नदी के तेज बहाव में फंसे बच्चों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित बाहर निकला
नदी के तेज बहाव में फंसे बच्चों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित बाहर निकला|Raj Express
मध्य प्रदेश

नदी के तेज बहाव में फंसे बच्चों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित बाहर निकला

सिंगरौली, मध्यप्रदेश: बच्चों के नदी मे फंसे होने की सूचना के उपरांत हरकत में आए जिला प्रशासन ने मौके की गंभीरता को भांपते हुए मोर्चे को संभाला एवं जिले के SDRF टीम के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गया।

Shashikant Kushwaha

सिंगरौली, मध्यप्रदेश: भारत में मानसून ने दस्तक दे दी है अधिकांश जगहों पर बारिश का कहर जारी है लगातार हो रही बारिश के कारण कई भयानक तस्वीरें भी सामने आ चुकी हैं जिसमें कि लोगों के घरों में पानी से लेकर मकान ढहने तक की खबरें मिल रही हैं। नदी नालों का जलस्तर में भी काफी वृद्धि देखने को मिली है। बात अगर हम मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले की करें तो मानसून की इस बारिश ने यहां पर भी कहर ढाया है आज सिंगरौली जिले के जरहा गांव दिमाग से लगी हुई नदी ने अपना रौद्र रूप धारण कर लिया, जिसके फलस्वरूप 4 बच्चों की जान पर आ पड़ी जिस किसी ने यह नजारा देखा वह पूरी तरह से स्तब्ध रह गया।

क्या है मामला :

सिंगरौली जिले के जरहा गांव से सटे हुए म्यार नदी गांव के ही 4 बच्चे नवनीत कुमार , प्रिंस , अशोक केवट, प्रिंशु नदी में मछली पकड़ने गए हुए थे और अचानक से नदी का जलस्तर बढ़ जाने के कारण तेज बहाव के बीच में फंस गए ऐसे में बच्चों की चीख-पुकार सुनकर गांव के लोग एकत्र हो गए एवं गांव के ही स्थानीय लोगों के द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया। आपको बताते चलें कि नदी का बहाव इतना तेज था कि गांव के ही तैराक हार मान बैठे जिसके बाद जिला प्रशासन को सूचना दी गई और जिला प्रशासन हरकत में आ गया।

एसडीआरएफ की टीम ने बच्चों को सुरक्षित निकाला :

बच्चों के नदी में फंसे होने की सूचना के उपरांत हरकत में आए जिला प्रशासन ने मौके की गंभीरता को भांपते हुए मोर्चे को संभाला एवं जिले के एसडीआरएफ टीम के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गया। लगभग 2 घंटे कड़ी मशक्कत के बाद चारों नदी में फंसे हुए बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया गया मौके पर जिले के आला अधिकारी मौजूद रहे इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग का अमला भी मौके पर रहा।

प्रशासन की लापरवाही आई सामने :

सिंगरौली जिले में हुए इस हादसे के बाद प्रशासन की लापरवाही उजागर हुई है जिससे की चार मासूमों की जान जाते जाते बची। संबंधित मामले पर यदि गौर करें तो बाकायदा जिला प्रशासन लोगों को अलर्ट करना चाहिए था जिसमें की जिला प्रशासन के द्वारा ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co