कलेक्टर द्वारा किया गया जिला चिकित्सालय का आकस्मिक निरीक्षण
कलेक्टर द्वारा किया गया जिला चिकित्सालय का आकस्मिक निरीक्षण|Syed Dabeer-RE
मध्य प्रदेश

कलेक्टर द्वारा किया गया जिला चिकित्सालय का आकस्मिक निरीक्षण

मध्यप्रदेश के पन्ना जिला चिकित्सालय में मरीजों के उपचार के लिए हो सभी व्यवस्थाएं-कलेक्टर

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के पन्ना जिला चिकित्सालय का कलेक्टर कर्मवीर शर्मा द्वारा देर शाम आकस्मिक निरीक्षण किया गया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान जिला चिकित्सालय की ओपीडी का निरीक्षण किया। ओपीडी में आने वाले रोगियों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी ली। उन्होंने मुख्य रूप से ओपीडी में आने वाले सर्दी, जुखाम, खांसी, बुखार, गले की तकलीफ वाले मरीजों एवं अन्य मरीजों के संबंध में जानकारी लेने के साथ सिविल सर्जन सह चिकित्सालय अधीक्षक डॉ. आर.एस. त्रिपाठी से चर्चा की गयी कि जो भी मरीज चिकित्सालय में आ रहे हैं उनके स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार की व्यवस्था ठीक ढंग से हो रही है या नहीं।

डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि सर्दी, जुखाम, बुखार, खांसी, गले की तकलीफ के मरीजों को देखने के लिए पृथक से व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा अन्य रोगियों को देखने के लिए अलग से व्यवस्था की गयी है। कलेक्टर श्री शर्मा ने चिकित्सालय के विभिन्न वार्डो का निरीक्षण किया गया। उन्होंने वार्डो की साफ-सफाई, मरीजों को उपचार के लिए उपलब्ध कराई जा रही दवाओं, भोजन आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला चिकित्सालय में आने वाले मरीजों के उपचार में पूरी सावधानी बरती जाए। मरीजों को उपचार में किसी तरह की कठिनाई नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कोविड हेल्थ केयर सेंटर के संबंध में भी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एल.के. तिवारी एवं सिविल सर्जन डॉ. त्रिपाठी से चर्चा करते हुए निर्देश दिए कि घोषित किए गए क्वारेंटाइन एरिया में कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति का प्रवेश नहीं होना चाहिए। जो भी डॉक्टर एवं नर्स मरीज के उपचार के लिए सेंटर में जाते हैं वे प्रवेश करने के पूर्व पीपीई किट का उपयोग करें।

कोविड हेल्थ केयर सेंटर में भर्ती मरीज के स्वास्थ्य पर ध्यान रखने के साथ उसके चाय, नाश्ता एवं भोजन की उचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। मरीज मानसिक रूप से स्वस्थ रहें, इसके लिए सेंटर में स्थापित टी.व्ही. को चालू रखा जाए। जिससे भर्ती मरीज का मनोरंजन हो सके। उन्होंने क्वारेंटाइन एरिया की सुरक्षा के लिए लगाए गए, पुलिस बल को निर्देश दिए कि कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति इस एरिया के अन्दर प्रवेश न करे। मुख्य चिकित्सा अधिकारी अथवा सिविल सर्जन की अनुमति से यहां का गेट खोला जाए। इस क्षेत्र में अनावश्यक कोई भी वाहन प्रवेश नहीं करेगा। इस एरिया में प्रवेश की अनुमति मरीज को लेकर अथवा चिकित्सा संबंधी दवा उपकरण लाने वाले वाहनों को दी जाएगी।

जिले के शहरी-ग्रामीण क्षेत्र में कुल 6 प्रायवेट एलोपेथी चिकित्सकमुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एल.के. तिवारी ने बताया है कि पन्ना शहरी/ ग्रामीण क्षेत्र में (प्रायवेट) एलोपेथी चिकित्सक में मदर टेरेसा हॉस्पिटल पन्ना, डॉ. एच.एन. शर्मा इन्द्रपुरी कालोनी पन्ना, महिपाल सिंह मेमोरियल हॉस्पिटल आगरा मोहल्ला पन्ना, डायमण्ड माईनिंग प्रोजेक्टर हॉस्पिटल मझगंवा, डॉ. अदिती सिंह सिविल लाईन रोड पन्ना तथा डॉ. एस.पी. गर्ग सलेहा का रजिस्ट्रेशन एवं अनुज्ञापन जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि प्राइवेट चिकित्सा व्यवसयी के रजिस्ट्रेशन जिला स्तर से जारी किए गए हैं यह सभी प्राईवेट चिकित्सक आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के लिए पंजीकृत हैं। इनमें जिला मुख्यालय पर 18, देवेन्द्रनगर तहसील में 08, गुनौर अनुभाग में 21, अजयगढ़ अनुभाग में 12, पवई अनुभाग में 09, शाहनगर अनुभाग में 04 आयुर्वेद एवं होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से उपचार करने वाले डॉक्टर व्यवसाय कर रहे हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जिले में निजी चिकित्सा व्यवसाय करने वाले समस्त चिकित्सकों से अपेक्षा की है कि वे अपनी पैथी से संबंधित दस्तावेज लेकर सात दिवस के अन्दर कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पन्ना में उपस्थित होकर विधिवत पंजीयन करवाए। बगैर पंजीकृत व्यवसाय करने वाले चिकित्सकों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी। इसके अलावा उनके साथ किसी तरह की अप्रिय घटना घटित होती है इसके लिए वे स्वयं जिम्मेदार होंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co