ग्वालियर : उप चुनाव के अंतिम पलों में पूरी ताकत झोंक रहे राजनीतिक दल

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : कांग्रेस के सचिव पायलट अब अंचल में देंगे सिंधिया को जवाब। शिवपुरी, मुरैना, भिंड और ग्वालियर जिले में लेंगे कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बैठकें।
ग्वालियर : उप चुनाव के अंतिम पलों में पूरी ताकत झोंक रहे राजनीतिक दल
सचिन पायलट मध्यप्रदेश के दौरे परSocial Media

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। प्रदेश में होने वाले उप चुनाव को कांग्रेस व भाजपा दोनों ही दल काफी महत्वपूर्ण मान रहे हैं, क्योंकि इस चुनाव परिणाम के बाद ही प्रदेश में यह तस्वीर साफ होगी कि भाजपा में सत्ता में बनी रहेगी या फिर कांग्रेस की वापिसी होगी। कांग्रेस से बगावत कर सिंधिया के साथ भाजपा में गए विधायकों को अब जवाब देने के लिए राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट 27, 28 अक्टूबर को ग्वालियर-चंबल संभाग के दौरे पर रहेंगे। इस दौरान वह कांग्रेस से बगावत करने वाले सिंधिया के खिलाफ बोलते हैं कि नहीं इस पर सभी की निगाह टिकी हुई है।

उप चुनाव की अब अंतिम बेला आ चुकी है,ऐसे में कांग्रेस ने भाजपा ने पूरी ताकत प्रचार में झोंक दी है। कांग्रेस के लिए यह चुनाव काफी अहम है, क्योंकि उन्होने टिकाऊ नहीं बिकाऊ का नारा दिया है ओर उनका सीधे हमले पर सिंधिया है। वैसे उप चुनाव में सिंधिया का राजनीतिक भविष्य भी दांव पर लगा हुआ है जिसके कारण वह भी अंचल में पूरी ताकत लगाने में लगे हुए है। चुनाव प्रचार से फुर्सत जब भी मिलती है तो अंचलभर के हर जिले में अपने समर्थको से फोन पर बात कर उनको अपने पाले में लाने में लगे हुए है ओर इस काम में वह सफल भी साबित हो रहे है। सिंधिया के लिए उप चुनाव इसलिए अहम माना जा रहा है, क्योंकि चुनावी मैदान में उन्ही के समर्थक विधायकी छोड़ी थी वह है। अब अगर सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक चुनाव नहीं जीतते है तो उनकी राजनीतिक भविष्य पर विराम लग सकता है, क्योंकि भाजपा इतनी आसानी से उनको अगली बार टिकट देने से बच सकती है। अगर ऐसा होता है तो सिंधिया का कद भाजपा के अंदर सिमट कर रह सकता है। यही कारण है कि चुनाव प्रचार के आखिरी पड़ाव पर दोनों ही दल पूरी ताकत लगाकर मतदाताओं को यह समझाने में लगे हुए है कि गद्दारी हमने नहीं बल्कि उनने की है। अब जनता किसकी बात पर विश्वास करेगी यह तो 10 नवंबर को जब परिणाम आएंगा तभी पता चलेगा। कांग्रेस जो आरोप गद्दारी का लगा रही है उस पर राजस्थान के सचिन पायलय अपनी मुहर लगाते है कि नहीं यह देखने वाली बात होगी, क्योकि सचिन पायलट व ज्योतिरादित्य सिंधिया पक्के दोस्त माने जाते है। सचिन पायलट 27, 28 अक्टूबर के ग्वालियर-चंबल संभाग के दौरे पर रहेगें ओर इस दौरान वह कई विधानसभा क्षेत्रों में सभा करेंगे। अब निगाह इस बात पर टिकी है कि क्या सचिन पायलट अपनी चुनावी सभाओ में सिंधिया के खिलाफ बोलते है या नहीं।

सचिन पायलट का दौरा कार्यक्रम :

कांग्रेस की ओर से शनिवार को यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार श्री पायलट अपने निर्धारित दौरा कार्यक्रमानुसार 27 अक्टूबर को सुबह 10:15 बजे ग्वालियर से हेलीकाप्टर द्वारा प्रस्थान कर पूर्वान्ह 11 बजे शिवपुरी जिले की करेरा विधानसभा के नरवर में कार्यकर्ता बैठक लेंगे। वे दोपहर 12:45 बजे शिवपुरी के ही सतनबाड़ा में कार्यकर्ता बैठक लेंगे। श्री पायलट दोपहर 2:35 बजे मुरैना जिले के जौरा, अपरान्ह 4 बजे सुमावली में कार्यकर्ता बैठक लेंगे। वे सायं 5:30 बजे ग्वालियर पहुचेंगे और वहां पर सायं 7 बजे ग्वालियर एवं ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की बैठकें लेंगे। श्री पायलट का रात्रि विश्राम ग्वालियर में रहेगा। अगले दिन 28 अक्टूबर को वे हेलीकाप्टर द्वारा पूर्वान्ह 11:15 बजे ग्वालियर से प्रस्थान कर पूर्वान्ह 11:30 बजे मुरैना विधानसभा क्षेत्र के नूराबाद में, दोपहर 12:50 बजे दिमनी विधानसभा की मनबसई में कार्यकर्ता बैठक लेंगे। श्री दोपहर 2:20 बजे भिण्ड जिले की मेहगांव विधानसभा के गोरमी में और अपरान्ह 3:45 बजे गोहद में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में मतदान कराने के लिए कार्यकर्ता बैठक लेंगे। श्री पायलट सायं 4:50 बजे गोहद से हेलीकाप्टर द्वारा प्रस्थान कर सायं 5:10 बजे ग्वालियर पहुंचेंगे और वहां पर सायं 6 बजे एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co