Monsoon Update : मानसून सक्रिय, बदरा बरसने का इंतजार बरकरार, उमस ने किया बेहाल
स्थिती अनुकूल : बंगाल की खाड़ी में बना लो प्रेशर एरिया, प्रदेश से गुजर रहा है मानसून ट्रफSyed Dabeer -RE

Monsoon Update : मानसून सक्रिय, बदरा बरसने का इंतजार बरकरार, उमस ने किया बेहाल

भोपाल, मध्यप्रदेश : मौसम विभाग ने सोमवार-मंगलवार को भोपाल सहित जबलपुर, रीवा, होशंगाबाद, उज्जैन एवं इंदौर संभाग के जिलों में कई स्थानों पर गरज-चमक के साथ तेज बौछारें पड़ने की संभावना जताई है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मानसून सक्रीय हो गया है और सिस्टम भी बन गए हैं लेकिन शहरवासियों का अच्छी वर्षा का इंतजार अभी भी खत्म नहीं हुआ है। लंबे इंतजार के बाद प्रदेश के कई इलाकों में वर्षा का दौर शुरू हो चुका है, वहीं शहर में अभी भी हालात नहीं बदले हैं। गर्मी और उमस से लोग बेहाल हैं। बीते दिन की तरह ही रविवार को भी बादलों की मौजूदगी देख ऐसा लगा कि अब बरसे की तब लेकिन बारिश नहीं हुई। शनिवार को राजधानी में कहीं-कहीं वर्षा दर्ज की गई तो कुछ इलाकों में बूंदाबांदी ही हुई। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में सिस्टम बन चुका है लेकिन इसके दमदार होने के साथ ही आगे बढ़ने पर ही झमाझम वर्षा होगी या नहीं यह स्थिति स्पष्ट होगी। मौसम विभाग ने सोमवार-मंगलवार को भोपाल सहित जबलपुर, रीवा, होशंगाबाद, उज्जैन एवं इंदौर संभाग के जिलों में कई स्थानों पर गरज-चमक के साथ तेज बौछारें पड़ने की संभावना जताई है।

गतिविधियां रहेंगी जारी :

मौसम विज्ञानियों ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ भी मध्यप्रदेश से होकर गुजर रहा है। इस वजह से प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। राजधानी में भी सिस्टम का असर दिख रहा है। लेकिन इस सिस्टम के आगे बढऩे पर एक-दो दिन में स्थिति स्पष्ट होगी कि शहर में इसका कितना असर होगा। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि वर्षा की गतिविधियां जारी रहेंगी। आगामी एक-दो दिन शहर में हल्की से मध्यम वर्षा होगी। इस दौरान दिन में एकाध दौर तेज वर्षा का हो सकता है। 14-15 जुलाई को भोपाल में भी तेज वर्षा के आसार हैं।

सिस्टम के दमदार होने पर स्पष्ट होगी स्थिति :

साहा ने बताया कि साहा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ मध्य राजस्थान से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है, जो कि मप्र, पूर्वी राजस्थान, छत्तीसगढ़ से होकर गुजर रही है। अरब सागर से भी नमी आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस वजह से गरज-चमक के साथ बरसात हो रही है। मानसून ट्रफ प्रदेश से होकर गुजर रहा है इसलिए अच्छी वर्षा के लिए परिस्थिति अनुकूल है। लेकिन बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम के दमदार होने पर ही झमाझम वर्षा की संभावना बढ़ेगी। हालांकि सिस्टम दमदार नहीं होगा तब भी 15-16 जुलाई तक रेनफॉल एक्टीविटिज जारी रहेंगी। संभावना यह भी है कि इस सिस्टम के बाद भी नए सिस्टम बनते रहेंगे और वर्षा की गतिधियां जारी रहेंगी।

पारे और वर्षा के हाल :

रविवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 32.9 डिग्री दर्ज किया गया। जो सामान्य से एक डिग्री अधिक रहा। यह शनिवार के अधिकतम तापमान से 2.8 डिग्री कम रहा। न्यूनतम तापमान 23 डिग्री रिकार्ड किया गया। यह भी शनिवार के न्यूनतम तापमान के मुकाबले 2.8 डिग्री कम रहा। आर्द्रता 88 से 98 फीसदी के बीच है। 1 जून से लेकर अब तक कुल 322.6 मिमी वर्षा दर्ज की गई है, जिसमें से जुलाई माह के बीते 11 दिनों में मात्र 38.5 मिमी वर्षा हुई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co