जिले में रेत का खेल
जिले में रेत का खेल|सांकेतिक चित्र
मध्य प्रदेश

इटारसी : जिले में रेत का खेल, सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों मौन

इटारसी, मध्य प्रदेश : अब तो जिले में रेत का कारोबार करने वाले भोपाल से आकर बैठ गए हैं। सत्ता किसी की भी हो, लेकिन रेत का खेल बेरोकटोक जारी है।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

हाइलाइट्स :

  • रेत माफियाओं ने राजस्व अमले पर किया हमला

  • पांच लोगों पर मामला दर्ज, एक गिरफ्तार

इटारसी, मध्य प्रदेश। दो वर्ष पूर्व तक जब प्रदेश में भाजपा की सरकार थी तब कांग्रेसी लगातार सत्ताधारी दल के नेताओं के संरक्षण में अवैध उत्खनन और रेत चोरी का मामला उठाया करते थे। 2018 में सत्ता परिवर्तन हुआ और प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी। इस दौरान भाजपा के नेता जमकर यह आरोप लगाने में पीछे नहीं हट रहे थे कि जिले भर में कांग्रेस नेताओं के संरक्षण में रेत का अवैध कारोवार चल रहा है। समय के साथ मार्च 2020 में फिर सत्ता परिवर्तन हुआ और प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बन गई, लेकिन रेत का कारोबार नहीं रुका। यहां तक कि अब तो जिले में रेत का कारोबार करने वाले भोपाल से आकर बैठ गए हैं। सत्ता किसी की भी हो, लेकिन रेत का खेल बेरोकटोक जारी है।

जिले में इटारसी अनुभाग के रामपुर थाना क्षेत्र में भी रेत की महत्वपूर्ण खदाने हैं, यहां का थानेदार कोतवाली थाने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण और मजबूत माना जाता है। थाने में थानाप्रभारी की नियुक्ति नेताओं की मर्जी से ही होती है। ऐसे में उसे देखने के बावजूद आंखे बंद रखने को मजबूर होना पड़ता है। चर्चा है कि इस क्षेत्र में सत्ता पक्ष के दो धुरंदर नेताओं के कथित रूप से संरक्षण में रेत का कारोबार चलता है। ऐसे में वर्चस्व को लेकर कई बार लड़ाई झगड़े की नौवत भी बनी है। लगभग दो सप्ताह पूर्व तो खदान पर देर रात ही दोनो गुटों के लोग आमने-सामने हो गए थे, जमकर मारपीट भी हुई लेकिन मामला थाने में जाने के पहले ही निपटा लिया गया।

बुधवार की शाम भी ग्राम मेहराघांट में राजस्व विभाग के अमले पर हमला और शासकीय कार्य में बाधा डालने के मामले में रामपुर पुलिस ने 5 व्यक्तियों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किया है। रामपुर थाने में राजस्व निरीक्षक अमन पिता अमृतलाल चौहान निवासी कोठीबाजार होशंगाबाद ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। राजस्व अमले पर हमले का मामला बुधवार की शाम लगभग 5 बजे का है, किंतु इस मामले की शिकायत थाने में रात लगभग 9 बजे दर्ज कराई गई। इस मामले में सोनू कीर, टीटू कीर, पंकज कीर, जयराम कीर और गया कीर के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा डालने और अवैध रूप से रेत चोरी करने का मामला पंजीबद्ध किया गया है। इसी प्रकार ग्राम मेहराघाट के मामले में मृगेन्द्र पिता बालाराम सिसोदिया निवासी कमिश्नर कालोनी होशंगाबाद की शिकायत पर ट्रेक्टर क्रमांक एसई 744 के चालक एवं मालिक के खिलाफ अवैध रेत चोरी करने का मामला पंजीबद्ध किया गया है। यह घटना भी बुधवार शाम 6 बजे की है और इसकी शिकायत रात लगभग साढ़े 9 बजे दर्ज की गई है। सवाल यह उठ रहा है कि रेत चोरो के हौंसले इतने बुलंद कैसे हो गए कि वह प्रशासनिक अमले पर हमला कर रहे हैं। सवाल यह भी उठ रहा है कि यह सारा कारोबार कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर और एसपी की नाक के नीचे हो रहा है। इसके बाद भी इसे रोकने के लिए प्रशासन पूरी तरह असफल हो रहा है। तवा क्षेत्र की मेहराघांट, होरिया पीपल और मरोड़ा की रेत खदाने रेत माफियाओं और प्रशासन के लिए सोने का अंडा देने वाली मुर्गी बन गया है।

रेत के बढ़ते दामों के पीछे किसका संरक्षण :

सवाल यह भी उठ रहा है कि एक वर्ष पूर्व इटारसी और होशंगाबाद जो रेत की ट्राली 15सौ से 17सौ रूपए में बिकती थी उसकी कीमत अचानक बढ़कर 6 और 7 हजार तक कैसे पहुंच गई। कुल मिलाकर रेत के इस खेल में कौन-कौन शामिल है यह तो प्रशासन और सरकार जाने, लेकिन इतना जरूर है कि इसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है। उसे चार गुना महंगी रेत खरीदना पड़ रही है।

इनका कहना है :

होरिया पीपर में राजस्व अमले पर हमला करने के मामले में पांच लोगों के खिलाफ भादवि की धारा 353, 332, 186, 379 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया है। इनमें एक आरोपी टीटू उर्फ रामकुमार पिता गुलाबचंद कीर मेहराघांट को गिरफ्तार किया है।

एसआई राजेन्द्र सिंह गुर्जर, थाना प्रभारी, रामपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co