MP CM शिवराज सिंह के निवास पर शाह से मिलने से पहले मंत्रियों की आपात बैठक
MP CM शिवराज सिंह ने निवास पर बुलाई मंत्रियों की आपात बैठकSocial Media

MP CM शिवराज सिंह के निवास पर शाह से मिलने से पहले मंत्रियों की आपात बैठक

शुक्रवार की शाम मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास पर अचानक मंत्रियों की आपात बैठक बुलाई। सीएम हाउस में मंत्रीगण की बैठक की जानकारी गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा द्वारा दी गई।

भोपाल, मध्य प्रदेश। देश में पिछले कुछ समय में हालातों को मद्देनजर रखते हुए किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री कभी भी अचानक बैठक बुला लेते हैं। ऐसे ही आज यानि शुक्रवार की शाम मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास पर अचानक मंत्रियों की आपात बैठक बुलाई। सीएम हाउस में मंत्रीगण की बैठक की जानकारी गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र द्वारा दी गई।

मुख्यमंत्री निवास पर मंत्रियों की आपात बैठक :

शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास (मुख्यमंत्री निवास) में मंत्रियों की आपात बैठक बुलाई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह से मिलने यानी दिल्ली दौरे से ठीक पहले बुलाई। बता दें, मुख्यमंत्री 26 सितंबर को दिल्ली जाकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। उससे पहले अचानक यह बैठक होना काफी महत्वपूर्ण हो सकता है। खबरों की मानें तो, इस बैठक में सत्ता और संगठन के बीच बेहतर तालमेल और समन्वय पर चर्चा हुई है।

प्रदेश में चल रहे कई अभियान :

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन 17 सितंबर से मध्य प्रदेश में जनकल्याण, विकास और सुराज अभियान चल रहा है। जो कि लगातार 7 अक्टूबर तक चलेगा। इस अभियान के बारे में दिल्ली प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री, गृह मंत्री को पूरा ब्यौरा देंगे। इस अभियान के माध्यम से राज्य सरकार लोगों के लिए लगातार कई कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं और उन्हें योजनाओं का फायदा दिया जा रहा है। मंत्रियों को इन कार्यक्रमों को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए गए हैं। 7 अक्टूबर तक संचालित अभियान में कई कार्यक्रम होंगे।

अभियान के तहत कार्यक्रम :

  • ऊर्जा विभाग का कार्यक्रम 27 सितंबर

  • शिक्षा विभाग का कार्यक्रम 28 सितंबर

  • महिला सशक्तिकरण पर केंद्रित कार्यक्रम 29 सितंबर

  • औद्योगिक विकास का कार्यक्रम 30 सितंबर

  • ग्रामीण विकास विभाग का कार्यक्रम 1 अक्टूबर

  • जल जीवन मिशन का कार्यक्रम 4 अक्टूबर

  • स्वामित्व योजना का कार्यक्रम 6 अक्टूबर

  • अंतिम कार्यक्रम 7 अक्टूबर को होगा, जिसे सुशासन पर केंद्रित किया जा रहा है। साथ ही अन्न उत्सव का आयोजन भी किया जाएगा।

विस्तार से दी गई जानकारी :

मंत्रियों को कार्यक्रम के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई और उन्हें जरुरी तैयारी करने के निर्देश भी दिए गए। इधर कोरोना महामारी की स्थिति प्रदेश में पूरी तरह नियंत्रित होने के बाद सीएम हेल्पलाइन, वनडे गवर्नेंस, समाधान ऑनलाइन भी शुरू हो रहे हैं। लोगों की समस्याओं से जुड़ने का यह सीधा माध्यम से है। इससे लोगों का सरकार के प्रति विश्वास बढ़ता है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को कहा कि यह जन-कल्याण, विकास और सुराज का अभियान है। मप्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म-दिवस 17 सितंबर को अगले सात दिन में 71 लाख वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन अवधि में 73.50 लाख लोगों को वैक्सीन लगा दी गई है। बताया जा रहा है कि 27 को होने वाले महावैक्सीनेशन अभियान के लिए भी मंत्रियों की जिम्मेदारी तय कर दी गई है। उन्हें अपने प्रभार के जिले में अभियान की मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी दी गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.