Raj Express
www.rajexpress.co
जनगणना में आदिवासियों से हिंदू लिखवाने की घोषणा पर सियासत
जनगणना में आदिवासियों से हिंदू लिखवाने की घोषणा पर सियासत |Social Media
मध्य प्रदेश

जनगणना में आदिवासियों से हिंदू लिखवाने की घोषणा पर सियासत

जनगणना 2021 में आरएसएस द्वारा आदिवासियों से धर्म वाले कॉलम में हिंदू लिखवाने की मुहिम चलाने की घोषणा पर सियासी बवाल। जानें क्या है मामला...

Aditya Shrivastava

राज एक्सप्रेस। जनगणना 2021 में आदिवासियों से धर्म वाले कॉलम में हिंदू लिखवाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मुहिम चलाने की घोषणा की है। इस पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निशाना साधते हुए कहा, यदि संघ ने प्रदेश में ऐसा कोई अभियान चलाया तो उस पर वैधानिक कार्रवाई करेंगे।

अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अजय शाह और आदिवासी नेता रामू टेकाम ने मीडिया से चर्चा की है। मीडिया से चर्चा आरएसएस द्वारा जनगणना में आदिवासियों से धर्म वाले कॉलम में हिंदू लिखवाने के विरोध में की गई। अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ के पदाधिकारी ने कहा कि संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कटुता पूर्वक बात कही थी। आदिवासियों को जनगणना में धर्म के कॉलम में हिन्दू लिखवाना चाहती है।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की जजमेंट है कि आदिवासी हिन्दू नहीं हैं। हम लोग प्राकृति पूजा करते हैं, मूर्ति पूजक नहीं हैं। आरएसएस मनुस्मृति में विश्वास करते हैं। उसमें चार वर्ण हैं क्या ये हमें ब्राम्हण, वैश्य, क्षत्रिय मानने को तैयार हैं। आरक्षण को लेकर कहा कि, हमें आरक्षण हिन्दू होने से नही मिला है। हमारी सामाजिक आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण मिला है। हमें अलग से धर्म कोट दिया जाना चाहिए। कार्यवाही को लेकर कहा कि वैधानिक कार्यवाही करेंगे।

सीएम की प्रतिक्रिया पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा, प्रदेश में आदिवासियों का धर्म परिवर्तन कर उन्हें ईसाई बनाने की कोशिश की जा रही है। मुख्यमंत्री कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के इशारे पर काम कर रहे हैं। पहले भी सनातन धर्म (हिन्दू धर्म) के साथ बहुत खिलवाड़ हो चुका है और कमलनाथ जी अब इस खिलवाड़ को बंद करें। धर्मांतरण को रोकने की जरूरत है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।