जीवन को संजीवनी प्रदान करने पौधरोपण अत्यंत आवश्यक : बिसाहू लाल सिंह
जीवन को संजीवनी प्रदान करने पौधरोपण अत्यंत आवश्यक : बिसाहू लाल सिंहराज एक्सप्रेस, संवाददाता

जीवन को संजीवनी प्रदान करने पौधरोपण अत्यंत आवश्यक : बिसाहू लाल सिंह

शहडोल, मध्यप्रदेश : कैबिनेट मंत्री ने कहा कि वृक्ष हमारी धरोहर हैं इसलिए प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह पौधरोपण कर कार्यक्रम में अपनी सहभागिता निभाए।

शहडोल, मध्यप्रदेश। मुख्यालय स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय परिसर में कैबिनेट मंत्री बिसाहू लाल सिंह के द्वारा कार्यालय की ईको पुष्प वाटिका में नीम एवं बेल के औषधि पौधे का पौधरोपण किया गया। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि वृक्ष हमारी धरोहर हैं इसलिए प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह पौधरोपण कर कार्यक्रम में अपनी सहभागिता निभाए। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि वृक्ष मानव जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी हैं, हमें छाया, फल, ऑक्सीजन जो हमारे जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी है वह सब वृक्षों से ही हमें प्राप्त होती है, इसलिए हमें अपने जीवन काल में अधिक से अधिक पेड़ लगाना चाहिए। पृथ्वी पर पर्यावरण को जीवंत बनाए रखने एवं जीवन को संजीवनी प्रदान करने के लिए पौधरोपण अत्यंत आवश्यक है, पौधरोपण से वन संपदा में वृद्धि होती है, वृक्ष ऑक्सीजन के उत्सर्जन के साथ ही वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड को नियंत्रित करते हैं, मानव व जीव-जंतुओं के जीवन को सुखी, समृद्ध एवं वायुमंडल को संतुलित बनाए रखने के लिए वृक्षों का विशेष महत्व है।

औषधीय पौधों लगाने की अपील :

इस दौरान उन्होंने फलदार, फूलदार, छायादार व औषधीय पौधों को अधिक से अधिक लगाने की अपील किया। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी संजीव कुमार मेहरा द्वारा पौधरोपण कार्यक्रम को लेकर क्षेत्रांतर्गत लगातार सफल आयोजन किया जा रहा। कार्यक्रम के दौरान क्षेत्रीय अधिकारी श्री मेहरा, प्रयोगशाला प्रभारी डॉ. ए. के. दुबे, कनिष्ठ वैज्ञानिक जी. के. बैगा, कनिष्ठ वैज्ञानिक बी. एम. पटेल एवं समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।

जनमानस को संदेश देने का प्रयास :

कैबिनेट मंत्री द्वारा पौधरोपण के जरिए लोगों को पर्यावरण बचाने का संदेश दे रहे हैं। शासन द्वारा अंकुर अभियान के तहत वृक्षारोपण को एक महापर्व के रूप में कराया जा रहा है। क्षेत्रीय कार्यालय के द्वारा कई शैक्षणिक संस्थानों, शवदाह गृह, खदानों तथा स्थानीय स्टोन क्रेशर्स में व्यापक रूप से वृक्षारोपण कराया जा रहा है। आवश्यकतानुसार ट्री गार्ड भी लगाए गये हैं।

प्रदेश में अव्वल है शहडोल :

पर्यावरण की दृष्टि से शहडोल संभाग सम्पूर्ण मध्यप्रदेश में सबसे स्वच्छ संभाग है एवं इसके सभी जिले मध्यप्रदेश के प्रथम 6 जिलों में शामिल हैं। मंत्री के द्वारा कार्यालयीन परिसर में परिवेशीय वायु गुणवत्ता मापक यंत्र का भी अवलोकन किया गया है, जिसमें नाइट्रोजन ऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड, पर्टिकुलेट मैटेर पी. एम. 10, पर्टिकुलेट मैटेर पी. एम. 2.5 इत्यादि के परिणाम भारतीय मानकों के तहत पाए जा रहे हैं।

वृक्षों के मिलता है स्वच्छ वातावरण :

क्षेत्रीय अधिकारी संजीव कुमार मेहरा द्वारा पौधरोपण कार्यक्रम को लेकर आम लोगों से ये अपील की है कि नीम, बरगद, पीपल जैसे सैकड़ों प्रजातियों के कई ऐसे वृक्ष हैं जिनका हमारे जीवन में महत्वपूर्ण योगदान है। बात ऑक्सीजन की हो या ऊर्जा की, वृक्ष सदैव हमें जीवन हेतु प्राण वायु प्रदान करते हैं। वृक्षों से ना सिर्फ पर्यावरण का संतुलन बना रहता है बल्कि हमें स्वच्छ वातावरण भी मिलता है, जिसका प्रभाव मानव जीवन के साथ जीव-जंतुओं, पशु-पक्षियों में होता है। ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगायें और उन्हें सुरक्षित कर मानव जीवन को आसान बनाएं।

पौधों की हो रही निगरानी :

उन्होंने कहा कि हमारे द्वारा लगाये गये एक वृक्ष हमारी आने वाली कई पीढ़ियों के लिये वरदान की तरह है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों ने कहा कि उनकी टीम लगातार समूचे संभाग में चिन्हित स्थानों पर ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करने के साथ ही उन वृक्षों की सतत निगरानी भी कर रही है ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.