लक्ष्मण सिंह ने कहा- CM मागे माफी
लक्ष्मण सिंह ने कहा- CM मागे माफी|Social Media
मध्य प्रदेश

भील समुदाय का मुद्दा CM के लिए बना गले की फांस, की गई माफी की मांग

MPPSC की परीक्षा में भील जनजाति को लेकर किए गए ए‍क सवाल पर मचा हुआ है बवाल! इस पर नेताओं ने आपत्ति जताई है।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) की परीक्षा में भील जनजाति को लेकर किए गए ए‍क सवाल पर मचा हुआ है बवाल! इस पर नेताओं ने आपत्ति जताई है। भाजपा विधायक और आरटीआई एक्टिविस्टों के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के भाई और चाचौड़ा से विधायक लक्ष्मण सिंह ने भी इस मामले में आपत्ति जताई है।

चाचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा :

दिग्विजय सिंह के भाई व कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग से लेकर कमलनाथ सरकार तक पर निशाना साधा है, उन्होंने कमलनाथ से भी मांफी मांगने की बात कही है, क्योंकि यह प्रश्न भील समुदाय का अपमान करने वाला है। खंडवा में आज CM कमल नाथ का पुतला जलाया जायेगा।

लक्ष्मण सिंह ने किया ट्वीट :

"भील समाज पर प्रदेश शासन के प्रकाशन पर अशोभनीय टिप्पणी से आहत हूँ। अधिकारी को तो सजा मिलना ही चाहिए। परन्तु मुख्यमंत्री को भी सदन में खेद व्यक्त करना चाहिए, आखिर वह प्रदेश के मुख्य मंत्री हैं। इससे अच्छा संदेश जाएगा"

जानिए क्या है मामला

आपको बता दें कि, मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) की परीक्षा में भील जनजाति को लेकर एक गद्यांश दिया गया था इसके आधार पर कई सवाल पूछे गए थे, गद्यांश के आधार पर प्रश्न पूछा गया और बताया गया कि- भील जनजाति शराब के अथाह सागर में डूबती जा रही है। समाज के लोग गैर वैधानिक और अनैतिक कामों में संलिप्त हो जाते हैं। भीलों की आपराधिक प्रवृत्ति का कारण देनदारियों को पूरा न करना है। भील की आर्थिक विपन्नता का कारण आय से अधिक खर्च करना है।

MPPSC में आपत्तिजनक सवाल पर राज्य सरकार ने जांच के दिए निर्देश

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) की परीक्षा में भील समुदाय के सवाल पर मचे सियासी बवाल के बीच राज्य सरकार ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं मंत्री सुखदेव पांसे ने कहा इस मामले की जांच के लिए संबंधितों पर कार्रवाई होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co