जो अपने क्षेत्र का विकास नहीं कर पाया वो प्रदेश की तस्वीर क्या बदलेगा ?

भोपाल, मध्य प्रदेश : शिवराज जी मुख्यमंत्री रहे, कई बार सांसद रहे, विधायक रहे लेकिन उनके क्षेत्र आज भी विकास की दृष्टि से पिछड़े हुए हैं, विकास नाम की कोई चीज वहां नहीं।
जो अपने क्षेत्र का विकास नहीं कर पाया वो प्रदेश की तस्वीर क्या बदलेगा ?
कमल नाथ ने विशाल जनसभाओं को संबोधित कियाSocial Media

भोपाल, मध्य प्रदेश। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को रायसेन जिले की सांची विधानसभा के गैरतगंज में और सागर जिले की सुरखी विधानसभा के बिलहरा में आयोजित विशाल जनसभाओं को संबोधित किया।

कमलनाथ ने कहा कि जिस क्षेत्र से प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह खुद 17 वर्ष तक सांसद रहे, उस क्षेत्र की पिछड़ी हालत देखकर मुझे आज बेहद दुख हो रहा है, शिवराज जी में भी 40 वर्ष छिंदवाड़ा से सांसद रहा हूं, जरा एक बार क्षेत्र में विकास की तस्वीर देख कर आइए। जो व्यक्ति अपने क्षेत्र में विकास नहीं कर पाया वो प्रदेश की तस्वीर क्या बदलेगा। शिवराज जी मुख्यमंत्री रहे, कई बार सांसद रहे, विधायक रहे लेकिन उनके क्षेत्र आज भी विकास की दृष्टि से पिछड़े हुए हैं, विकास नाम की कोई चीज वहां नहीं।

कमलनाथ ने कहा कि भारत विभिन्न संस्कृति व अनेकताओ वाला देश है। बाबा साहेब आम्बेडकर के सामने चुनौती थी की एक ऐसा संविधान बनाएं जो सभी को एक झंडे के नीचे एक रख सकें। उनके द्वारा बनाए संविधान में किसी विधायक-सांसद के निधन पर उपचुनाव का प्रावधान था, लेकिन उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि सौदेबाजी व बोली से भी उपचुनाव होंगे। भाजपा ने सौदेबाजी व बोली से सरकार बना कर प्रदेश को देश भर में कलंकित किया। भाजपा का तो लक्ष्य है कि पंचायत के भी चुनाव ना हों, बोली लगाकर सरपंच चुन लिया जाए। इन्होंने प्रजातंत्र को धनतंत्र में तब्दील कर दिया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की जनता ने 2018 में ही तय कर लिया था कि 15 वर्ष शिवराज जी को देख लिया, अब उन्हें घर बैठाएंगे, विदा करेंगे लेकिन उन्होंने 15 माह में ही सौदेबाजी से हमारी सरकार गिराकर जनमत का और जनादेश का अपमान किया। 15 माह में मुझे काम करने के लिए सिर्फ साढ़े11 माह ही मिले लेकिन इसमें भी हमने अपनी नीति और नियत का परिचय दिया। शिवराज ने 15 वर्ष बाद जो प्रदेश हमें सौंपा वह किसानों की आत्महत्या, महिलाओं पर अत्याचार, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार में नंबर वन था। हर क्षेत्र में चुनौती थी, कृषि क्षेत्र में भी चुनौती थी, किसानों को न्याय नहीं मिल पा रहा था, उनको उनकी उपज का सही दाम नहीं मिल पा रहा था। आज हमारी अर्थव्यवस्था 70 प्रतिशत कृषि क्षेत्र पर आधारित है। हमने प्रदेश की इसी तस्वीर को बदलने को लेकर काम किया, हमने कृषि क्षेत्र में क्रांति की शुरुआत की, हमने 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया। जिसको लेकर शिवराज जी निरंतर झूठ बोलते रहे और बाद में उनकी सरकार ने ही विधानसभा में इस कर्ज माफी की सच्चाई को स्वीकार किया। हमारी सरकार आने पर हम बचे किसानों के भी दो लाख तक के कर्ज माफ करेंगे।

शिवराज ने विधायकों को खरीदकर एमपी का नाम कलंकित किया : अजय सिंह

पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में यदि कहीं उपचुनाव हो रहे हैं तो वह है-मध्यप्रदेश। बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में उपचुनावों का प्रावधान करते समय कभी नहीं सोचा था कि लोभी विधायकों द्वारा लालच में दलबदल करने के कारण उपचुनाव कराना पड़ेेंगे। उन्होंने उपचुनाव का प्रावधान इसलिए किया था कि जब किसी विधायक या सांसद की मृत्यु हो जाती है या वह बीमारी या अन्य कारणों से स्तीफा देता है, तो सीट खाली न रह जाये। लेकिन मध्यप्रदेश में तो थोक में 28 सीटों पर जो उपचुनाव हो रहे हैं वे लोभ और व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा के कारण हो रहे हैं। यह कोई साधारण घटना नहीं है। अजयसिंह ने कहा कि आज मैं फिर वही संकल्प लेकर आपके बीच कांग्रेस को जिताने का आग्रह करने आया हूं। आपको तय करना है कि टिकाऊ को वोट दें या बिकाऊ को। गद्दारों ने आपके वोट का सम्मान नहीं किया और उसे बेच दिया। शिवराज सिंह जनता को भगवान मानने का ढोंग करके जनता को ही धोका दे रहे हैं। विधायकों की खरीददारी करके शिवराज ने मध्यप्रदेश का नाम कलंकित कर दिया है। यह प्रदेश साफ सुथरी राजनीति के लिए जाना जाता था जिसका नाम भाजपा ने बदनाम कर दिया। जनता अब उन्हें माफ नहीं करेगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co