स्थानीय युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक ट्रेड में प्रशिक्षित कर रही है एनसीएल
स्थानीय युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक ट्रेड में प्रशिक्षित कर रही है एनसीएलPrem N Gupta

स्थानीय युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक ट्रेड में प्रशिक्षित कर रही है एनसीएल

निगमित सामाजिक दायित्व के तहत चल रहे इस कार्यक्रम में कुल 480 स्थानीय युवा एचईएमएम मैकेनिक, माइन इलेक्ट्रीशियन, माइन वेल्डर, डाटा एंट्री ऑपरेटर इत्यादि संवर्गों में अत्याधुनिक प्रशिक्षण ले रहे हैं।

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के सीईटीआई प्रांगण में पूर्णत: सुसज्जित एवं संचालित खनन कौशल केंद्र में आस पास के क्षेत्र के युवाओं को रोजगारपरक प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है।

निगमित सामाजिक दायित्व के तहत चल रहे इस कार्यक्रम में कुल 480 स्थानीय युवा एचईएमएम मैकेनिक, माइन इलेक्ट्रीशियन, माइन वेल्डर, डाटा एंट्री ऑपरेटर इत्यादि संवर्गों में अत्याधुनिक प्रशिक्षण ले रहे हैं। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग सेक्टर (एससीएमएस) के सहयोग से संचालित किया जा रहा है।

प्रेक्टिकल कक्षाओं पर है विशेष ज़ोर :

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए निर्धारित पाठ्यक्रम में लगभग 70 प्रतिशत प्रेक्टिकल व 30 प्रतिशत थ्योरी की कक्षाओं का प्रावधान है। कोविड के चलते यह प्रशिक्षण हाइब्रिड मोड में दिया जा रहा है जिसमें प्रशिक्षुओं को थ्योरी की कक्षाएं वर्चुअल माध्यम से दी जा रही हैं। साथ ही प्रैक्टिकल कक्षाएं कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए अलग अलग शिफ्ट में चल रही हैं।

परियोजना प्रभावित एवं स्थानीय अभ्यर्थियों को मिली है वरीयता :

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए चुने जाने वाले युवाओं में पहली प्राथमिकता परियोजना प्रभावित अभ्यर्थियों(पीएपी) व एनसीएल के 25 किलोमीटर के दायरे में रहने वाले योग्य अभ्यर्थियों को तथा दूसरी प्राथमिकता सिंगरौली व सोनभद्र जिले के योग्य अभ्यर्थियों को दी गयी है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश के अन्य जनपदों के अभ्यर्थी भी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं।प्रशिक्षण के लिए चुने गए 40 प्रतिशत अभ्यर्थी गरीबी रेखा से नीचे के हैं तथा अन्य 40 प्रतिशत प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से परियोजना प्रभावित हैं।

एनसीएल में मिलेगा अप्रेंटिसशिप का अवसर :

इस कार्यक्रम के तहत निर्धारित प्रशिक्षण एवं उससे जुड़े अहर्ता को पूरा कर अंतिम परीक्षा में 70 प्रतिशत अंक लाने वाले अभ्यर्थियों को एनसीएल में अप्रेंटिस के रूप में कार्य करने का अवसर मिलेगा। एनसीएल में अपप्रेंटिसशिप पूरी करने के पश्चात, एमओयू के अनुसार, स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग (एससीएमएस) के सहयोग से कम से कम 70 प्रतिशत अभ्यर्थियों को निजी क्षेत्र में रोजगार उपलब्ध कराने हेतु मदद की जाएगी।

प्रशिक्षुओं के सर्वांगीण विकास के लिए सिलेबस में खेल-कूद, ग्रुप डिस्कशन, चुने गए विषयों पर मंथन, उद्यमिता व डिजिटल साक्षारता पर सत्र, राष्ट्रीय त्योहारों को मनाना आदि शामिल किया गया है जिससे उनके व्यक्तित्व में निखार आ रहा है।

भारत सरकार के स्किल इंडिया कार्यक्रम के तहत संचालित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में उत्तीर्ण प्रशिक्षुओं को “नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क (एनसीक्यूएफ़)-4 के अनुसार प्रमाणपत्र भी दिया जाएगा, जिससे अभ्यर्थियों को भविष्य में भी रोजगार सुलभ होंगे और साथ ही वह स्वरोजगार की दिशा में भी आगे बढ़ सकते हैं।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co