प्राचार्यों ने मेरिट के आधार पर यूजी-पीजी में 15 हजार को दिया प्रवेश
प्राचार्यों ने मेरिट के आधार पर यूजी-पीजी में 15 हजार को दिया प्रवेशसांकेतिक चित्र

प्राचार्यों ने मेरिट के आधार पर यूजी-पीजी में 15 हजार को दिया प्रवेश

भोपाल, मध्यप्रदेश : उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्राइवेट और सरकारी कॉलेजों में प्रवेश के लिए सीएलसी का अतिरिक्त राउण्ड चल रहा है। प्रदेश के 1301 कॉलेजों में यूजी-पीजी की करीब 12 लाख सीटें हैं।

भोपाल, मध्यप्रदेश। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्राइवेट और सरकारी कॉलेजों में प्रवेश के लिए सीएलसी का अतिरिक्त राउण्ड चल रहा है। प्रदेश के 1301 कॉलेजों में यूजी-पीजी की करीब 12 लाख सीटें हैं। वर्तमान में पौने सात लाख सीटें रिक्त हैं। जिन्हें भरने के लिए विभाग की प्रक्रिया जारी है। दो राउण्ड की काउंसलिंग और सीएलसी राउण्ड के बाद अब तक यूजी-पीजी कोर्स में पांच लाख विद्यार्थियों ने प्रवेश लिये हैं। अब उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर रिक्त सीटें भरने के लिए प्राचार्य कालेज लेवल पर मेरिट जारी कर प्रवेश दे रहे हैं। ये व्यवस्था दस अक्टूबर तक जारी रहेगी। बीते तीन दिन में प्राचार्यों ने यूजी में 10 हजार 540 और पीजी में 4 हजार 490 विद्यार्थियों को प्रवेश देकर आनलाइन फीस जमा कराई है।

बीएड कॉलेजों में रिक्त सीटों को भरने 8 अक्टूबर तक होगा पंजीयन :

एनसीटई द्वारा बीएड कॉलेजों की 16 हजार 800 रिक्त सीटें भरने के लिए सीएलसी का अतिरिक्त राउण्ड कराया जा रहा है। इस राउण्ड में अब तक 1453 विद्यार्थियों ने च्वाइस फिलिंग की है। विद्यार्थियों का 8 अक्टूबर तक पंजीयन कराना होगा। त्रुटि सुधार, च्वाइस फिलिंग और सत्यापन के लिए एक दिन का समय दिया गया है। उन्हें 9 अक्टूबर तक यह प्रक्रिया पूरी करनी होगी। विभाग 11 को मैरिट जारी कर,19 को अलाटमेंट जारी करेगा। विद्यार्थी 25 अक्टूबर तक फीस जमा कर प्रवेश ले पाएंगे। बीएड कालेजों में अब भी बड़ी संख्या में सीटें खाली हैं। जबकि विद्यार्थी प्रवेश लेना चाहते हैं और कॉलेज चाहकर भी प्रवेश नहीं दे सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत उच्च शिक्षा विभाग कॉलेज लेवल काउंसलिंग कराकर प्रवेश नहीं दे सकता है। इसलिए विभाग ने तीन राउंड की काउंसलिंग करने के बाद एक अतिरिक्त राउंड शुरू कर दिया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.