रजिस्ट्री कार्यालय का सर्वर डाउन, रजिस्ट्री कराने दिनभर भटकते रहे उपभोक्ता
रजिस्ट्री कार्यालय का सर्वर डाउनSocial Media

रजिस्ट्री कार्यालय का सर्वर डाउन, रजिस्ट्री कराने दिनभर भटकते रहे उपभोक्ता

रजिस्ट्री कार्यालय के लगातार सर्वर डाउन होने के चलते लोगों को भारी परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है। गुरूवार को भी रोज की तरह रजिस्ट्री कराने को लेकर बड़ी संख्या में लोग परेशान होते रहे।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मार्च माह में नियमित दिनों के अलावां जहां त्यौहारों पर रजिस्ट्री कराने वालों की बड़ी तादाद में भीड़ बढ़ रही है, वहीं रजिस्ट्री कार्यालय के लगातार सर्वर डाउन होने के चलते लोगों को भारी परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है। गुरूवार को भी रोज की तरह रजिस्ट्री कराने को लेकर बड़ी संख्या में लोग परेशान होते रहे। आज की स्थिति ये थी कि दिन भर में मात्र 153 रजिस्ट्री ही हो सकीं।

राजस्व पर सीधा पड़ रहा असर राजधानी में सबसे ज्यादा जमीनों की रजिस्ट्री मार्च महीनें में ही होती है। जिसके चलते संपदा विभाग हर साल उसी के हिसाब से पूरी तैयारी एक माह पहले कर ली जाती है। लेकिन इस बार विभाग की लापरवाही के चलते विभाग का बार-बार सर्वर डाउन होने के कारण सरकार को करोड़ों रूपए का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। ऐसे में विभाग का इस वर्ष बढ़ने वाले राजस्व पर सीधा असर पड़ेगा।

मार्च माह में रोज होता है 5 सौ से अधिक रजिस्ट्रियां राजधानी सहित प्रदेश भर में मार्च माह में रजिस्ट्री कराने वालों की संख्या तीन गुना हो जाती है, जिसके चलते विभाग को रजिस्ट्रियों से होने वाले राजस्व पर करोड़ों का इजाफा होता है। ऐसे में विभाग का टारगेट से अधिक राजस्व होने के चलते सरकार को भी राहत मिलती है। लेकिन इस साल संपदा विभाग की कोई तैयारी नहीं होने के चलते विभाग को सीधा नुकसान हो रहा है। इस माह में मात्र 5 दिन शेष हैं, जिसमें अधिक से अधिक होने की संभावना जताई जा रही है। लेकिन संपदा विभाग की लापरवाही के चलते बार-बार सर्वर डाउन रहा तो विभाग को अपने टारगेट पूरा करने के लाले पड़ जाएंगे। आपको बता दें कि मार्च माह के दूसरे पखवाड़े के बाद रजिस्ट्रियों की संख्या में तेजी से इजाफा होता है। जिसके कारण प्रति दिन 4 सौ से लेकर 600 तक रजिस्ट्रियों का आंकड़ा पहुंच जाता है।

गाइडलाइन का भी रजिस्ट्रियों पर पड़ता खासा असर कलेक्टर गाइडलाइन का भी मार्च माह में रजिस्ट्रियों पर सीधा असर पड़ता है। इस बार नई कलेक्टर गाइडलाइन के अनुसार 1 अप्रैल से जमीनों की कीमतों में 5 से 25 फीसदी वृद्धि होने जा रही है। ऐसे में मार्च माह में रजिस्ट्रियों के आंकड़े पर खासा असर पड़ने के साथ ही राजस्व में भारी वृद्धि होने की संभावना जताई जा रही है। लेकिन संपदा विभाग द्वारा तत्काल सर्वर को ठीक नहीं किया गया तो रजिस्ट्रियों के आंकड़े भी चौंकाने वाले ही आएंगे।

गुरूवार को रजिस्ट्रियों की ये रही स्थिति राजधानी सहित प्रदेश पर रजिस्ट्रियों को लेकर उनके आंकड़ों पर नजर डालें तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। गुरूवार को जहां भोपाल जिले मेंं 154 रजिस्ट्रियां हुई हैं, वहीं इंदौर में रजिस्ट्रियों की संख्या मात्र 245 ही रही। इसी तरह ग्वालियर में कुल 106 रजिस्ट्रियां ही हो सकीं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co