वैक्सीनेशन महा अभियान और कई मुद्दों पर MP के चिकित्सा शिक्षा मंत्री का बयान
वैक्सीनेशन महा अभियान और कई मुद्दों पर MP के चिकित्सा शिक्षा मंत्री का बयानSyed Dabeer Hussain - RE

वैक्सीनेशन महा अभियान और कई मुद्दों पर MP के चिकित्सा शिक्षा मंत्री का बयान

मध्य प्रदेश में अब 6 करोड़ से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। वहीं, वैक्सीनेशन महा अभियान को लेकर मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने अपना बयान दिया। साथ ही अन्य कई मुद्दों पर भी चर्चा की।

भोपाल, मध्य प्रदेश। पिछला साल 2020 कोरोना के चलते दुनियाभर के लिए काफी बुरा साबित होने के बाद नए साल की शुरुआत कई देशों में कोरोना की वैक्सीन को आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के साथ हुई। इन देशों में भारत का नाम भी शामिल है। इस साल की शुरुआत से ही भारत में दो वैक्सीन के साथ वैक्सीनेशन शुरू किया गया। वहीं, वैक्सीनेशन की इस कड़ी में अब हर राज्य हर प्रदेश आगे बढ़ता जा रहा है। इन्हीं में शुमार मध्य प्रदेश में अब 6 करोड़ से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। वहीं, अब वैक्सीनेशन महा अभियान को लेकर मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने अपना बयान दिया। साथ ही अन्य कई मुद्दों पर भी चर्चा की।

मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री का बयान :

दरअसल, आज हर राज्य में वैक्सीनेशन तेज कर दिया गया है। जिससे जल्द से जल्द कोरोना वायरस को मात दी जा सके। इसी कड़ी में मध्य प्रदेश में वैक्सीनेशन महा अभियान चलाया जा रहा है। वहीं, इस अभियान को लेकर मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने एक बयान साझा किया है। इस बयान में उन्होंने कहा है कि, 'हमारा लक्ष्य इस महीने में 100% लोगों को वैक्सीन का पहला डोज लग जाने का है। हमें उम्मीद है कि, आज बहुत हद तक इस लक्ष्य को पूरा करने में हम सफल हो जाएंगे। इंदौर-भोपाल में 100% पहला डोज लगने के बाद तेजी से दूसरा डोज लगाया जा रहा है। सेकंड डोज को लेकर भोपाल के सेंटरों पर काफी उत्साह देखा जा रहा है। जहां पहला डोज 100% नहीं लगा है वहां उम्मीद है कि आज पूरा लगा दिया जाएगा।'

जिलों को दिए गए निर्देश :

बताते चलें, मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग जिलों में निर्देश दिए गए थे कि, 'पात्र हितग्राहियों की सूची को रिकन्साइल किया जाए। बहुत से हितग्राहियों का नाम सूची में है, लेकिन वो भौतिक रूप से उपस्थित नहीं है। जबकि, कुछ लोग शिक्षा, नौकरी के चलते शहर से बाहर गए हुए हैं। इसलिए सूची का फिर से मूल्यांकन किया जाएगा, जिससे पात्र हितग्राही 100% वैक्सीनेट हो जाएं।' उन्होंने बताया है कि, 'आज शाम तक प्रदेश के कई जिलों को 100% वैक्सीन का पहला डोज लगा दिया गया है।'

दिग्विजय सिंह के बयान दिया करार जबाव :

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने अपना बयान दिग्विजय सिंह के बयान पर साझा किया है। साथ ही उन्होंने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए कहा है कि, 'दिग्विजय सिंह यदि सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़ लेते तो उनके संस्कार अच्छे हो जाते। वह इस तरह की अनर्गल बातें कर पाकिस्तान परस्ती की बात नहीं करते। वह देश को तोड़ने और विध्वंस की बातें नहीं करते। इसके अलावा यदि सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़े होते तो दिग्विजय सिंह आतंकवाद को संरक्षण देने की बात नहीं करते। साथ ही मैं दिग्विजय सिंह से अनुरोध करता हूं कि, वह सरस्वती शिशु मंदिर में आए और फिर से पढ़ाई करें।

किसान आंदोलन को लेकर मंत्री का बयान :

भोपाल में हो रहे किसान आंदोलन को लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा है कि, 'अधिकतर किसान BJP सरकार के साथ हैं। किसान जानते हैं कि उनके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी BJP और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जितना किया शायद उतना कांग्रेस की किसी सरकार ने कभी नहीं किया। अच्छा रहता दिग्विजय सिंह उस समय धरना देते जब मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार थी। अच्छा होता कमलनाथ उस समय किसानों के साथ खड़े होते जब कांग्रेस सरकार में किसानों को बीज और खाद को लेकर समस्या हो रही थी। विध्वंस और विद्वेष की राजनीति करने की दिग्विजय सिंह की आदत है। अपनी राजनीतिक हैसियत ढूंढने के लिए दिग्विजय सिंह इस तरह के प्रपंच कर रहे हैं।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.