुहल्ला, गल्लामंडी, सटई रोड सहित ग्राम थरा, ब्रजपुरा, गोरा में नये ट्रांसफार्मर उपलब्ध करायें जायेंगे। शहर में मौजूद 38 हजार उपभोक्ताओं के लिए एक शिकायत केंद्र कम पढ़ रहा है, इसलिए दो नये शिकायत केंद्र खोले जायेंगे। एक माह में हर वितरण केंद्र पर शिकायत निवारण शिविर लगेगा। विधायक के साथ सभी कर्मचारी त्रिमासिक बैठक में शामिल होंगे।

डीई एसके सोनी के व्यवहार पर भड़के विधायक :

बीती रोज जब शहर में बिजली गुल थी, तब शहर के दो युवकों केतन अवस्थी एवं लोकेंद्र भट्ट ने डीई एसके सोनी को समस्या के समाधान के लिए फोन लगाया था। यह दोनों युवक आज इस बैठक में भी मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि, फोन लगाने पर डीई एसके सोनी ने एक युवक से कहा था कि, वह खुद खंभे पर चढ़ कर बिजली सुधार ले और गाली गलौज भी की थी। यह शिकायत सामने आने के बाद विधायक भड़क गये और उन्होंने ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह से बात कर ऐसे अधिकारियों की शिकायत की। उन्होंने कहा कि, सोनी जी भाषा में सुधार करे नहीं तो ऐसे लोगों के लिए शहर के लोग दूसरा इलाज खोजेंगे।

बिजली विभाग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन :

कांग्रेस जिलाध्यक्ष बोले 15 दिन बाद हम खुद करेंगे आंदोलन बैठक में कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कहा कि, यदि बिजली संकट के हालात नहीं सुधरे तो कांग्रेस खुद ऐसे अधिकारियों के खिलाफ सड़क पर उतरेगी। उन्होंने कहा कि भले ही हमारी सरकार है लेकिन यदि हम जनता की समस्यायें दूर नहीं कर पाये तो हमें खुद बिजली विभाग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

बैठक के दौरान ही चली गई बिजली, विभाग की हुई किरकिरी :

बिजली संकट को दूर करने के लिए जब विधायक और चीफ इंजीनियर मंथन करने के लिए पूरे अमले के साथ छतरपुर के सबसे बड़े बिजली कार्यालय में जमा हुए तभी बिजली चली गई। लगभग 10 मिनट तक बिजली गुल रहने के कारण अधिकारियों के चेहरे पर शर्मिंदगी का भाव उभर कर आ गया। विधायक ने कहा कि, आप अपने हालात खुद देख लीजिए। चीफ इंजीनियर भी इस दुर्भाग्य पर माथा पकड़ कर रहे गये।