छीमक : नहीं मिली किश्तें, अधूरे पड़े हैं प्रधानमंत्री आवास
नहीं मिली किश्तें, अधूरे पड़े हैं प्रधानमंत्री आवाससांकेतिक चित्र

छीमक : नहीं मिली किश्तें, अधूरे पड़े हैं प्रधानमंत्री आवास

छीमक, मध्य प्रदेश : प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत आवासों के लिए पहली एवं दूसरी किश्त जारी करने के बाद जिम्मेदार दूसरी एवं तीसरी किश्त जारी करना भूल गये।

छीमक, मध्य प्रदेश। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत आवासों के लिए पहली एवं दूसरी किश्त जारी करने के बाद जिम्मेदार दूसरी एवं तीसरी किश्त जारी करना भूल गये हैं। ऐसे में ग्राम पंचायत छीमक के अंतर्गत आने वाली आठ नंबर आदिवासी दफाई में आधा दर्जन प्रधानमंत्री आवाज अधूरे पड़े हुए हैं।

अधूरे प्रधानमंत्री आवासों में निवासरत ग्रामीणों ने बताया कि किसी को एक किश्त किसी को दो किश्त मिली हैं, उसके बाद कोई किस्त नहीं मिली है। जिसके कारण प्रधानमंत्री आवास अधूरे पड़े हुए हैं। ऐसे में कुछ हितग्राहियों ने अधूरे आवासों पर बने बीमा पर ही छप्पर डालकर रहना शुरू कर दिया है। हितग्राहियों का कहना है कि हम लोग ग्वालियर कलेक्टर को आवेदन दे देकर परेशान हो चुके हैं, परंतु आज तक शेष बची किश्तों की राशि नहीं दी गई है। जिससे हम लोग अपना मकान बना सकें और पक्के मकान में रह सके। ग्रामीणों ने बताया कि करीब पांच साल से अधिक होने को आए हैं, हितग्राही राजेश करनसिंह, कमल सिंह बीरू ने बताया कि आवास स्वीकृत होने के बाद किसी को एक तो किसी को दो किश्तें मिली है। जिससे हमारा मकान पक्का नहीं बन पाया है।

इनका कहना हैं :

कुछ हितग्राहियों को आवास बनाने के लिए प्रधानमंत्री आवास की किश्त दी गई थी, जो कि एक किस्त का पैसा मकान में लगाया है, दूसरी किस्त लोग अपने निजी खर्चे में लेकर खत्म कर दिए, इसके कारण कुछ आवाज अधूरे रुके हुए हैं। कुछ लोगों ने पहली किस्त ही अपने प्रयोग में ले ली और मकान नहीं बनाया है इसलिए यह मकान अधूरे पड़े हुए हैं लोगों के घरों पर जा जाकर बार-बार बोला जा रहा है कि मकान को बनाया जाए जो पैसा खर्च किया है उस पैसे से अपना आवास तैयार कराएं, उसके बाद अगली किश्तें दी जाएंगी।

विनोद सिह, प्रधानमंत्री आवास प्रभारी

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co