जबलपुर : भुगतान के बदले 50 हजार की रिश्वत मांग रहा था एसडीओ
भुगतान के बदले 50 हजार की रिश्वत मांग रहा था एसडीओSocial Media

जबलपुर : भुगतान के बदले 50 हजार की रिश्वत मांग रहा था एसडीओ

जबलपुर, मध्य प्रदेश : कटनी आरईएस विभाग में एसडीओ के पद पर पदस्थ अजय कुमार सिंगौर को जबलपुर लोकायुक्त ने 50 हजार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

जबलपुर, मध्य प्रदेश। कटनी आरईएस विभाग में एसडीओ के पद पर पदस्थ अजय कुमार सिंगौर को जबलपुर लोकायुक्त ने 50 हजार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि एसडीओ सिंगौर ने तालाब निर्माण के बिल भुगतान के एवज में 1.25 लाख रूपये की डिमांड की थी। जिसकी पहली किश्त 50 हजार सोमवार को लेकर कटनी में मिजार्पुर बायपास रोड स्थित गोलू रेस्टोरेंट में बुलाया था। जैसे ही सिंगौर ने रकम लेकर अपने पेंट में रखी तभी टीम ने उनको दबोच लिया। रिश्वत की कार्रवाई के बाद लोकायुक्त की एक टीम ने उसके जबलपुर स्थित लमती सप्तऋषि नगर में बने आलीशन घर की सर्चिंग की कार्रवाई की। उसके घर से अकूत संपत्ति मिलने की बात कही जा रही है।

मगरधा गांव में बनाया था तालाब :

कार्रवाई के संबंध में लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा ने बताया कि संजय नगर कटनी निवासी रवि कुमार मिश्रा आरईएस में ठेकेदार हैं। उसने मगरधा गांव में नए तालाब का निर्माण कराया था। तालाब निर्माण के एवज में पांच लाख रुपए का बिल बना था। बिलों के भुगतान के लिए ग्रामीण यांत्रिकी सेवा आरईएस कटनी में पदस्थ एसडीओ 61 अजय कुमार सिंगौर अटका रहे थे। भुगतान के एवज में उनकी ओर से 1.25 लाख रुपए की डिमांड की जा रही थी।

नोट लेते ही रंग गए हाथ :

बताया जाता है कि पीड़ित ठेकेदार रवि कुमार मिश्रा ने 19 नवंबर को लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा को शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद एसपी के निर्देश पर डीएसपी जेपी वर्मा, निरीक्षक स्वप्निल दास गुप्ता के नेतृत्व में टीम का गठन करते हुए दोनों की बातचीत ट्रेप कराई। जिसके बाद एसडीओ ने पहली किश्त लेकर रवि को रेस्टारेंट बुलाया जिसके बाद टीम ने 50 हजार रुपए विशेष रसायन से रंगे नोट देकर भेजा और रंगे हाथों दबोच लिया।

सेवानिवृत्ति को बचा था सिर्फ एक वर्ष :

टीम ने एसडीओ को दबोचने के बाद एसपी अनिल विश्वकर्मा को सूचना दी जिसके बाद एसपी के निर्देश पर डीएसपी दिलीप झरवड़े के नेतृत्व में दूसरी टीम को उसके लमती सप्तऋषि नगर स्थिल महलनुमा बंगले में सर्चिंग की कार्रवाई को अंजाम दिया। बताया जाता है कि एसडीओ सिंगौर को सेवानिवृत्त होने में महज एक वर्ष बचा है जिसके चलते आय से अधिक संपत्ति होने की बात सामने आई। हालांकि लोकायुक्त ने सर्चिंग पूरी होने के बाद ही विस्तृत खुलासा कर पाएंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co