बालकनी से गिरने से हुई डेढ़ साल के बच्चे की मौत
बालकनी से गिरने से हुई डेढ़ साल के बच्चे की मौतSocial Media

Indore : बालकनी से गिरने से हुई डेढ़ साल के बच्चे की मौत, परिजन लगा रहे अस्पताल प्रबंधन पर आरोप

मध्य प्रदेश के इंदौर से एक हृदयविदारक घटना सामने आई है।यहां, मंगलवार की दोपहर एक डेढ़ साल के बच्चे की मौत की खबर आई है। जानिए, क्या है पूरा मामला।

इंदौर, मध्य प्रदेश। देश में अब कोरोना से होने वाली मौतों में कुछ राहत है, तो अब देश में अन्य कारणों से होने वाली मौत का सिलसिला जारी है। क्योंकि आये दिन सड़क हादसों और अलग-अलग तरह की दुर्घटनाओं की खबरें लगातार सामने आ ही रही हैं। ऐसा ही एक हृदयविदारक घटना मध्य प्रदेश के इंदौर से सामने आई है। यहां, मंगलवार की दोपहर एक डेढ़ साल के बच्चे की मौत की खबर है। जानिए, क्या है पूरा मामला।

क्या है मामला ?

मध्य प्रदेश के इंदौर से हृदयविदारक दर्दनाक घटना सामने आई है। इस घटना के तहत एक डेढ़ साल के बच्चे की मौत हो गई है। दरअसल, इंदौर की शिवधाम कॉलोनी में रहने वाला डेढ़ साल का एक बच्चा अपने 3 साल के बड़े भाई के साथ खेल रहा था, इसी दौरान वह 15 फीट ऊंची बालकनी से रोड पर जा गिरा। हालांकि, उसे तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। बच्चे की मौत पहली मंजिल की बालकनी से झांकने के दौरान गिरने के बाद इलाज के दौरान हुई है, लेकिन बच्चे के परिजन का आरोप है कि, बच्चे की मौत अस्पताल में इंजेक्शन के ओवरडोज के चलते हुई है।

परिजन ने लगाया आरोप :

बच्चे की मौत के बाद परिजन ने अस्पताल पर आरोप लगाते हुए कहा कि, 'इंजेक्शन लगने के बाद बच्चे की तबियत बिगड़ी और उससे उसकी मौत हो गई।' परिजन ने बताया कि, 'शशांक का सीटी स्कैन और बाकी सभी रिपोर्ट नॉर्मल आई थी। लेकिन रात में उसे अचानक उल्टियां होने लगी। जिसके बाद में ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों ने उसे इंजेक्शन लगाया था और इंजेक्शन के बाद उसे होश ही नहीं आया। इंजेक्शन के ओवरडोज के चलते बच्चे की मौत हुई है। क्योंकि सिर्फ उसके होंठ पर पांच टांके आए थे।

बच्ची ने उठाया बच्चे को :

जानकारी के आधार पर बताया जा रहा है कि, बच्चे के गिरते ही सड़क पर खेल रही पड़ोस में रहने वाली बच्ची ने उसे उठाया और तुरंत उसे ले जाकर बच्चे की मां को सौंपते हुए घटना के बारे में बताया। जिसके बाद उसे एमवाय अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया। अस्पताल में बच्चे ने 18 घंटे से भी ज्यादा समय तक संघर्ष किया हालांकि, बाद में उसकी मौत हो गई। पुलिस के अनुसार बच्चे के शव का पोस्टमॉर्टम कराया जाएगा और रिपोर्ट आने पर आगे कार्रवाई की जाएगी। साथ ही अभी अस्पताल प्रबंधन का पक्ष नहीं मिल सका है।

पुलिस अधिकारी ने बताया :

कनाड़िया पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि, 'मिली जानकारी के अनुसार बच्चों की मां किचन में खाना बना रही थी। इसी दौरान शशांक खेलते हुए बालकनी की तरफ चला गया। यहां नीचे झांकने लगा और गिर गया। पड़ोसी किराना दुकान संचालक की बेटी सड़क पर खेल रही थी। और उसने शशांक को उठाया। तब वह बेसुध था और उसके सिर से खून बह रहा था। जिसके बाद उसने शशांक की मां को आवाज लगाई।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co