भोपाल : मनुआभान की टेकरी पर बनेगा रानी पद्मावती का भव्य स्मारक

भोपाल, मध्य प्रदेश : उपचुनाव से पहले शिवराज सिंह का एक और बड़ा ऐलान। पद्मावती की शौर्य गाथा को पाठ्यक्रम में किया जाएगा शामिल।
भोपाल : मनुआभान की टेकरी पर बनेगा रानी पद्मावती का भव्य स्मारक
मनुआभान की टेकरी पर बनेगा रानी पद्मावती का भव्य स्मारक

भोपाल, मध्य प्रदेश। प्रदेश उपचुनाव की सरगर्मियों के बीच प्रदेश की शिवराज सरकार एक के बाद एक बड़े ऐलान कर रही है। अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को यहां राजपूत समाज के शस्त्र पूजन कार्यक्रम में बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि भोपाल के मनुभावन टेकरी पर रानी पद्मावती की स्मृति में भव्य स्मारक बनाया जाएगा और पद्मावती के जीवन की शौर्य गाथा को अगले सत्र की पाठ्य पुस्तक में भी सम्मिलित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भोपाल के मनुआभान की टेकरी पर महारानी पद्मावती के स्मारक के लिए मैंने भूमि आरक्षित की है, वहां भव्य स्मारक बनाया जाएगा। समाज के पदाधिकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल बने, जो स्मारक के स्वरूप की रूपरेखा बनाएं, ताकि हम सबकी अपेक्षा के अनुरूप उनका स्मारक बन सके। शिवराज ने कहा कि महारानी पद्मावती के जीवन की शौर्य गाथा को अगले सत्र की पाठ्य पुस्तक में शामिल किया जाएगा। इसके अलावा 'महाराणा शौर्य पुरुस्कार' और 'पद्मिनी पुरस्कार' प्रतिवर्ष मध्यप्रदेश सरकार की ओर से प्रदान किया जाएगा। पुरस्कार स्वरूप दो लाख रुपए नगद राशि प्रदान की जाएगी। उन्होंने करणी सेना के कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमे को भी वापस लेने और पद्मावती फिल्म के दौरान प्रदर्शन करने वाले कार्यकर्ताओं पर मामले दर्ज करने का भी ऐलान किया है। अब रानी पद्मावती और करणी सेना से दर्ज मुकदमे को वापस लेने के फैसला को उपचुनाव से पहले राजपूत वोटरों को साधने के लिए बड़ा दांव माना जा रहा है।

सीएम का विरोध करने पर युवक को बाथरूम में किया बंद :

भोपाल में राजपूत समाज के शस्त्र पूजन कार्यक्रम में शामिल होने गए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को विरोध का सामना करना पड़ा। कार्यक्रम के दौरान एक व्यक्ति सीएम से बात करने के लिए मंच की ओर जाने लगा तो पुलिस और वहां मौजूद लोगों ने उसे रोक लिया। युवक का कहना है कि उपचुनाव में सीएम को हमारे वोट की चिंता सताने लगी है। मैंने अपनी बात रखनी चाही तो उन लोगों ने बाहर कर मुझे बाथरूम में बंद कर दिया। कार्यक्रम लगातार विरोध को देखते हुए शिवराज ने सभा को संबोधित किया और यहां से निकल गए। हालांकि उन्होंने मंच से कहा कि उनका आज यहां आने का कार्यक्रम नहीं था, लेकिन आपके बुलावे पर आया हूं, उन्हें और भी कई जगह पर जाना है। मनोहर रघुवंशी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने 2018 के चुनाव में कहा था कि उन्हें सामान्य वर्ग का वोट नहीं चाहिए। अब उपचुनाव में स्मारक बनाने की बात कह रहे हैं। अब इन्हें चुनाव में हार का डर सता रहा है। इसलिए वोट मांगने आए हैं। मैंने इसका विरोध किया तो पुलिस और अन्य लोगों ने मेरे साथ झूमाझटकी की। वे पकड़कर मुझे साइड में ले गए और बाथरूम में बंद कर दिया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co