Sehore : जिला अस्पताल में हर माह लाखों रुपए का गड़बड़झाला
जिला अस्पताल में हर माह लाखों रुपए का गड़बड़झालाSyed Dabeer Hussain - RE

Sehore : जिला अस्पताल में हर माह लाखों रुपए का गड़बड़झाला

सुरक्षाकर्मियों का शोषण- न्यूनतम रेट को भी तरसे, घंटों काम कराने के बाद भी निजी सुरक्षाकर्मियों को न्यूनतम या फिर कलेक्ट्रेट दर से मासिक वेतन नहीं दिया जा रहा है।

सीहोर, मध्यप्रदेश। नगर में सुरक्षा गार्ड उपलब्ध कराने वाली एजेंसियों की संख्या बढ़ रही हैं। अनेक संस्थानों के पास तो लाईसेंस भी नहीं हैं। बावजूद इसके एजेंसियां गार्ड उपलब्ध करा रही हैं। आर्थिक संकट से जूझते बेरोजगार युवक-युवतियों का यह संस्थान शोषण कर रहे हैं। घंटों काम कराने के बाद भी निजी सुरक्षाकर्मियों को न्यूनतम या फिर कलेक्ट्रेट दर से मासिक वेतन नहीं दिया जा रहा है। जिला अस्पताल सीहोर में भी अलग अलग विभाग और वार्ड में लगे सुरक्षा गार्डों का एजेंसी द्वारा शोषण करने की बात सामने आ रही है।

बताया जा रहा है कि महिला और पुरुष गार्ड को कलेक्टर रेट के मुताबिक वेतन नहीं दिया जा रहा है, तो वहीं दूसरी और एजेंसी को अस्पताल द्वारा पूरा भुगतान किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जिला अस्पताल सीहोर में करीब 24 महिला और पुरुष सुरक्षा गार्ड कार्यरत हैं इंदौरिया सेक्योरिटी फोर्स एजेंसी का अस्पताल में गार्ड उपलब्ध कराने का ठेका है। नाम न छापने की शर्त पर एक महिला गार्ड ने बताया कि उन्हें 5500 रुपए मासिक वेतन मिल रहा है और उनसे करीब 12 घंटे ड्यूटी कराई जा रही है। एजेंसी के अधिकारियों द्वारा कहा गया है कि यदि किसी से शिकायत करोगे तो तुम्हें नौकरी से निकाल दिया जाएगा। इस महंगाई के दौर में इतने कम वेतन में गुजारा करना मुश्किल है।

कलेक्टर दर प्रस्तावित :

बताया जा रहा है कि जिला अस्पताल में सुरक्षा में लगे निजी गार्डस को कलेक्टर दर से वेतन प्रस्तावित की गई थी। लेकिन यहां कार्यरत गार्डस को कलेक्टर दर के मुताबिक वेतन नहीं दिया जा रहा है। देखा जाए तो गार्डस को 9 हजार रुपए वेतन मिलनी चाहिए जबकि उन्हें सिर्फ 5 हजार रुपए मासिक वेतन एजेंसी द्वारा दिया जाता है। जबकि अस्पताल प्रबंधक द्वारा एजेंसी के खाते में कलेक्टर दर से हिसाब से भुगतान किया जा रहा है।

जिम्मेदारों की संलिप्तता से खेल :

विभागीय सूत्रों ने बताया कि सारा खेल जि मेदार अफसर और कर्मचारियों की मिलीभगत से हो रहा है। ठेकेदार और कुछ जिम्मेदार यहां लाखों रुपए महीने की हेरफेर कर रहे हैं। गार्ड्स का शोषण कर एजेंसी हर महीने लाखों रुपए का ऐंठ रही है। पहरेदारों को बीमा और अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं कराई जा रही हैं। बताया जा रहा है कि बीते तीन सालों से अस्पताल में एक ही एजेंसी का ठेका है।

बैंक पास बुक मांगी है :

इस संबंध में अस्पताल के आरएमओ ने गार्ड्स की पासबुक और ज्वाईनिंग लेटर बुलवाए हैं। वहीं इस पूरे मामले पर सिविल सर्जन डॉ अशोक कुमार मांझी से बात करने का प्रयास किया तो वह कन्नी काटते नजर आए और कुछ भी बोलने से साफ इंकार कर दिया।

मामला संज्ञान में आया है। गार्डस से बैंक पास बुक, ज्वाईनिंग लेटर बुलवाए गए हैं। निष्पक्ष जांच की जाएगी।

डॉ. नवीन मेहर, आरएमओ, सीहोर

यह मेरे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता।

डॉ अशोक कुमार मांझी, सिविल सर्जन, सीहोर

गार्ड को निर्धारित वेतन दिया जा रहा है। किसी का शोषण नहीं हो रहा है।

ओपी इंदौरिया, मैनेजर, इंदौरिया सेक्योरिटी फोर्स

जिले में बाहर की एजेंसियां काम कर रही हैं। लाइसेंस पुलिस मुख्यालय से बनाये जाते हैं बिना लाइसेंस यदि एजेंसी काम कर रही हैं तो अभियान चला कर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

एसएस चौहान, एसपी, सीहोर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.