Sagar : बीएमसी के अंदर भी लोगों में नहीं है कोरोना का खौफ
बिना मास्क अस्पताल परिसर में घूम रहे लोग, गाइड लाइन का नहीं पालनसांकेतिक चित्र

Sagar : बीएमसी के अंदर भी लोगों में नहीं है कोरोना का खौफ

कलेक्टर दीपक सिंह एवं बीएमसी बुलेटिन जारी करने वाले मीडिया प्रभारी लोगों से मास्क पहनने और गाईडलाईन का पालन करने की प्रतिदिन अपील कर रहे हैं, लेकिन बीएमसी के अंदर ही यह लापरवाही समझ से परे है।

सागर, मध्यप्रदेश। कोरोना महामारी की दूसरी लहर में हुई परेशानियों को नजर अंदाज कर जिले के लोग एक बार फिर कोरोना की अनदेखी करने लगे हैं। बुंदेलखंड मेडीकल कॉलेज में जिले व आसपास के दूसरे जिलों के कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है, लेकिन इसके बाद भी यहां इलाज कराने आने वाले मरीजों में कोरोना का कोई खौफ नजर नहीं आ रहा है। लोग अस्पताल परिसर में बिना मास्क के ही घूमते हुए दिख रहे हैं, जबकि यहां तैनात गार्ड लोगों से बार-बार मास्क पहनने एनाउंस कर रहे हैं। यह हाल सिर्फ बीएमसी का ही नहीं बल्कि शहर के अन्य सार्वजनिक स्थानों में भी दिख रहा है जो तीसरी लहर के लिए खुला आमंत्रण है।

कोरोना के प्रकरण बढऩे के बाद लगाया गया प्रतिबंध पूरी तरह से हटा नहीं है, लेकिन लोग एक बार फिर खुलेआम लापरवाही दिखाने लगे हैं। बीएमसी परिसर जिसके आसपास रहने वालों व सामने से गुजरने वाले राहगीरों में भी दो माह पहले खौफ नजर आता था, लेकिन अब लोग बीएमसी के अंदर इलाज कराने के दौरान भी मास्क व कोरोना गाइड लाइन से परहेज करते हुए दिख रहे हैं। सामान्य ओपीडी के दौरान बीएमसी में प्रवेश करने के पहले ही यहां तैनात गार्ड लोगों से मास्क पहनने की अपील कर रहे हैं, लेकिन अंदर जाने के बाद दर्जनों मरीज व उनके परिजन बिना मास्क के ही घूम रहे हैं। यह लापरवाही उन्हें व उनके परिवार के सदस्यों के लिए भी खतरा बन सकती है, लेकिन लोग नियमों की अनदेखी कर रहे हैं।

साफ दिख रही लापरवाही :

बीएमसी के अंदर पर्ची कटवाने के दौरान ही लोगों की लापरवाही साफ दिखने लगती है। कोई गुटखा खाते हुए पर्ची कटवाता दिखता है तो कोई यहीं शारीरिक दूरी के नियमों की अनदेखी करते हुए कतार में लगे-लगे ही पानी पीते दिखते हैं, जबकि संक्रमित क्षेत्र में खानपान से परहेज जरूरी है। इसके अलावा सोनोग्राफी, एक्सरे सेंटर, दवा वितरण कक्ष के पास लोगों को बिना मास्क पर ही देखा जा रहा है, जबकि यहां एक गार्ड माइक लेकर लोगों से मास्क पहने रखने बार-बार निवेदन कर रहा है। गार्ड थोड़ा ही यहां-वहां होता है तो कुछ युवा मास्क नीचे करके बातें करने लगते हैं। गार्ड भले ही उन्हें न देखे, लेकिन कोरोना उन्हें देख रहा है इस बात को वह अब भी नहीं समझ रहे हैं।

कलेक्टर दीपक सिंह एवं बीएमसी बुलेटिन जारी करने वाले मीडिया प्रभारी डॉ. उमेश पटैल, डॉ. सुमित रावत लोगों से मास्क पहनने और गाईडलाईन का पालन करने प्रतिदिन अपील कर रहे हैं, लेकिन बीएमसी के अंदर ही यह लापरवाही समझ से परे है। गौरतलब है, कि देश के कुछ स्थानों पर कोरोना की तीसरी लहर भी धीरे-धीरे दस्तक दे रही है, जिससे निपटने के लिए प्रशासन तीसरी लहर की तैयारियों में जुटा हुआ है। अस्पतालों में ऑक्सीजन से लेकर मरीजों को भर्ती करने तक की व्यवस्था चल रही है, लेकिन लोगों की यह लापरवाही महंगी साबित हो सकती है। टीकाकरण कराए बिना इस तरह की लापरवाही लोगों के लिए खतरा बन सकता है, क्योंकि जिले में अब कोरोना टीका का संकट भी बना हुआ है। जिले की आधी आवादी को अब तक कोरोना का टीका तक नहीं लग पाया है, लेकिन लोग बेखौफ शहर में घूमते हुए दिख रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co