कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने शंकर शाह और रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर अर्पित किए श्रद्धासुमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। कमलनाथ ने आज राजीव गांधी सभागार में शंकर शाह-कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में उनके चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित किये।
कमलनाथ ने शंकर शाह-रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर श्रद्धासुमन अर्पित
कमलनाथ ने शंकर शाह-रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर श्रद्धासुमन अर्पितSocial Media

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज अमर शहीद राजा शंकर शाह और कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर देश उन्हें याद कर नमन कर रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी जे पी अग्रवाल ने आज यहां कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय के राजीव गांधी सभागार में राजा शंकर शाह और कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में उनके चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित किये।

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा- आज भोपाल स्थित मध्यप्रदेश कांग्रेस कार्यालय में आदिवासी समाज के गौरव एवं गोंडवाना राज्य के महाराजा शंकर शाह जी एवं कुंवर रघुनाथ शाह जी के बलिदान दिवस पर उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किये। उपस्थित जनसमुदाय को सम्बोधित कर उनके कार्यों को याद किया।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने कहा-

इस अवसर पर कमलनाथ ने कहा कि मप्र के इन दोनों महान बलिदानियों, जिनको अंग्रेजी हुकूमत ने तोप से बांधकर उड़ा दिया था, देश का प्रत्येक आदिवासी वर्ग इन पर गर्व करता है। बलिदान देने वाले ये दो व्यक्ति नहीं बल्कि पिता-पुत्र थे, जिन्होंने 1857 की क्रांति में हिस्सा लेकर आदिवासी वर्ग को ही नहीं, सभी समाज को जागृत कर, आंदोलन में शामिल होने की चेतना पैदा की थी।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि, हमारे स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणों की आहूती दी, उन्होंने भारत को जिन ऊचाईयों पर पहुँचाने का स्वप्न देखा था। जिस तरह अंग्रेजों ने फूट डालो शासन करो की नीति अपनायी थी, आज देश में बैठी फासिस्टवादी ताकते भी उसी तरह का काम कर रही हैं। आज देश को नया मोड़ दिया जा रहा है, भारत को कहां घसीटा जा रहा है। जो आदिवासी समाज एक होकर हमेशा रहा है, उसको पैसा और प्रलोभन देकर बांटने का प्रयास किया जा रहा है। देश के भविष्य को सुरक्षित कैसे किया जाए, आप कैसा देश देखना चाहते हैं, बंटा हुआ, विवाद भरा अथवा एकजुटता वाला देश, यह हमारे सामने आज बहुत बड़ी चुनौती बन गया है।

वहीं, मप्र के प्रभारी अग्रवाल ने कहा कि राजा शंकर शाह और कुंवर रघुनाथ ने आदिवासी वर्ग के उत्थान और उनके हितों के लिए निरंतर संघर्ष किया। जब इतिहास लिखा गया तो इन दो महान बलिदानी पिता-पुत्र का नाम भी सुनहरे अक्षरों में लिखा गया, जिन्होंने देश के लिए अपनी कुर्बानी दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इतिहास में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं जिन्होंने पीठ पर गोली खाई हो, सभी ने सीने पर गोली खाई है और देश की रक्षा और सम्मान की ख़ातिर किसी ने कभी सर नहीं झुकाया। प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जनजाति विभाग के पूर्व अध्यक्ष अजय शाह ने शंकर शाह और रघुनाथ शाह की शहादत पर कहा कि उन्होंने आदिवासी वर्ग के लिए जो चेतना और अलख 1857 की क्रांति में शामिल होकर देश की रक्षा हेतु लोगों में जागृत की थी, उसका आज इतिहास गवाह है।

बता दें, इस श्रद्धांजलि सभा में अभा कांग्रेस के सचिव मप्र सह प्रभारी सुधांशु त्रिपाठी, सीपी मित्तल, कुलदीप इंदौरा, प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारी चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, राजीव सिंह, के के मिश्रा, नरेन्द्र सलूजा, भूपेन्द्र गुप्ता, जे पी धनोपिया, विभा पटेल ,महेन्द्र जोशी, आभा सिंह, संजय मसानी, महेन्द्र सिंह चौहान, चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी, कैलाश मिश्रा, अरूण श्रीवास्तव, दीपचंद यादव सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसजन उपस्थित रहे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co