ग्वालियर : टेम्पों में बैठे युवक को एसडीएम ने बाल पकड़कर नीचे खींचा

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : मास्क लगवाने के लिए एसडीएम ने युवक को लगाए चांटे। आक्रामक अंदाज में नजर आए एसडीएम बनवारिया। लॉक डाउन के दौरान भी एक राहगीर के साथ एसडीएम ने की थी मारपीट।
ग्वालियर : टेम्पों में बैठे युवक को एसडीएम ने बाल पकड़कर नीचे खींचा
टेम्पों में बैठे युवक को एसडीएम ने बाल पकड़कर नीचे खींचाRaj Express

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। एसडीएम अनिल बनवारिया ने एक बार फिर से अपना आक्रामक अंदाज आमजन को दिखाया है। एसडीएम ने मास्क लगवाने को लेकर टेम्पो में सवार एक युवक को न केवल बाल पकड़कर बाहर खींचा बल्कि उसको चांटे भी लगाए। एसडीएम का यह अंदाज कुछ माह पूर्व एक बार पहले भी देखा गया था। अब यहां सवाल यह उठता है कि नियमों का पालन कराने के नाम पर उनके द्वारा इस तरह की अभद्रता और मारपीट करना क्या उचित है ? यदि उचित नहीं है तो फिर वरिष्ठ अधिकारी क्यों उनके के खिलाफ इस प्रकार के कृत्य के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

फूलबाग चौराहे पर एसडीएम अनिल बनवारिया पुलिस व प्रशासनिक अमले के साथ ऐसे लोगों की तलाश कर रहे थे, जो बिना मास्क लगाए सड़कों पर घूम रहे हैं। चौराहे से गुजर रहे वाहनों को रोका जा रहा था। इसके बाद उसमें बैठे यात्रियों को चेक किया जा रहा था, कि किस- किस ने मास्क नहीं पहना है। आमतौर पर ऐसे लोग जो मास्क नहीं पहने हुए हैं। उन्हें समझाइश देकर और उन्हें मास्क पहना कर वहां से चलता किया जाता है। लेकिन फूलबाग चौराहे पर चल रही चैकिंग का नजारा कुछ और था। एसडीएम अनिल बनवारिया खुद टेम्पो में झांक- झांक कर यह देख रहे थे, कि कोई व्यक्ति मास्क पहने हुए है अथवा नहीं। जब कोई व्यक्ति उन्हें बिना मास्क के पहने नजर आता तो उसे तेज आवाज में डांट लगा रहे थे और उसे मास्क पहनने के लिए कह रहे थे।

मास्क पहनने के बाद बाल पकड़े और बाहर खींचा :

चैकिंग के दौरान एक युवक उन्हें टैम्पों में बिना मास्क के पहने हुए नजर आया। बिना मास्क के देखते ही एसडीएम गुस्से से लाल हो गए। उन्होंने युवक को तेज आवाज में फटकारा और मास्क लगाने के लिए कहा। अभी युवक ने मास्क लगा ही पाया था, कि अचानक एसडीएम बनवारिया ने युवक के बाल पकड़ लिए और उसे टेम्पों से बाहर की ओर खींचने लगे। एसडीएम ने इस दौरान उस युवक को दो से तीन चांटे भी जड़ दिए। इसके बाद युवक को वहां से चलता कर दिया। यहां पर सवाल यह उठता है कि जब युवक ने मास्क पहन ही लिया था, तब उसके साथ मारपीट करने और उसके बाल खींचने की क्या आवश्यकता पड़ गई थी।

क्या कलेक्टर के नजदीक होने का फायदा उठाते हैं एसडीएम बनवारिया ?

सूत्रों की मानें तो एसडीएम बनवारिया जब से ग्वालियर में पदस्थ हुए हैं। तब से कलेक्टर की सीट पर कोई भी व्यक्ति हो लेकिन वह उसके खास माने जाते हैं। यही वजह है कि वह ऐसे अनुभाग के अधिकारी की सीट पर जमे हुए हैं। जो सीट जिले में सबसे खास मानी जाती है। सूत्रों की माने तो एसडीएम वर्तमान कलेक्टर के खास हैं। इसी वजह से वह खुलेआम सड़कों पर लोगोंं साथ मारपीट और अभद्रता करने से भी नहीं चूक रहे हैं।

लॉकडाउन के दौरान भी की थी मारपीट :

लॉकडाउन के दौरान फूलबाग चौराहे पर ही एसडीएम बनवारिया ने एक राहगीर के साथ मारपीट की थी। इतना ही नहीं उन्होंने उसके साथ अभद्रता भी की थी। चूंकि लॉकडाउन का समय था। इसलिए पीडि़त ने उनके खिलाफ कोई शिकायत नहीं की थी।

इनका कहना :

एसडीएम को आमजन के साथ मारपीट करने का कोई अधिकार नहीं है। यदि उन्होंने ऐसा किया है, तब हम उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे। नियमों का पालन कराने के लिए अभद्रता करने का अधिकार किसी अधिकारी के पास नहीं है।

कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co