शहडोल : जिले में नहीं दिखा भारत बंद असर
जिले में नहीं दिखा भारत बंद असरSantosh Tandon

शहडोल : जिले में नहीं दिखा भारत बंद असर

शहडोल, मध्य प्रदेश : कृषि कानून के विरोध में मंगलवार को आयोजित देशव्यापी बंद का जिले में असर नहीं दिखा। बाजारों से लेकर पेट्रोल पंप, मंडियां, बैंक आम दिनों की तरह खुले हैं।

शहडोल, मध्य प्रदेश। कृषि कानून के विरोध में मंगलवार को आयोजित देशव्यापी बंद का जिले में असर नहीं दिखा। बाजारों से लेकर पेट्रोल पंप, मंडियां, बैंक आम दिनों की तरह खुले हैं। बाजारों में सामान्य दिनों की तरह ही चहल-पहल रही, पुलिस किसी भी तरह के प्रदर्शन से निपटने के लिए मुस्तैद रही। चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली आदि क्षेत्रों के प्रदर्शनकारी किसानों के समर्थन और केन्द्र सरकार के विरोध में 08 दिसम्बर को भारत बंद का आह्वान देश के प्रमुख राष्ट्रीयदलों जिसमें कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी, जनतादल, आम आदमी पार्टी, सहित दर्जनभर क्षेत्रीय दलों किसान संगठनों के नेताओं ने पूरे देश से भारत बंद का समर्थन करने का आव्हान किया था। देश के अलग-अलग क्षेत्रों में विपक्षी दलों व सामाजिक संगठनों के बड़े नेताओं ने अपने समर्थकों के साथ सरकार द्वारा लाए गये कृषि कानून के विरोध और प्रदर्शनकारी किसानों के समर्थन में आंदोलन कर अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे है।

बनी रही चहल-पहल :

ब्यौहारी किसानों के समर्थन में भारत बंद का आह्वान देश के कई राजनैतिक दलों ने किया था, केंद्र सरकार द्वारा संसद में कृषि कानून पारित किये जाने का विरोध देश के कुछ हिस्सों के किसानों सहित राजनैतिक दलों ने किया था। 8 दिसम्बर को पूरे देश के नागरिकों से भारत बंद का समर्थन कर सरकार की दमनकारी नीति के विरोध में अपने प्रतिष्ठानों को बन्द रख, देश के किसानों का समर्थन करने की अपील कई प्रमुख राजनैतिक पार्टियों और किसान संगठनों ने किया था, लेकिन उक्त अपील का यहां कोई असर नहीं दिखा। लोग रोज की ही तरह अपने-अपने काम में लगे रहे सभी प्रतिष्ठान खुले थे और बाजार में लोगों की चहल-पहल भी बनी रही।

स्वार्थ की करते रहे राजनीति :

विपक्ष के ज्यादातर स्थानीय नेता सोशल मीडिया पर सक्रिय रह अपनी राजनीति चमकाने में लगे रहते हैं। वास्तविकता की जमीन से कोसों दूर जनसरोकार की भावना से उलट अपना स्वार्थ साधने की राजनीति में ही लगे रहते हैं। जनहित के स्थानीय मुद्दों पर कुछ भी कहने से बचते रहे हैं। वहीं केन्द्र की मोदी सरकार के लाए गये कृषि कानून के विरोध और भारत बंद के समर्थन में यहां किसी भी प्रकार का कोई आयोजन नहीं हुआ। भाजपा की संगठनात्मक धमक से यहां का विपक्ष गुमनामी के अंधेरे में कहीं दुबका बैठा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co