ग्रामीणों के लिए उपयोगी साबित होगा आयुष मेलों का आयोजन : मंगुभाई पटेल
ग्रामीणों के लिए उपयोगी साबित होगा आयुष मेलों का आयोजनSocial Media

ग्रामीणों के लिए उपयोगी साबित होगा आयुष मेलों का आयोजन : मंगुभाई पटेल

भोपाल, मध्यप्रदेश : राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि जनजाति बाहुल्य क्षेत्र में आयुष मेलों का आयोजन ग्रामीण जनता के लिए उपयोगी साबित होगा।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि जनजाति बाहुल्य क्षेत्र में आयुष मेलों का आयोजन ग्रामीण जनता के लिए उपयोगी साबित होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा दूरस्थ अंचलों में जनजाति परिवारों को पक्के मकान, बिजली, उज्ज्वला जैसी कल्याणकारी योजनाओं से जीवन-स्तर को सुधारने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि मध्यप्रदेश की वन संपदा औषधियों से सम्पन्न है। राज्यपाल श्री पटेल रविवार को परसवाड़ा में आयुष स्वास्थ्य मेले के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने आयुष मेलों और शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय जबलपुर के छात्रों द्वारा किए गए योगाभ्यास प्रदर्शन की भी तारीफ की।

राज्यपाल श्री पटेल ने अपने शुरूआती राजनैतिक जीवन के दिनों का स्मरण करते हुए बताया कि गुजरात में सिकलसेल एनीमिया की बीमारी से एक बच्चे की जान चली गई थी। इससे व्यथित होकर उन्होंने सिकलसेल के मरीजों की पहचान कर उनके समुचित इलाज का बीड़ा उठाया। अब इस कार्य को मध्यप्रदेश में भी प्रभावी तरीके से लागू किए जाने पर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 21 विश्वविद्यालयों को 5-5 गांवों देकर वहां के परिवारों की स्वास्थ्य जांच करने का कार्य सौंपा है। उन्होंने कहा कि कई असाध्य बीमारियों का इलाज हमारे वनों की औषधियों में छुपा है। राज्यपाल श्री पटेल ने आयुष विभाग द्वारा लगाए गए स्टॉल और प्रदर्शिनी का अवलोकन भी किया।

सिकलसेल से पीड़ित परिवारों को राज्य सरकार दे रही पेंशन : कांवरे

राज्य मंत्री रामकिशोर कांवरे ने अपने संबोधन में कहा कि इन मेलों से जनजाति बहुल क्षेत्रों की वन औषधियों की मार्केटिंग कर रोजगार दिलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सिकलसेल से पीडि़त परिवारों को राज्य सरकार पेंशन की सुविधा दे रही है। प्रदेश में जन-सामान्य में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए करीब चार करोड़ लोगों को त्रिकटु चूर्ण का वितरित किया गया। प्रदेश में 362 वेलनेस सेंटर बना कर तैयार किए गए हैं। इनमें 1500 लोगों को योग प्रशिक्षक बनाकर रोजगार देने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के आयुष ग्राम में प्रत्येक परिवार के हर सदस्य का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनका स्वास्थ्य कार्ड बनाया जा रहा है। अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के एवं विधायक गौरीशंकर बिसेन, सांसद डॉ. ढालसिंह बिसेन ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में आधुनिक पद्धिति से सब्जी की खेती करने वाले विशेष पिछड़ी जनजाति बेगा के समारू सिंह और बजारी को सम्मानित किया गया।

राज्यपाल ने देवसिंह उईके के घर किया भोजन :

राज्यपाल श्री पटेल ने परसवाड़ा प्रवास के दौरान ग्राम पंचायत डोंगरिया के लच्छीटोला पहुंचकर प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों से संवाद किया। राज्यपाल ने कहा कि गरीब के सपने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रारंभ की गई प्रधानमंत्री आवास योजना से साकार किया जा रहा है। उन्होंने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना का भी जिक्र किया। राज्यपाल श्री पटेल ने लच्छीटोला के प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही श्री देवसिंह उईके के घर पर भोजन किया। राज्यपाल श्री पटेल एवं उनके साथ आए अन्य अतिथियों का देव सिंह एवं उनकी पत्नी ने आत्मीय स्वागत सत्कार कर उन्हें भोजन कराया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.