जबलपुर : राष्ट्रपति देंगे नागरिकों को पर्यटन के क्षेत्र में कई सौगात
राष्ट्रपति देंगे नागरिकों को पर्यटन के क्षेत्र में कई सौगातSocial Media

जबलपुर : राष्ट्रपति देंगे नागरिकों को पर्यटन के क्षेत्र में कई सौगात

जबलपुर, मध्य प्रदेश : केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने पत्रवार्ता में दी जानकारी निदान वॉटर फाल, बैसाघाट, ऐतिहासिक धरोहरों की बदलेगी तस्वीर।

जबलपुर, मध्य प्रदेश। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का आगमन 6-7 मार्च को जबलपुर व दमोह के सिंगौरगढ़ में होने जा रहा है। इस अवसर पर राष्ट्रपति विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे। शनिवार को यहां संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए केंद्रीय संस्कृति व पर्यटन राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि सात मार्च को राष्ट्रपति दमोह जिले के सिंगौरगढ़ में रानी दुर्गावती की ऐतिहासिक धरोहर सिगौरगढ़ किला क्षेत्र में होने वाले विभिन्न विकास कार्यो के भूमिपूजन कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे।

श्री पटेल ने बताया कि विकास कार्यों के लिए 26 करोड़ की राशि का आवंटन मंत्रालय द्वारा किया गया है। जिसमें छह करोड़ की राशि से भारतीय पुरातत्व विभाग के निर्माण कार्य व 20 करोड़ की राशि से मरम्मत व अन्य निर्माण कार्य किए जाएंगे। केंद्रीय मंत्री पटेल ने बताया कि पुरातत्व धरोहरों के संरक्षण की दृष्टि से भारतीय पुरातत्व विभाग का नया सर्किल आफिस जबलपुर में बनाया गया है, जिसका शुभारंभ भी राष्ट्रपति की उपस्थिति में होगा। पत्रकारवार्ता में पूर्व मंत्री व पाटन विधायक अजय विश्नोई, पूर्व मंत्री शरद जैन, अंचल सोनकर, हरे्द्रंजीत सिंह बब्बू और महापौर स्वाति गोडेेबोले सहित विभागीय अधिकारी उपस्थिति थे।

केंद्रीय मंत्री पटेल ने बताया कि सिंगौरगढ़ किला व उसके आसपास के क्षेत्र के विकास की दृष्टि से 26 करोड़ की राशि से विकास कार्य होंगे। जिसमें दलपतशाह की समाधि, मंदिर स्थान, सिंगौरगढ़ का किला, फीडरलेक आफ निदान वाटर फाल, प्रवेश द्वार, निदान फाल, बैसाघाट विश्राम गृह, नजारा व्यू पाइंट, कल्चर पाइंट व विजिटर फेसिलिटी जोन आदि के मरम्मत व सौदर्यीकरण के विकास कार्य किए जाएंगे। जिससे वह पर्यटक स्थलों के रूप में अपनी पहचान बना पाएंगे।

नेताजी की 125 जयंती पर होंगे कार्यक्रम :

मंत्री पटेल ने बताया कि नेताजी सुभाषचंद बोस की 125वीं जयंती पर एक से 6 मार्च तक शहीद स्मारक में राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय नई दिल्ली के द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें देशभर से कलाकार सम्मिलित होंगे व लाइव पेंटिग बनाकर अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे।

संस्कृति मंत्रालय के बजट में 21.53 प्रतिशत की बढ़ोतरी :

केंद्रीय मंत्री पटेल ने बताया कि 2021.22 में संस्कृति मंत्रालय के परिव्यय के लिए 2687.99 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं, वित्त वर्ष 2020-21 में संशोधित वार्षिक परिव्यय 2211.85 करोड़ से ये 21.53 प्रतिशत अधिक है, पीएम संग्रहालय को 77.78 करोड़ आवंटित, शताब्दी और वर्षगांठ समारोह योजना का बजट आवंटन 38.5 प्रतिशत बढ़ा है। इस परिव्यय में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान दो संलग्न कार्यालयों छह अधीनस्थ कार्यालयों 34 केंद्रीय स्वायत्त निकायों और मंत्रालय की योजनाओं के प्रावधान शामिल हैं। वार्षिक बजट के लिए कुल परिव्यय में से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को 1042.62 करोड़ आवंटित किए गए हैं। वित्त वर्ष 2021.22 में मंत्रालय ने 455.20 करोड़ रुपये कला संस्कृति विकास योजना, संग्रहालय के विकास, अंतरराष्ट्रीय सहयोग और मंत्रालय के शताब्दी और वर्षगांठ समारोह योजना के लिए रखा है। विभिन्न योजनाओं के तहत 102.87 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। जिसमें उत्तर पूर्वी क्षेत्र - 45.52 करोड़, जनजातीय उप योजना - 37.78 करोड़ और अनुसूचित जाति उप योजना-19.57 करोड़ रुपए है। मंत्रालय ने पिछले वर्ष 709.58 करोड़ की तुलना में 883.12 करोड़ रुपए केंद्रीय स्वायत्त निकायों, अकादमिक, संग्रहालय, पुस्तकालय और देशभर में अन्य सांस्कृतिक संस्थानों के लिए आवंटित किए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co