Bhopal : दिग्विजय सिंह के संकल्प के पूरा होने का दस्तावेज है नर्मदा के पथिक
दिग्विजय सिंह के संकल्प के पूरा होने का दस्तावेज है नर्मदा के पथिकSocial Media

Bhopal : दिग्विजय सिंह के संकल्प के पूरा होने का दस्तावेज है नर्मदा के पथिक

भोपाल, मध्यप्रदेश : पूर्व मुख्यमंत्री की नर्मदा परिक्रमा पर आधारित पुस्तक का विमोचन। अनेक वक्ताओं ने अपने संस्मरणों को सुनाते हुए पुस्तक के लेखक ओपी शर्मा को दी बधाई।

भोपाल, मध्यप्रदेश। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा वर्ष 2017 में की गई नर्मदा परिक्रमा के वृतांत को पुस्तक के रूप में ओपी शर्मा ने नर्मदा के पथिक नामक पुस्तक में लिखा है। इस पुस्तक के विमोचन समारोह में अनेक वक्ताओं ने अपने संस्मरणों को सुनाते हुए इस पुस्तक के लेखक श्री शर्मा और दिग्विजय सिंह को इस कार्य के लिए बधाई दी।

इस परिक्रमा में पूर्व सीएम के साथ उनके अनेकों सहयोगी और सहयात्री भी पैदल परिक्रमा कर रहे थे उन्हीं में से एक सहयोगी व सहयात्री ओमप्रकाश शर्मा ने पहले ही दिन की परिक्रमा के बाद रोज के अनुभवों को अपने डायरी में लिखना शुरू कर दिया था और बाद में उन्होंने अपने सारे अनुभवों को एक पुस्तक की शक्ल दी और नर्मदा के पथिक नामक करीब 410 पृष्ठों की किताब की रचना की। वास्तव में दिग्विजय सिंह के संकल्प के पूरा होने का दस्तावेज है नर्मदा के पथिक।

नर्मदा के पथिक पुस्तक का विमोचन मध्यप्रदेश विधानसभा के मानसरोवर ऑडिटोरियम में एक गरिमामय समारोह में हिंगलाज सेना की राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज के प्रतिनिधि लक्ष्मीमणी शास्त्री, गुजरात के मंगलेश्वर आश्रम से ज्योति दीदी, करुणाधाम आश्रम के शांडिल्य महाराज, खंडवा के दादा धुनि दरबार के छोटे सरकार, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, अमृता राय, पूर्व सांसद रामेश्वर नीखरा, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, कांतिलाल भूरिया, राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, मध्यप्रदेश युवक कांग्रेस के अध्यक्ष विक्रांत भूरिया, पुस्तक के प्रकाशक पंकज सुबीर व लेखक ओमप्रकाश शर्मा के करकमलों से सम्पन्न हुआ।

पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम की शुभारंभ में होशंगाबाद से पधारे ब्राह्मणों ने नर्मदाष्टक का संगीतमय पाठ किया। पूर्व सांसद रामेश्वर नीखरा ने स्वागत भाषण दिया। नर्मदा के पथिक पुस्तक के लेखक ओपी शर्मा ने पुस्तक का परिचय और उससे संबंधित वृत्तांत सुनाए। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की धर्मपत्नी व नर्मदा परिक्रमा में सहयात्री रहीं अमृता राय ने अपने उद्बोधन में नर्मदा परिक्रमा के दौरान के अनुभव सुनाए साथ ही पर्यावरण संरक्षण की बात की। पुस्तक विमोचन कार्यक्रम को आशीर्वाद देने पधारे सभी साधु-महात्माओं और साध्वियों ने आशीर्वचन दिए।

साधु महात्माओं के आशीर्वचन के बाद पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने अपने उद्बोधन में बरमान की महिमा का वर्णन किया। भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि आज का दिन दिग्विजय सिंह का है और हम सभी उन्हीं को सुनने आए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने दिग्विजय सिंह की तुलना महात्मा गांधी से कर बताया कि जिस तरह महात्मा गांधी चलते हुए कभी नहीं थकते थे उसी तरह दिग्विजय सिंह ने इतनी लंबी दूरी की परिक्रमा कर सभी को प्रेरणा दी।

राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने अपने संबोधन में कहा कि दिग्विजय सिंह ने परिक्रमा के संकल्प के बारे में मुझे बताया था। श्री तन्खा ने कहा कि कोई माने या न माने मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार दिग्विजय सिंह की नर्मदा परिक्रमा करने के बाद ही बनी। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने लेखक ओपी शर्मा की सराहना की। उन्होंने दिग्विजय सिंह के साथ चले सभी परिक्रमा वासी जो कार्यक्रम में उपस्थित थे उनको बधाई दी। पीसी शर्मा ने कहा कि उन्हें अपने गृह ग्राम में परिक्रमावासियों की सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ और दिग्विजय सिंह ने अपनी राज्यसभा निधि से यात्री निवास के लिए पांच लाख रुपए की राशि परिक्रमा के दौरान ही स्वीकृत की थी।

शिवना प्रकाशन के प्रकाशक पंकज सुबीर ने अपने उद्बोधन में कहा कि मैंने अपने जीवन में किसी पुस्तक का इतना ऐतिहासिक विमोचन कार्यक्रम कभी नहीं दिखा। कार्यक्रम के अंत में पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि नर्मदा तट पर रहने वालों के चरणों में नमन करता हूं। नर्मदा जी के सदा वृत की प्रथा है, लोगों के घर में खाना नहीं होगा, दाना नहीं होगा तो मांग कर लाएगा, खिलाएगा लेकिन भूखा नहीं सोने देगा। उन सब के प्रति आभार बहुत बहुत धन्यवाद।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.