लचर प्रशासनिक व्यवस्था का शिकार हो रही जनता
लचर प्रशासनिक व्यवस्था का शिकार हो रही जनता|Social Media
मध्य प्रदेश

लचर प्रशासनिक व्यवस्था का शिकार हो रही जनता, कर्मचारी काट रहे कन्नी

मध्य प्रदेश के पनागर में नगरपालिका प्रशासन पनागर में लापरवाही का अंबार लगा हुआ है एवं गरीबी रेखा कार्ड राशन कार्ड धारी पात्रता धारी भटक रहे हैं।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश के पनागर में नगरपालिका प्रशासन पनागर में लापरवाही का अंबार लगा हुआ है एवं पेंशन धारी गरीबी रेखा कार्ड राशन कार्ड धारी पात्रता पर्ची टैक्स आदि सेवाओं के लिए लोगों को नगर पालिका प्रशासन भटका रहा है, जिससे आम जनता बहुत परेशान हो रही है एवं काम करवाने के लिए नेताओं के कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

वहीं पनागर पदस्थ सीएमओ के पास फैली अव्यवस्थाओं को लेकर कोई जवाब नहीं है। कोरोना का बहाना बनाकर संपूर्ण स्टाफ आमजन को भटका रहा है, जिसको लेकर नगरपालिका का विरोध नगर वासियों द्वारा सोशल मीडिया में किया जा रहा है।

23 मार्च से चल रहे लॉकडाउन में प्रशासन स्तर पर यह आदेश हुआ था कि नगर पालिका द्वारा सैनिटाइजर एवं मास्क बांटे जाएंगे लेकिन नगरपालिका द्वारा सैनिटाइजर खरीदा तो गया लेकिन आम जनता तक नहीं पहुंचाया गया वह केवल बड़े नेता और प्रभावशाली लोगों के फोन पर उनके घर पहुंचा एवं भंडार विभाग द्वारा इसके जवाब में चुप्पी साधी गई।

जलकर हुआ मकान टैक्स इसकी अवधि को सरकार द्वारा बढ़ाया गया है लेकिन जब लोगों ने टैक्स जमा करने नगरपालिका गए तो वहां उपस्थित कर्मचारियों ने सीएमओ का हवाला देकर बताया कि टैक्स पर पेनाल्टी को लगेगी जब संजय सोनी से इस विषय में बात की तो उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ऑनलाइन कार्य का हवाला दे दिया, वहीं राशन कार्ड धारी पात्रता पर्ची मृत्यु प्रमाण पत्र एवं अन्य सेवाओं को विभाग प्रमुख द्वारा पूर्णता प्रभावित कर दिया गया है।

जब इस विषय में विभाग प्रभारी कल्पना दीक्षित से बात की तो उन्होंने बताया कि, ऑनलाइन से ही सब कुछ चलता है अभी काम करने में परेशानी हो रही है ऐसा जवाब हितग्राहियों को दिया जाता है बेबस हितग्राही निराशा से नगर पालिका से लौट आते हैं, जिस में मुख्य रुप से बुजुर्ग पेंशन धारी एवं कोरोना लॉक डाउन की चपेट में आए हुए ऐसे लोग होते हैं जिन्हें राशन की सख्त आवश्यकता होती है लेकिन नगर पालिका प्रशासन द्वारा किसी प्रकार की कोई मदद नहीं की जा रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co