दुर्घटनाओं में जान गवाने वाले लोगों की संख्या में पिछले 3 सालों में इजाफा

सिंगरौली, मध्य प्रदेश : जानकारी के अनुसार पिछले साल की तुलना में इस वर्ष ज्यादा मृत्यु के आंकड़े दर्ज किए गए हैं। जिले में होने वाली मौतों पर जनप्रतिनिधी बने मूकदर्शक।
दुर्घटनाओं में जान गवाने वाले लोगों की संख्या में पिछले 3 सालों में इजाफा
दुर्घटनाओं में जान गवाने वालों की संख्या में पिछले 3 सालों में इजाफाShashikant Kushwah

सिंगरौली, मध्य प्रदेश। मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में हर साल बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं में मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। विगत 3 वर्ष के सड़क दुर्घटनाओं के बारे में यदि बात की जाए तो लगातार जिले में अलग अलग सड़क दुर्घटनाओं मे जान गवाने वाले लोगों की संख्या में इजाफा देखने को मिला है। मिली जानकारी के अनुसार पिछले साल की तुलना में इस वर्ष ज्यादा मृत्यु के आंकड़े दर्ज किए गए हैं।

जाने आंकड़े क्या कहते हैं :

  • विगत 2018 , 2019 और 2020 के आंकड़ों पर यदि गौर करें तो यह आंकड़े जनवरी से लेकर सितंबर तक के आंकड़े लिए गए हैं।

  • वर्ष 2018 में जनवरी से लेकर सितंबर तक जिले में कुल 388 सड़क हादसे हुए जिनमें की 375 घायल हुए तो वहीं मरने वालों की संख्या 102 रही।

  • वर्ष 2019 जनवरी से लेकर सितंबर तक जिले में कुल 449 सड़क हादसे हुए जिनमें की 476 घायल हुए तो वहीं मरने वालों की संख्या 119 रही।

  • वर्ष 2020 जनवरी से लेकर सितंबर तक जिले में होने वाली दुर्घटनाओं के आंकड़े में यदि गौर करें तो जिले में कुल 430 सड़क हादसे दर्ज किए गए हैं जिनमें की 346 घायल हुए तो वहीं मरने वालों की संख्या 120 रही।

100 से ज्यादा लोग हर वर्ष गवा रहें हैं अपनी जान :

विगत 2018 से लेकर 2020 तक के आंकड़ों को देखकर यह स्पष्ट हो रहा है कि हर वर्ष 100 से ज्यादा लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जा रहे हैं तो वहीं होने वाली सड़क दुर्घटना के पीछे अधिकतर मामलों में देखने में आया है कि सड़क मार्ग से कोयले का परिवहन करने वाले ट्रकों से लगातार हादसों में बढ़ोतरी हुई है बावजूद इसके ठोस कदम नहीं उठाये गए।

मौतों पर जनप्रतिनिधी बने मूकदर्शक :

सड़क दुर्घटना में लगातार बढ़ रहे आंकड़े बताते हैं कि समस्या बढ़ती जा रही है तो वहीं जिले के जिम्मेदार जनप्रतिनिधी मूकदर्शक बने हुए हैं। सम्बंधित मामले में जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के परिणाम स्वरूप लोगों में रोष व्याप्त है।

हादसों के संबंध में बोले यातायात थाना प्रभारी :

सड़क दुर्घटना के संबंध में यातायात थाना प्रभारी दीपेंद्र सिंह कुशवाह ने बताया कि वाहन क्रय के समय जिले में लाइसेंस की अनिवार्यता सुनिश्चित की जानी चाहिए । पिछले 3 सालों में चिन्हित ब्लैक स्पॉट के बारे में नगर निगम व एमपीआरडीसी को अवगत कराया गया है।

जल्द ही अमिलिया घाटी पर सोलर रोड स्टड लगाए जाएंगे व लगातार हाइवे से जोड़ने वाली सड़को पर वाहन चेकिंग के दौरान दुपहिया वाहन चालकों को हेलमेट तो वहीं बड़े वाहन चालकों को सीटबेल्ट को लेकर जागरूक करने की मुहिम लगातार जारी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co