नागदा पुलिस के हाथ लगा 10 हजार ईनामी सलमान लाला
नागदा पुलिस के हाथ लगा 10 हजार ईनामी सलमान लाला|Neha Shrivastava - RE
मध्य प्रदेश

सलमान की गिरफ्तारी हटा सकती है सफेदपोश व रसूखदारों के चेहरे से नकाब

नागदा, मध्य प्रदेश: सलमान लाला सहित पकड़े गए बदमाशो की कॉल डिटेल निकाली जा रही है, कई सफेद पोश व रसुखदार सहित बदमाशो के चेहरे से हट सकता है नकाब।

Gopal Mavar

Gopal Mavar

राज एक्सप्रेस। 10 हजार ईनामी सलमान लाला ने शहर को बदमाशो की शरणस्थली बना रखा था। राजस्थान के बदमाश थोक मात्रा में हथियार लाकर बेचते थे। दोनो बदमाश की कुंडली खंगालने के लिए पुलिस के साथ एटीएस, एसटीएफ सहित अन्य आसपास के क्षेत्रो की पुलिस भी लग गई है। हथियार सप्लाई करने वाले आरोपी की गिरफ्तारी में पुलिस पूरी तरह जुट गई है। आरोपी की कॉड डिटेल के लिए सायबर सेल लग चुका है। डिटेल आने के बाद कई सफेद पोश सहित धन्ना सेठो व बदमाशो के भी राज खुलने की संभावना है। मर्सडिज कार चोरी के मामले में आरोपी मनोहर देवड़ा को भी उन्हेल क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है।

आतंक का पर्याय बना सलमान लाला सहित चार अन्य बदमाशो की गिरफ्तारी के दौरान 6 लाख की पिस्टल, बड़ी मात्रा में कारतुस जब्त होने के बाद स्थानीय पुलिस के अलावा एसटीएफ, रतलाम, जावरा व राजस्थान की पुलिस के साथ एटीएस भी सक्रिय हो गई है। पुलिस ने सलमान लाला व उसके साथियों सहित 5 सितंबर 2018 को इंदौर अन्नपुर्णा थाना क्षेत्र से चुराई गई गाड़ी जब्त होने के बाद पुलिस को शंका है की अन्य गाडिय़ों की चोरी में भी इनका हाथ हो सकता है। पुलिस इस दिशा में भी काम पर लग गई है। पुलिस सहित अन्य पुलिस की संस्थाएं भी जावरा के पास परवलिया निवासी आरोपी की तलाश में जुट गई है। अलग-अलग टीमे पुलिस ने बनाई। इसी के साथ एटीएस भी अपने स्तर से जांच कर आरोपी को गिरफ्तार करने के प्रयास में लग गई है। फिलहाल पुलिस का मानना है की यदि वह आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ जाए तो हथियारो का बड़ा जखिरे के साथ बड़े हथियार की खरीदी बिक्री भी सामने आ सकती है। इसमें नामचीन लोगो के नाम भी सामने आ सकते है।

खुद पर 10 हजार का ईनाम दुसरो को कटवाता था फरारी :

10 हजार ईनाम होने के बाद भी सलमान लाला 11 माह से खुलेआम शहर में घुम रहा था। इतना ही नही राजस्थान सहित अन्य प्रदेशो के बदमाशो को भी पनाह देने की बात इसकी गिरफ्तारी के बाद सामने आई है। जो खुद फरार व दुसरो को फरारी कटवा रहा था। तो कही न कही सलमान के हाथ लंबे तो है ही। इसको देखते हुए एसटीएफ व पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सलमान लाला सहित अन्य बदमाशो के मोबाईल की भी कॉल डिटेल निकालने के लिए सायबर सेल को लगा दिया है। कॉल डिटेल आने के बाद कई सफेद पोश रसुखदार के नकाबो से चेहरे साफ हो जाएंगे। यह बात अलग है की पुलिस उन पर कार्यवाही करे या नही करे।

हथियार बेचने का था मुख्य धंधा :

जैसा सलमान लाला का नाम चल रहा था वह अभी तक पुछताछ में ऐसा कही नही दिखाई दिया। गाड़ी चोरी का मामला सामने आया तो लगने लगा की आतंक का पर्याय गाड़ी चोरी जैसी वारदात भी करता था। पुलिस सुत्रो के अनुसार पुछताछ के दौरान जो अभी तक बात सामने आई है इतनी बड़ी मात्रा में कारतुस जब्त हुए है तो इनका मुख्य धंधा हथियार बेचने का है। इसलिए एसटीएफ सहित एटीएस भी मामले की जांच में लग गई।

क्राईम ब्रांच पर हमले के दौरान उपयोग की गई फार्चुनर गाड़ी की भी तलाश :

चोरी की मर्सडिज बरामद तो हो गई, अब एसटीएफ की नजर उस फार्चुनर जीप पर है जो खाचरौद बायपास पर क्राईम ब्रांच की टीम पर सलमान लाला व उसके साथियों ने हमला कर गोलियां चलाकर भागने में सफल हो गया था। हालांकि मामला खाचरौद थाने का है पर एसटीएफ उस मामले को भी गंभीरता से ले रही है। सुत्रो के अनुसार कुछ दिन पूर्व दो फार्चुनर पुलिस ने पकड़ भी ली थी लेकिन बाद में क्या हुआ इसका पता नही चल पाया।

11 माह शहर में ही रहकर काटी फरारी :

पुछताछ के दौरान जो बात सामने आई है वह भी चौकानी वाली है। 10 हजार ईनाम होने के बाद भी सलमान लाला ने 11 माह तक फरारी नागदा में रहकर ही काटी है। पुलिस सुत्रो के अनुसार जब्त की गई कार खाचरौद नाके पर एक मकान के गेरेज में रखी जाती थी। ज्यादातर आरोपी लाला उसी मकान में रहता था। शहर में मोटर सायकल से घुमता था। यदि उसे बाहर जाना होता तो मोटर सायकल वहां रखकर कार से जाकर वापस आता था तो कार गैरेज में रख देता था। लॉकडाऊन के बाद आरोपी लाला द्वारा प्रतिदिन मकान बदलकर सौता था।

एक और कार चोर को किया गिरफ्तार :

इंदौर से चुराई गई मर्सडिस कार के आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। एक आरोपी मनोहर देवड़ा निवासी उन्हेल के समीप गांव को सोमवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। उसे मंगलवार को न्यायायल में पेश किया। वहां उसे पुलिस रिमांड पर भेज दिया। पुछताछ के दौरान और भी कोई गाड़ी चुराने का खुलासा हो सकता है।

यह बात सही है की एसटीएफ ने भी लाला से पुछताछ की है। इसकी कॉल डिटेल सायबर सेल निकाल रहा है। परवलिया भी टीम भेजी थी पर सफलता नही मिली। पुछताछ की जा रही है। इसमें आरोपी सहयोग नही कर रहे है। पुलिस सभी बिंदुओं पर काम कर रही है। आरोपियों से पूछताछ पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

श्यामचंद्र शर्मा, टीआई, मंडी थाना नागदा

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co