कोरोना से नहीं डरें, शंका का समाधान करें : डायल 104
कोरोना से नहीं डरें, शंका का समाधान करें : डायल 104|Priyanka Yadav -RE
मध्य प्रदेश

कोरोना से नहीं डरें, शंका का समाधान करें-डायल 104 : मंत्री सिलावट

मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि, नोवल कोरोना वायरस से अनावश्यक डरने की आवश्यकता नहीं है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि नोवल कोरोना वायरस से अनावश्यक डरने की आवश्यकता नहीं है। सावधानी एवं सतर्कता से इस वायरस से बचाव आसान है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना वायरस संक्रमण की निगरानी, रोकथाम, बचाव और नियंत्रण के लिए पूर्ण सजग एवं क्रियाशील हैं।

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने बताया :

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने बताया कि, नोवल कोरोना वायरस कंट्रोल-रूम, दूरभाष टोल-फ्री नंबर-104, प्रतिदिन सुबह 8.00 से रात 8.00 बजे तक कमला नेहरू अस्पताल, हमीदिया अस्पताल के पास, भोपाल में स्थापित किया गया है। उन्होंने नागरिकों से अपील की है कि किसी भी शंका का समाधान उपरोक्त टोल-फ्री नंबर-104 पर प्राप्त करें।

नोवल कोरोना वायरस से अनावश्यक डरने की आवश्यकता नहीं :

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए संभावित संक्रमित रोगी के संपर्क में न आएं, हाथ न मिलाएं, गले न लगाएं। हाथों को स्वच्छ पानी से धोएं, अधिक मात्र में तरल पदार्थ एवं पौष्टिक आहार का सेवन करें। मास्क का उपयोग करें तथा किसी भी प्रकार के लक्षण आने पर नजदीकी शासकीय स्वास्थ्य केंद्र में संपर्क करें।

ज्ञातव्य है कि, वर्तमान में चीन के हुबई प्रांत के वुहान शहर में एक नए प्रकार के वायरस नोवल कोरोना का संक्रमण हुआ है। इसके संक्रमण के लक्षण तेज बुखार, सूखी खांसी, कमजोरी, गले में खराश एवं श्वांस लेने में तकलीफ है। चीन के वुहान शहर एवं प्रभावित क्षेत्रों से आने वाले व्यक्ति से इस संक्रमण के फैलने की संभावना होती है।

आपको बताते चले कि अभी तक मध्यप्रदेश में 'कोरोना वायरस' के इतने मामले आ चुके है-

मिली जानकारी के अनुसार उज्जैन में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मरीज़ मिले हैं, ये दोनों मां और बेटा हैं। आपको बता दें कि, चीन में पढ़ने वाले एक छात्र के वापस लौटने के बाद उसमें कोरोना वायरस के संदिग्ध लक्षण पाए गए, बताया जा रहा है कि, दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

खरगोन जिले के छात्र हुबेई प्रॉविन्स की शियान सिटी के एक मेडिकल कॉलेज के छात्र हैं और मेडिकल की पढ़ाई के लिए गए हुए हैं। चीन में फैले इस वायरस से जहां इमरजेंसी की हालात बन रहे हैं, वहीं एयर सर्विस और यातायात व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है। जिसके चलते छात्रों ने वीडियो के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी से देश वापस बुलाने और मदद करने की अपील की, वहीं छात्रों के परिजनों ने भी छात्रों के कुशलतापूर्वक वापस लौटने की केंद्र और प्रदेश सरकार से मदद की गुहार लगाई है।

बता दें कि, कोरोना वायरस की चपेट में आने से कई की मौत हो गई है। दुनिया भर में आतंक का पर्याय बने कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज ग्वालियर में भी सामने आ गया है। मरीज को उपचार के लिए जयारोग्य अस्पताल के मेडिसिन विभाग में भर्ती कराया गया है। जहां डॉक्टर ने उसके संदिग्ध होने की पहचान कर ली। लेकिन पहचान होने के बाद डॉक्टर ने लापरवाही बरती और मरीज बिना किसी को बताए गायब हो गया। इसकी सूचना मिलते ही प्रशासन ने अलर्ट जारी किया और मरीज की ढुंढाई शुरू हुई। सख्ती बरतने के बाद मरीज सामने आया और उसका उपचार शुरू किया गया। गंभीर बीमारी के लक्षण मिलने पर भी मरीज की अनदेखी करने पर सीएमएचओ ने डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

चीन में फैले प्राणघातक कोरोना वायरस का कहर अब देश समेत प्रदेश में भी दस्तक दे चुका है जिसके चलते कई संदिग्ध मामले आ रहे हैं सामने। ऐसे ही मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले से कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज के अस्पताल से गायब होने का ताजा मामला आया है। दरअसल मरीज युवक 14 जनवरी को भारत लौटा था और लक्षण दिखाई देने पर जिला अस्पताल में भर्ती था। मरीज के ऐसे गायब होने से अस्पताल में हड़कंप मच गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co