बुढ़ार उप जेल
बुढ़ार उप जेल|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

बुढ़ार उप जेल में बंदी की हुई हत्या या उसने की आत्महत्या ?

शहडोल, मध्य प्रदेश : बुढ़ार स्थित उपजेल में हुई घटना में दो लोगों को निलंबित कर दिया गया है, बंदी बैरक नंबर 3 से निकलकर अकेले बाहर कैसे आया, उक्त तथा अन्य आरोपों की पड़ताल के लिए जांच कमेटी बनाई जायेगी

Afsar Khan

हाइलाइट्स :

  • आरोप : जेलर ने करा दी बंदी की हत्या

  • आक्रोश में घंटों जाम रहा स्टेट हाईवे

  • दो सिपाही निलंबित, जांच के लिए बनेगी कमेटी

शहडोल, मध्य प्रदेश। जिले के बुढार थाना क्षेत्र के बुढ़ार उप जेल में विचाराधीन बंदी सज्जू उर्फ साजिद खान पिता सफर अली उम्र 30 वर्ष निवासी धनपुरी वार्ड नंबर 17, संग्राम सिंह दफाई ने गुरूवार सुबह जेल परिसर में गमछे से फांसी के फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली, मृतक पर स्थानीय थाने में धारा 279, 337, 325 सहित 307 व मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 184 के तहत आरोप पंजीबद्ध होने के बाद सुनवाई में थे, आरोपी बीती 9 जून को ही बुढ़ार स्थित उपजेल लाया गया था।

सीढ़ी पर झूला साजिद :

घटना के संदर्भ में जेल अधीक्षक ने बताया कि प्रतिदिन की तरह जेल में पदस्थ कर्मचारी सुबह मुआयना करने पहुंचे तो, बैरक नंबर 3 में सीढ़ी के समीप साजिद उर्फ पप्पू की लाश झूल रही थी, जिसकी सूचना उनके द्वारा तत्काल जेल अधीक्षक को दी गई। जेल अधीक्षक ने इस पूरी घटना से जेल के वरिष्ठ अधिकारियों सहित स्थानीय थाने व जिला प्रशासन को इसकी सूचना दी। लगभग 11 बजे के आस-पास थाना प्रभारी बुढार महेंद्र सिंह चौहान, एसडीओपी बुढार भरत दुबे, एसडीएम धर्मेन्द्र मिश्रा व तहसीलदार रतन सोनी भी मौके पर पहुंचे, सभी ने जेल परिसर का मुआयना किया तथा एसएलआर की टीम आदि के साथ मौके पर जाकर फांसी के फंदे से शव का निरीक्षण तथा पंचनामा आदि की प्रक्रिया करवाई गई।

प्रताड़ना के लगाये आरोप :

बुढ़ार उपजेल में साजिद की मौत के बाद जैसे ही यह खबर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ परिजनों तक पहुंची, चारों तरफ इस मामले को लेकर हड़कंप की स्थिति निर्मित रही। जेल के गेट के बाहर बड़ी संख्या में मृतक के परिजन, परिचित भी इक्कठे हो गये। उन्होंने जेलर पर हत्या के आरोप लगाये, वहीं बंदियों ने भी जेलर पर गाली-गलौज, मारपीट व प्रताड़ना के आरोप मीडिया के सामने ही लगाये।

दो सिपाही हुए निलंबित :

जेल अधीक्षक जे.एल. नेटी ने बताया कि मामले की पड़ताल के लिए अन्य अधिकारियों के साथ वे खुद मौके पर हैं, बंदी बैरक नंबर 3 से निकलकर अकेले बाहर कैसे आया, उक्त तथा अन्य आरोपों की पड़ताल के लिए जांच कमेटी बनाई जायेगी, प्रथम दृष्टव्या तुणेन्द्र शेखर शुक्ला व गीतेश मिश्रा नामक सिपाहियों की लापरवाही सामने आई है, जिस कारण उन्हें निलंबित कर दिया गया है।

आजाद चौक पर चक्का जाम :

दूसरी तरफ धनपुरी में मृतक सज्जू उर्फ साजिद की मौत को हत्या बताते हुए उसके परिजनों और अन्य लोगों ने जेलर श्री कुशवाहा पर रूपये लेकर हत्या कर देने के आरोप लगाये हैं, यही नहीं बड़ी संख्या में महिलाएं व अन्य लोगों ने स्टेट हाइवे पर चक्का जाम कर दिया है, लोग दरी बिछाकर जेलर के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रहे हैं। चक्का जाम करने वालों में बड़ी संख्या में महिलाएं, पुरूष व बच्चे भी शामिल रहे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co