Raj Express
www.rajexpress.co
Honey Trap Case
Honey Trap Case|Neha Shrivastav- RE
मध्य प्रदेश

हाई-प्रोफाइल हनी ट्रैप के खुलासे से MP की राजनीति में मचा भूचाल

भोपाल, इंदौर: मध्य प्रदेश में इन दिनों हनी ट्रैप के खुलासे से हड़कंप मचा हुआ है, हालांकि इस मामले से सियासी गलियारों में हलचल तेज हैं और भोपाल से 3 व इंदौर से 2 युवतियों को गिरफ्तार किया गया हैं।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • मध्य प्रदेश में हनी ट्रैप मामले से मचा हड़कंप

  • भोपाल व इंदौर से 5 युवतियाँ गिरफ्तार

  • पूर्व मंत्री के बंगले से गिरफ्तार हुई लड़कियां

  • हनी ट्रैप खुलासे से MP की राजनीति में भूचाल

  • 8 महीनों से चल रहा ब्लैकमेलिंग का सिलसिला

राज एक्‍सप्रेस। मध्य प्रदेश में इन दिनों हनी ट्रैप के खुलासे से हड़कंप मचा हुआ है और इस मामले के सामने आने के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हैं, अब तक पांच युवतियों की गिरफ्तारी हुई है, इनमें से तीन युवतियां भोपाल और दो को इंदौर से गिरफ्तार किया गया है, गिरफ्तारी के बाद से पूरे प्रदेश में हड़कंप का माहौल है।

पूर्व मंत्री के बंगले से गिरफ्तार हुई लड़कियां :

बताया जा रहा है कि, इस मामले पर इंदौर के नगर निगम इंजीनियर ने पलासिया थाने में FIR दर्ज कराई थी, इसके बाद इंदौर पुलिस की निशानदेही पर ही ATS और भोपाल पुलिस ने धरपकड़ की और इन लड़कियों को पूर्व मंत्री के हाईप्रोफाइल सोसायटी में बने बंगले से गिरफ्तार किया गया है। ATS की टीम तीनों युवतियों को बुधवार,18 सितंबर की रात में ही भोपाल से इंदौर लेकर पहुंची और तीनों से इंदौर के महिला थाने में पूछताछ की जा रही है। वहीं, गुरुवार 19 सिंतबर को सुबह पुलिस ने इंदौर से ही 2 युवतियों को और गिरफ्तार किया है।

गोविंदपुरा थाने में कई घंटों तक पूछताछ :

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार, भोपाल से गिरफ्तार की गई लड़कियों से पहले तो गोविंदपुरा थाने में कई घंटों तक पूछताछ भी की गई। वहीं इंदौर नगर निगम के एक अधिकारी को भोपाल की युवतियों ने फंसाया और ब्लैकमेल कर 2 करोड़ रुपये मांग रही थी। आरोप है कि, ये इंदौर में फोन पर लगातार धमकी दे रही थी। वहीं यह बात भी समाने आई हैं कि, ये लड़कियां भोपाल में कुछ नेताओं एवं अधिकारियों को भी अपना शिकार बना चुकी हैं। वैसे हनी ट्रैप के खुलासे के इस पूरे मामले पर पुलिस अभी कुछ भी कहने से बच रही है, लेकिन कई नेताओं और अफसरों के हनीट्रैप होने की आशंका है।

जाने पूरा मामला :

इंदौर के पलासिया थाने में दर्ज की गई शिकायत में कहा गया है कि, भोपाल की श्वेता जैन नाम की युवती ब्लैकमेल कर रही है और साथ ही 2 करोड़ रुपये की मांग कर रही है। इसके बाद पुलिस ने क्राइम ब्रांच और ATS की टीम से संपर्क किया और श्वेता जैन की तलाश शुरू करने के बाद भोपाल के रिवेरा टाउन में इस युवती की लोकेशन मिली, वहीं जांच के दौरान टीम को भोपाल की मिनाल रेजिडेंसी से दूसरी श्वेता जैन और भोपाल के कोटरा सुल्तानाबाद से बरखा सोनी के इनपुट मिले, फिर भोपाल पुलिस ने प्लान बनाकर रात करीब 8 बजे तीनों युवतियों के ठिकानों पर दबिश दी, सबसे पहले श्वेता जैन को ही गिरफ्तार किया। पुलिस सबसे पहले तीनों युवतियों को अशोका गार्डन थाने लेकर गई, जहां थोड़ी देर पूछताछ करने के बाद, गोविंदपुरा थाने ले जाकर पूछताछ की गई।

Honey Trap Case
Honey Trap Case
Neha Shrivastav- RE

तीनों ने 2 और युवतियों के नाम बताए :

इसके बाद देर रात करीब 1 बजे इंदौर से ATS की टीम भोपाल पहुंची और तीनों से पूछताछ की, फिर ATS की टीम रात करीब 3:40 पर तीनों युवतीयों को लेकर इंदौर रवाना हुई। ATS टीम द्वारा सुबह करीब 5:50 बजे इंदौर के महिला थाने पहुंची, जहां 6 बजे से इन्वेस्टिगेशन टीम द्वारा फिर पूछताछ शुरू की, तो तीनों ने 2 और नाम बताएं, जिसके बाद पुलिस ने इन महिलाओं को फोन कर 50 लाख रु. की पहली किश्त लेने का लालच दिया, तो आरती दयाल और मोनिका यादव, ड्राइवर ओमप्रकाश के साथ विजय नगर स्थित बीसीएम हाईट्स पहुंचे तो, पुलिस ने इन्हें धरदबोचा, फिलहाल अभी पांचों युवतियों को इंदौर के महिला थाने में रखा गया है, जहां ATS, क्राइम ब्रांच और पुलिस टीम द्वारा सयुंक्त जांच की जा रही है।

8 महीनों से चल रहा ब्लैकमेलिंग का सिलसिला :

जांच पड़ताल में ये बात पता चला कि, भोपाल की आरती पति पंकज दयाल की निगम इंजीनियर से दोस्ती थी और आरती नौकरी दिलाने के बहाने नरसिंहगढ़ की 18 साल की बीएससी छात्रा मोनिका की इंजीनियर से दोस्ती करवाई, फिर होटल में आरती ने मोबाइल फोन से दोनों का वीडियो बनाया एवं इसी वीडियो को लेकर आरती और मोनिका, इंजीनियर को ब्लैकमेल करने लगीं, ब्लैकमेलिंग का यह सिलसिला करीब 8 महीनों से चल रहा था। हालांकि इस मामले को लेकर इंजीनियर 3 बार पैसे भी दे चुके थे, लेकिन इस बार 3 करोड़ की डिमांड आई, तो इंजीनियर ने पुलिस में FIR दर्ज करा दी।

इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने बताया :

बहुचर्चित हनीट्रैप मामले में इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने बताया, इंदौर के एक फरियादी जो नगर निगम में पदस्थ है, उनकी शिकायत पर ज्ञात हुआ कि, एक महिला है जो अपने अन्य साथियों के साथ में उन्हें वीडियो के माध्यम से ब्लैकमेल कर रही है और 3 करोड़ रुपए की मांग की। इस पूरे मामले में थाना पलासिया में 419 384 405 बटा 19 506 120 बी व अन्य धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया गया और प्रकरण को इन्वेस्टिगेशन में लिया गया। यह लोग क्रेटा वन में भोपाल से इंदौर आए थे, इनके साथ में एक मोनिका नाम की महिला और ड्राइवर जो गाड़ी चला रहा था। इन तीनों को क्रेटा कार के साथ में प्रारंभिक रूप से पुष्टि होने के पश्चात गिरफ्तार किया गया। इस पूरे घटनाक्रम में भोपाल की कुछ अन्य महिलाएं भी शामिल थी। इस प्रकरण में अब तक 6 लोगों की गिरफ्तारी की गई है, इनके नेटवर्क मोबाइल फोन व इससे जुड़े हुए जो गैजेट से वह जप्त किए गए हैं।

एसएसपी ने बताया कि, इंजीनियर हरभजन सिंह नरेंद्र नगर निगम में कार्यरत है, रोनक इंदौर के होटल में बुलाया और यहां पर उस वीडियो के माध्यम से ब्लैकमेल करने का प्रयास किया जा रहा, जिसमें भोपाल पुलिस की सहायता से अन्य महिलाओं को हिरासत में लिया गया। निगम के इंजीनियर को ब्लैकमेल करने की एकमात्र FIR के बाद ही सबकुछ सामने आया है।