Nagda : पेयजल की गुणवत्ता को लेकर कांग्रेस को जवाब भाजपाई दे नहीं पाए
पेयजल की गुणवत्ता को लेकर कांग्रेस को जवाब भाजपाई दे नहीं पाएRaj Express

Nagda : पेयजल की गुणवत्ता को लेकर कांग्रेस को जवाब भाजपाई दे नहीं पाए

पूर्व विधायक के नेतृत्व में फिल्टर प्लांट पर निरीक्षण करने गए भाजपा नेता शुद्व पानी के लिए अधिकारियों को निर्देश देने की जगह भाजपाई आपस में भीड़ लिए। शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

नागदा जंक्शन, मध्यप्रदेश। नपा द्वारा सप्लाई किये जा रहे अशुद्व पेयजल को लेकर पिछले सवा माह से भी अधिक समय से विवाद चल रहा है। फिर भी पानी की गुणवत्ता में कोई सुधार नहीं हो रहा है। कांग्रेस मामले में भाजपा को निशाना बना रही है। पूर्व विधायक के नेतृत्व में फिल्टर प्लांट पर निरीक्षण करने गए भाजपा नेता शुद्व पानी के लिए अधिकारियों को निर्देश देने की जगह भाजपाई आपस में भीड़ लिए। शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

भीषण गर्मी के चलते 22 करोड़ से भी अधिक की लागत से आधुनिक फिल्टर प्लांट से सप्लाई होने वाले पेयजल गुणवत्ताहीन होने को लेकर पिछले सवा माह से भी अधिक समय से कांग्रेस व विधायक दिलीपसिंह गुर्जर शहर में शुद्व पेयजल सप्लाई को लेकर नपा अधिकारियों के साथ भाजपाईयों पर भी निशाना साध रहे है। फिल्टर प्लांट का निर्माण भाजपा परिषद् में हुआ है। निर्माण में भष्ट्राचार के भी आरोप लग रहे है। फिल्टर प्लांट का निर्माण को सही बताते हुए भाजपा नेता देखरेख के अभाव में अशुद्व पानी सप्लाई की बात कर रहे है। लगातार आरोप झेल रहे भाजपा नेता बुधवार को पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत, लालसिंह राणावत, पूर्व नपाध्यक्ष अशोक मालवीय, भाजपा जिलामंत्री धर्मेश जायसवाल, भाजपा मंडल अध्यक्ष सीएम अतुल पानी की गुणवत्ता को सुधारने के लिए नपा अधिकारियों के साथ फिल्टर प्लांट का निरीक्षण कर इलेक्ट्रानिक मीडिया को वर्जन देने को लेकर पूर्व नपाध्यक्ष अशोक मालवीय व जिलामंत्री धर्मेश जायसवाल वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में दोनो में कहासुनी हो गई। इनको लड़ते देख भाजपा के वरिष्ठ नेता भी समझाईश देने की जगह चुप्पी साधे खड़े रहे। अनुशासित संगठन मानी जाने वाली भाजपा के पदाधिकारी मीडिया के समक्ष छोटी सी बात को लेकर लडऩे से पार्टी की छबी पर बट्टा लगा है। इसको लेकर कई गुटो में बटी कांग्रेस भाजपा पर हावी होते हुए नजर आ रही है। विधानसभा चुनाव नजदीक है ऐसे में भाजपा की यह गुटबाजी फिर से क्षेत्र में परचम कांग्रेस के हाथ में दे सकती है।

इनका कहना :

लड़ाई जैसी कोई बात नहीं है, कार्यकर्ता है, नोकझोंक होती रहती है।

धर्मेश जायसवाल, भाजपा, ग्रामीण जिलामंत्री

वर्जन देने को लेकर जासयवाल द्वारा रोका गया था। मैंने उन्हें समझाया की फिल्टर प्लांट मेरे कार्यकाल में बना है। इसकी तकनीकी जानकारी मुझे है। इसको लेकर वह थोड़े नाराज हो गये थे। विवाद जैसी कोई बात नहीं है।

अशोक मालवीय, पूर्व नपाध्यक्ष

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.