MP गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किया DTV लांच, लोग बनेंगे डिजिटल साक्षर
MP गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किया DTV लांच, लोग बनेंगे डिजिटल साक्षरSocial Media

MP गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किया DTV लांच, लोग बनेंगे डिजिटल साक्षर

मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री श्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने डिजिटल ट्रांसफॉरमेश वैन (DTV) का लोकार्पण किया। उस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री की भारत को डिजिटल बनाने की सोच को लेकर बताया।

भोपाल, मध्य प्रदेश। भारत में पिछले काफी सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सोच के तहत भारत को डिजिटल बनाने के लिए काफी काम किए है। वहीँ उनकी चाह देश को पूरी तरह डिजिटल बनाने की है । इस सोच को आगे बढ़ाने का काम इंडस टॉवर समूह बखूबी कर रहा है। वहीं, अब प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री श्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने डिजिटल ट्रांसफॉरमेश वैन (DTV) का लोकार्पण किया। उस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री की सोच को लेकर बताया।

नरोत्तम मिश्रा ने किया DTV वैन का लोकर्पण :

दरअसल, DTV वैन के लोकर्पण कार्यक्रम में प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री श्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सदा यही सोच रही है कि देश को पूर्ण रूप से डिजिटल बनाया जाए। इस सोच को आगे बढ़ाने का काम इंडस टॉवर समूह बखूबी कर रहा है।' बताते चलें, डिजिटल शिक्षा और कौशल विकास के द्वारा युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के मकसद से इंडस टॉवर्स समूह ने एक नई पहल की है। इस पहल के तहत समूह ने एक डिजिटल ट्रांसफॉरमेश वैन (DTV) शुरू की है। इस कार्यक्रम में कई लोगों ने हिस्सा लिया।

कार्यकम के दौरान लोगों ने राखी अपनी बात :

इस कार्यक्रम के दौरान इंडस टॉवर्स के मुख्य परिचालन अधिकारी (COO) तेजिंदर कालरा ने कहा कि, 'अधिक से अधिक लोगों को डिजिटल शिक्षा देना बहुत जरूरी है।' जबकि, मीडिया एक्सपर्ट एवं अम्बर कॉन्ट्रैक्टर के नवीन पुरोहित ने कहा कि, 'कोरोना काल में वर्चुअल शिक्षा का महत्व समझ में आया है। डिजिटल साक्षरता के इस अभियान के तहत सिर्फ भोपाल में ही 12 जगहों पर वैन द्वारा शिक्षा प्रदान की जाएगी।'

DTV वैन की खासियत :

  • यह वैन भोपाल सहित मध्यप्रदेश के ग्रामीण और शहरी मलिन बस्तियों में जरूरतमंद बच्चों, युवाओं और महिलाओं को डिजिटल शिक्षा प्रदान करेगी।

  • यह वैन कंप्यूटर साक्षरता प्रदान करने के साथ—साथ लोगों केा आईटी-सक्षम शिक्षा के लिए संसाधनों का उपयोग करने के तौर तरीके भी बताएगी।

  • ये वैन में पढ़ने के लिए लोगों को वैन के पास नहीं आना होगा, जबकि वैन खुद उनके मोहल्ले में जाकर शिक्षा प्रदान करेगी।

  • डीटीवी सिर्फ कंप्यूटर शिक्षा ही नहीं देगी, अपितु दुनिया भर में चल रहे घटनाक्रमों की जानकारी से भी लोगों को रूबरू कराएगी।

  • 20 सीटों वाली वैन सौर ऊर्जा से संचालित होगी।

  • वैन में कंप्यूटर, प्रिंटिंग तकनीक और ई-लर्निंग टूल्स के साथ-साथ लाइव-मॉनिटरिंग सुविधाएं भी उपलब्ध है।

  • यह वैन मोबाइल सुविधा के साथ विभिन्न सरकारी कार्यक्रमों और पहल को आम लोगों तक आसानी से पहुंचाएगी।

  • इससे 114,000 लोगों को कंप्यूटर शिक्षा दी है।

  • अकेले इंडस डीटीवी बस के माध्यम से 1900 लोगों को डिजिटल साक्षर बनाया है।

  • एक वर्ष में ही भोपाल, मध्य प्रदेश के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में कुल 11,000 से अधिक लोगों को इससे लाभ हुआ है।

इंडस टॉवर्स समूह का लक्ष्य :

इंडस टॉवर्स समूह ने प्रदेश के हजारों लोगों को डिजिटली साक्षर बनाने के लक्ष्य के साथ इस वैन की शुरुआत की है। वैन में शिक्षा देने का लक्ष्य कुछ इस तरह रखा गया है कि पुस्तकी शिक्षा के अलावा जीवन के अन्य पहलुओं से भी लोगों को जागरुक किया जाए। इंडस टॉवर्स समूह द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, पहले से ही वोडाफोन के साथ प्रोजेक्ट 'लर्निंग' संचालित किया है।

गृहमंत्री का कहना :

भोपाल में वैन (डीटीवी) को हरी झंडी दिखाते हुए मध्यप्रदेश के माननीय गृह मंत्री श्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा, “मध्य प्रदेश में डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए इंडस टॉवर्स द्वारा किए जा रहे प्रयासों की मैं सराहना करता हूं। यह पहल विशेष रूप से ग्रामीण और शहरी मलिन बस्तियों में वंचित बच्चों, युवाओं और महिलाओं के लिए लाभकारी सिद्ध होगी। डिजिटल क्षेत्र में तेजी से विस्तार होगा। भारत सबसे बड़े डिजिटल बाजारों में शामिल करने के लिए यह पहल सार्थकता प्रदान करेगी। भारत सरकार की 'डिजिटल इंडिया' अभियान के दृष्टिकोण का समर्थन करेग। मैं मध्य प्रदेश के लोगों से आग्रह करता हूं कि वे इस अवसर का लाभ उठाएं और अपनी डिजिटल साक्षरता बढ़ाने के लिए आगे आएं।''

इंडस टावर्स के चीफ का कहना :

इंडस टावर्स के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर तेजिंदर कालरा ने कहा, "हम भारत सरकार की डिजिटल इंडिया की पहल के अनुरूप आगे बढ़ रहे हैं। इंडस डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन वैन वंचित समुदायों को लाभ पहुंचाएगी। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के माध्यम से डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिबद्धता हमेशा बनी रहेगी।"

क्या है इंडस डीटीवी ?

इंडस टॉवर्स समूह अन्य राज्यों में डीटीवी का संचालन पहले से कर रहा है। बता दें, साल 2018 से में वडोदरा में इसे लांच किया गया था। तब इंडस डीटीवी ने ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को कवर करते हुए 35 स्थानों प्रशिक्षण प्रदान किया था। इसके तहत लगभग 60,000 लाभार्थियों को को डिजिटली साक्षर किया था। इंडस टॉवर्स 30 जून 2021 तक अपने 180,997 टॉवरों के साथ 325,355 सह-स्थानों पर मौजूद है। 22 दूरसंचार सर्किलों को कवर करने वाली इंडस कंपनी की राष्ट्रव्यापी उपस्थिति है। इंडस टॉवर्स भारत में लाखों लोगों के लिए संचार की सुविधा आसान बना रहा है। कंपनी स्मार्ट सिटी मिशन की दिशा में भविष्य के लिए तैयार दूरसंचार टॉवर बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.