एमपी देश का पहला राज्य जहां अब सरकारी कार्यक्रम कन्या पूजन से होंगे शुरू
प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम में कन्या-पूजन करते शिवराज सिंहSocial Media

एमपी देश का पहला राज्य जहां अब सरकारी कार्यक्रम कन्या पूजन से होंगे शुरू

भोपाल, मध्य प्रदेश : 2014 में सबसे पहले मुख्यमंत्री ने मंत्रालय कर्मचारियों के कार्यक्रम में किया था पूजन। सामान्य प्रशासन विभाग ने समस्त कलेक्टरों और कमिश्नर को किए आदेश जारी।

भोपाल, मध्य प्रदेश। मध्य प्रदेश शायद देश का पहला राज्य होगा जहां सरकारी कार्यक्रम अब बेटियों के पूजन से शुरू किए जाएंगे। गुरुवार को इस संदर्भ में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा समस्त कलेक्टरों और आयुक्त संभागों को आदेश जारी कर दिए गए हैं। बताना होगा कि वर्ष 2014 में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मंत्रालय में कर्मचारियों द्वारा आयोजित किए गए एक कार्यक्रम की शुरुआत कन्या पूजन से की गई थी। इसके बाद उन्होंने 15 अगस्त के कार्यक्रम में घोषणा की थी कि निकट भविष्य में सरकार के जो भी कार्यक्रम होंगे वह कन्या पूजन से शुरु किए जाएंगे। इस घोषणा का परिपालन करते हुए सामान्य प्रशासन विभाग के उप सचिव डीके नागेंद्र द्वारा आदेश जारी किया गया। जिसमें उल्लेख है कि अब प्रदेश में जितने भी सरकारी कार्यक्रम होंगे उनकी शुरुआत कन्या पूजन से की जाएगी।

आदेश की प्रति
आदेश की प्रतिRaj Express

मंत्रालय कर्मचारी संघ ने मुख्यमंत्री का जताया आभार :

इस संदर्भ के आदेश जारी होते ही मंत्रालय कर्मचारी संघ द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आभार जताया गया है। संगठन के अध्यक्ष इंजीनियर सुधीर नायक ने कहा कि आज समाज में जिस तरह बच्चियों के उत्पीड़न की घटनाएं सामने आ रही हैं उनसे हर जिम्मेदार भारतीय का सर शर्म से झुक जाता है। यक़ीन नहीं आता कि यह वही भारत देश हैं जहां पर कन्या पूजन के बगैर कोई धार्मिक कार्यक्रम पूर्ण नहीं माना जाता या फिर यह वही भारत देश है, जहां पर कहा गया है कि "यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता" अर्थात् जहां नारियों की पूजा होती है, देवता वहीं निवास करते हैं। शासन के इस निर्णय से बच्चियों के सम्मान के प्रति हमारे प्राचीन दृष्टिकोण की बहाली होगी।

शनै: शनै: निजी संस्थाएं भी इस परंपरा को अपनायेंगी और बच्चियों के प्रति सकारात्मक माहौल का निर्माण होगा। श्री नायक के अनुसार अधिकृत रूप से यह निर्णय आज 24 दिसंबर 2020 को जारी हुआ है लेकिन हम अपने मंत्रालयीन साथियों को याद दिलाना चाहते हैं कि मुख्यमंत्री ने कन्या पूजन की शुरुआत 2014 में मंत्रालयीन कर्मचारी संघ द्वारा आयोजित दीपावली मिलन समारोह में पहली बार कन्या पूजन कर की थी। उसके बाद से पूरे प्रदेश के कार्यक्रमों में अनौपचारिक रूप से कन्या पूजन होने लगा था। अब उसे आफीशियल रुप दिया गया है। हम मंत्रालयीन कर्मचारी संघ के कार्यक्रमों में भी कन्या पूजन की इस परंपरा को जारी रखेंगे। आज भी 2014 के मंत्रालयीन कर्मचारी संघ के उस कार्यक्रम का चित्र प्रदर्शित है जिसमें सर्वप्रथम कन्या पूजन किया गया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co