रामनारायण हिण्डोलिया ने छोड़ा कांग्रेस का साथ
रामनारायण हिण्डोलिया ने छोड़ा कांग्रेस का साथ|Social Media
मध्य प्रदेश

ग्वालियर : अपनो को नकारने के जाल में कांग्रेस खुद फंसती दिख रही

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : दूसरे दल से आने वालो को महत्व देने से कांग्रेसी नाराज। भिण्ड जिला पंचायत अध्यक्ष हिण्डोलिया ने कांग्रेस को कहा अलविदा।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। कांग्रेस अपनो को नकारे जाने के जाल में स्वंय फसती जा रही है ओर जहां भी टिकट दिए है वहां कांग्रेस विरोध कर रही है। दिमनी, अम्बाह में तो विरोध होने लगा है साथ ही गोहद से टिकट देने के बाद नाराज होकर जिला पंचायत भिण्ड के अध्यक्ष रामनारायण हिण्डोलिया ने कांग्रेस छोड़ साइकिल की सवारी करना शुरू कर दी है। हिण्डोलिया को पूर्व मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह का खास समर्थक माना जाता है ओर उन्ही के कारण वह जिला पंचायत के अध्यक्ष बन सके थे। अब अचानक अपने नेता का साथ छोड़कर दूसरे दल में जाने से राजनीतिक गलियारो में यह चर्चा होने लगी है कि कांग्रेस उप चुनाव को लेकर गंभीर नहीं है ओर आपस में गुटबाजी भी दिख रही है।

प्रदेश में सरकार जाने के बाद कांग्रेसी एकाएक सक्रिय हो गए थे ओर सिंधिया के कहने के बाद भी कई कांग्रेसियो ने पार्टी नहीं छोड़ी थी। कांग्रेसियो को उम्मीद थी कि आगे चलकर उनको महत्व मिलेगा, लेकिन जब उप चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपनी पहली सूची जारी की तो कांग्रेसियो के अरमानो पर पानी फिर गया। इसका कारण यह रहा कि कांग्रेस ने अधिकांश सीटो पर उन्ही को मैदान में उतारा है जो दूसरे दल से आएं है। कांग्रेस की इस नीति के कारण कांग्रेसी अब कहने लगे है कि अब कांग्रेस एवं भाजपा में अंतर ही क्या है। दूसरे दल से आने वालो को महत्व देने से स्वंय के दल के नेता नाराज होने लगे है इसका प्रभाव उप चुनाव में कांग्रेस के ऊपर पड़ सकता है। दिमनी एवं अंबाह में तो विरोध होने ही लगा है साथ ही अब ग्वालियर एवं गोहद में भी विरोधी स्वर उठने लगे है।

हिण्डोलिया करेगें साइकिल की सवारी :

गोहद में टिकट को लेकर जिला पंचायत के अध्यक्ष रामनारायण हिण्डोलिया पूरी तरह से आश्वस्त थे, लेकिन जब उनका नाम कट कर दिया गया तो वह नाराज हो गए। हिण्डोलिया को पूर्व मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह का खास समर्थक माना जाता है, क्योंकि उन्ही के प्रयासो से हिण्डोलिया जिला पंचायत के अध्यक्ष बन पाएं थे। ऐसे में अचानक उन्होने जब कांग्रेस छोड़ी तो समझा जा सकता है कि इतना विश्वस्त साथी जब नाराज हो सकता है तो अन्य कांग्रेसी कितने नाराज होगें। दिमनी में भी कांग्रेस के दावेदारो में शामिल वीरेन्द्र सिंह दूसरे दल से मैदान में आ सकते है। इसी तरह का विरोध डबरा में भी देखने को मिल रहा है। कांग्रेस सूत्र का कहना है कि जो लोग विरोध कर रहे है उनको मना लिया जाएगा ओर कमलनाथ जब ग्वालियर दौरे पर आएंगे तो नाराज लोगों को बुलाकर उनसे बात करेंगे ओर उन्हें मना लेगें। अब देखना होगा कि नाराज लोग कितनी आसानी से कमलनाथ की बात मानते है।

भाजपा के नारायण पकड़ सकते है हाथ :

रजनीतिक गलियारो में चर्चा है कि भाजपा के एक पूर्व मंत्री जल्द कांग्रेस का हाथ पकड़ सकते है। इसको लेकर उनकी पार्टी नेताओ से बात हो चुकी है, लेकिन कोरोना पॉजिटिव आने के कारण वह भोपाल नहीं जा सके थे। सूत्र का कहना है कि कमलनाथ जब ग्वालियर दौरे पर आएंगे उस समय भाजपा के नारायण कांग्रेस का हाथ पकड़ सकते है। बताया गया है कि समीक्षा गुप्ता के भाजपा में वापिस आने के बाद से ही नारायण नाराज है, क्योंकि विधानसभा चुनाव में समीक्षा के खड़े होने के कारण ही नारायण जीती हुई बाजी हार गए थे। सूत्र का कहना है कि नारायण से बात करने के लिए कांग्रेस के कुछ नेता लगे हुए है ओर बात लगभग फाइनल हो गए है। कांग्रेस में शामिल होने के बाद उनको चुनावी मैदान में उतारा जा सकता है जिसके लिए कांग्रेस कुछ टिकटो को बदल भी सकती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co