Raj Express
www.rajexpress.co
बक्स्वाहा समूह नल जल योजना
बक्स्वाहा समूह नल जल योजना|Kavita Singh Rathore - RE
मध्य प्रदेश

सागर: L&T की लापरवाही से करोड़ों की नल जल योजना पर फिर न जाये पानी

सागर, बंडा। L&T कंपनी द्वारा बिछाई गई पाइप लाइन को बिछाने में लापरवाही की गई है, जिसके चलते करोड़ों रूपये की लगत वाली बक्स्वाहा समूह नल जल योजना क्षेत्र वासियों के लिए केवल स्वप्न बनकर न रह जाये।

Surya Kumar Dubey

राज एक्सप्रेस। ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर तक पानी पहुंच सके इसके लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान समूह नल जल योजना की स्वीकृति बंडा विधान सभा के लिए दी थी। जिसमें बंडा एवं शाहगढ़ क्षेत्र के 124 ग्रामों को फायदा मिलना है। बक्स्वाहा समूह नल जल योजना के माध्यम से हर घर पाइप लाइन के सहारे पानी पहुंचाने का कार्य किया जाना है। बक्स्वाहा-सागर समूह नल जल योजना में सागर, दमोह, छतरपुर जिले के 6 विकास खंडों के 299 ग्रामों को शामिल किया गया है इन ग्रामों में पगरा बांध से पानी पहुंचेगा। जिसकी लागत 335.98 करोड़ रूपये है।

L&T कंपनी की लापरवाही :

लार्सन एंड टर्बो (L&T) कंपनी द्वारा लापरवाही पूर्वक बिछाई गई पाइप लाइन के कारण करोड़ों की यह योजना बंडा क्षेत्र वासियों के लिए केवल स्वप्न बनकर न रह जाये, क्योकि जितनी गहराई और सुरक्षा के साथ इस पाइप लाइन को बिछाया जाना चाहिये था, उतनी गहराई से इस पाइप लाइन को नहीं बिछाया गया है। जानकारी के अनुसार, यह पाइप लाइन एक मीटर की गहराई में दबाना जरूरी होता है। मतलब पाइप को जमीन में दबाने के बाद एक मीटर की मिट्रटी की लेयर पाइप के उपर होना अनिवार्य है, लेकिन यहाँ जो पाइप लाइन बिछाई गई है उनमे कई जगह पर कम गहराई में ही पाइप लाइन बिछा दी गई है। जिससे पाइप पर भारी दबाब आने पर फूटने की आशंका है।

गर्मियों में किसान फोड़ सकते है पाइप लाइन :

गर्मियों में किसानों को सिचाई के लिए भारी परेशानियों से गुजरना पड़ता है। L&T कंपनी द्वारा कम गहराई में और बिना सुरक्षा व्यवस्था किये पाइपों को कई किसानों के खेत में बिछा दिया गया है, जिससे गर्मियों में किसान पाइपों को फोड़ कर पानी ले सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो, बक्स्वाहा समूह नल जल योजना का लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल सकेगा।

इस तरह करनी थी सुरक्षा :

  • जमीन के नीचे बिछाई पाइप लाइन के उपर एक मीटर की मिट्रटी-पत्थरों की परत डाली जाती है, लेकिन सुरक्षा के हिसाब से ये कम हैं।

  • जहां कम गहराई में पाइप लाइन बिछाई गई है, वहां पाइप लाइन के उपर सीमेंट क्राकीट की परत बिछाई जानी थी, जिससे कोई व्यक्ति पाइप लाइन को क्षति ने पहुंचा सके।

अन्य कार्यो में भी हो रही लापरवाही :

यह सिर्फ एक पाइप लाइन मामला नहीं है जिसमे L&T कंपनी द्वारा लापरवाहियां की गई है, ऐसे कई मामले है जिनमे L&T कंपनी द्वारा लगातार लापरवाही की जा रही है। यह चाहे पानी की टंकियों के निर्माण के मामले हो या वन विभाग से संबंधित मसला हो।

विधायक का कहना है :

बंडा के विधायक तरवर सिंह लोधी का कहना है कि, "कंपनी की अनियमितताओं के संबंध में विधान सभा में प्रश्न में रखा है। यदि ये सुधार नहीं करते हैं तो सक्षम अधिकारी से कार्रवाही के लिए बात करेंगे।"

प्रोजेक्ट मैनेजर का कहना :

बंडा के प्रोजेक्ट मैनेजर बजरंगी चैधरी का कहना है कि, "जहां पर पत्थर आ रहे हैं वहां पर पाइप लाइन बिछाकर सीसी करेंगे। बरसात में नहीं कर रहें है क्योकि सक्सेज नहीं रहेगा।"