इंदौर : विधायक ने कहा मास्क के चालान की राशि से वेंटिलेटर खरीदे जाएं
विधायक ने कहा मास्क के चालान की राशि से वेंटिलेटर खरीदे जाएंSocial Media

इंदौर : विधायक ने कहा मास्क के चालान की राशि से वेंटिलेटर खरीदे जाएं

संजय शुक्ला ने कहा है कि कोरोनावायरस का संक्रमण रोकने के लिए मास्क ना लगाने वाले नागरिकों के चालन बनाकर जो राशि वसूल की जा रही है उसका उपयोग सरकारी अस्पतालों के लिए वेंटिलेटर खरीदने में किया जाए।

इंदौर, मध्यप्रदेश। कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने कहा है कि कोरोनावायरस का संक्रमण रोकने के लिए मास्क ना लगाने वाले नागरिकों के चालन बनाकर जो राशि वसूल की जा रही है उसका उपयोग इंदौर के सरकारी अस्पतालों के लिए वेंटिलेटर खरीदने में किया जाए। इस समय इंदौर को जरूरत अस्थाई जेल की नहीं बल्कि अस्थाई अस्पतालों की है। इंदौर से हमेशा अपना खजाना भरने वाली प्रदेश की सरकार महामारी के इस दौर में इंदौर की झोली सुविधाओं से भरे।

शुक्ला ने आज यहां जारी एक बयान में कहा कि इस समय कोरोना का संक्रमण इंदौर में इतना ज्यादा तेजी से चल रहा है जितना कि पिछले साल लॉकडाउन के दौर में भी नहीं चल रहा था। इस संक्रमण से शहर के नागरिकों को बचाने के लिए सरकार की ओर से पर्याप्त प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। पिछले साल जब संक्रमण की स्थिति थी, उस समय इंदौर में आसपास के जिलों से डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को अटैच कर दिया गया था। उन सभी के माध्यम से कोरोना से संक्रमित मरीजों कोई इलाज उपलब्ध कराया गया था। इस बार इंदौर में हर दिन कोरोना के मरीज मिलने का कीर्तिमान बन रहा है लेकिन इसके बावजूद अब तक आसपास के जिलों के स्टाफ को इंदौर में अटैच नहीं किया गया है। उन्होने आरोप लगाए कि शहर के सरकारी अस्पतालों में भी बेड की कमी पैदा होने लगी है। इन अस्पतालों में कहीं वेंटिलेटर खराब हो गए हैं तो कहीं वेंटीलेटर की कमी है। ऐसे में इंदौर नगर निगम के द्वारा मास्क ना पहनने वाले नागरिकों के चालान बनाकर जो राशि वसूल की जा रही है, इस राशि का उपयोग इन अस्पतालों के लिए वेंटिलेटर खरीदने में किया जाना चाहिए। यह राशी नगर निगम के खजाने में नहीं जाना चाहिए।

गजट नोटिफिकेशन किए बगैर ही निगम की चालानी कार्रवाई :

विधायक शुक्ला ने कहा कि सरकार की ओर से कोई गजट नोटिफिकेशन किए बगैर ही नगर निगम के द्वारा चालान बनाने की इस कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है। ऐसे में यह आवश्यक है कि चालान में वसूल की जाने वाली राशि का उपयोग कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने और मरीजों को बेहतर स्थिति में पहुंचाने के कार्य में किया जाए। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन की ओर से स्वास्थ्य विभाग के द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। यह दावा किया गया था कि इस नंबर के माध्यम से अस्पतालों में बेड की स्थिति स्पष्ट हो सकती है ताकि संक्रमण से पीडि़त कोई भी नागरिक अस्पताल में जाकर उपचार के लिए भर्ती हो सके। इस मामले में दुखद स्थिति यह है कि इस हेल्पलाइन के नंबर पर कोई फोन उठाता ही नहीं है। उन्होने कहा कि हमेशा से राज्य सरकार का खजाना इंदौर के लोगों के द्वारा चुकाए जाने वाले टैक्स से भराता है। इस समय महामारी का दौर है। इंदौर में जनजीवन संकट में हैं। हर दिन सैकड़ों की संख्या में नागरिक कोरोना के संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि राज्य सरकार की ओर से इंदौर की झोली भरी जाए। यहां पर महामारी की चपेट में आ रहे लोगों के उपचार के लिए पुख्ता प्रबंध किए जाएं। इंदौर के अस्पताल संसाधन की कमी की महामारी से पिछले कई सालों से जूझ रहे हैं। इन अस्पतालों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप संसाधन दिए जाएं ताकि इन अस्पतालों में संक्रमण के मरीजों का बेहतर उपचार हो सके।

विधायक ने दिया सुझाव :

कांग्रेस विधायक शुक्ला ने सुझाव दिया है कि प्रशासन की ओर से सभी व्यापारियों से यह अपील कर दी जाए कि जो ग्राहक मास्क ना पहने वह उसे वह सामान नहीं दें। इसके साथ ही नागरिकों से अपील कर दी जाए कि जिस दुकान में व्यापारी अथवा उसके कर्मचारी मास्क लगाए बगैर बैठे हो तो वहां से नागरिक भी खरीददारी नहीं करें। यदि यह व्यवस्था लागू कर दी जाती है तो नगर निगम के कर्मचारियों के द्वारा मास्क को आधार बनाकर चालान बनाने की कार्रवाई के नाम पर आए दिन किए जा रहे अभद्र व्यवहार की घटनाओं पर भी विराम लग जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co