Seoni : नहर फूट जाने के कारण 200 एकड़ की फसल हुई बर्बाद, अधिकारी मौन
नहर फूट जाने के कारण 200 एकड़ की फसल हुई बर्बादRaj Express

Seoni : नहर फूट जाने के कारण 200 एकड़ की फसल हुई बर्बाद, अधिकारी मौन

सिवनी, मध्यप्रदेश : मुख्य नहर का पानी पटरी से छलकते हुए खेतों में घुस गया है जिसके कारण खेतों में लगी गेहूं की फसल में पानी भर जाने से फसल बर्बाद हो जाएगी एवं कृषकों को आर्थिक नुकसान होगा।
Summary

बैनगंगा नदी पर संजय सरोवर के नाम से पहचाने जाने वाले भीमगढ़ बांध की नहर लापरवाही के चलते फूट जाने के कारण किसानों को भारी क्षति हुई है, इस घटना में 200 एकड़ भूमि पर कृषि का कार्य करने वाले किसान प्रभावित हुए हैं। साथ ही आवश्यक से अधिक पानी खेतों में भर गया है जिसके कारण इन किसानों के माथे पर चिंता की लकीर खिंच गई है और इन कृषकों ने शासन के सामने गुहार लगाई है।

सिवनी, मध्यप्रदेश। भीमगढ़ दायी तट नहर सिंचाई परियोजना अनुविभागीय कार्यालय कान्हीवाड़ा संभाग क्रं 3 चेन क्र. 252-253 मुख्य नहर से अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने के कारण नहर की पटरी से छलकते हुए पानी मोहगाव के कृषकों के खेतों में जा पहुंचा जिससे कृषकों की गेहूं की फसल बर्बादी की कगार पर पहुंच गई है, तथा कृषकों को आर्थिक नुकसानी एवं क्षति हुई है।

उल्लेखनीय है कि यह नहर ग्राम छुई, मोहगांव के कृषकों के खेतो से होकर गुजरती है साथ ही मुख्य नहर का पानी पटरी से छलकते हुए खेतों में घुस गया है जिसके कारण खेतों में लगी गेहूं की फसल में पानी भर जाने से फसल बर्बाद हो जाएगी एवं कृषकों को आर्थिक नुकसान होगा।

क्षेत्र के किसानों में इन कृषकों में हनुमान सिंह राजपूत, संतोष राजपूत, दिनेश राजपूत, मनोज राजपूत, मुकेश राजपूत, काशी सिंह राजपूत नारायण सिहं दामोदर सतेन्द्र रमेश किरार एवं अन्य कृषकों में बताया कि 30 दिसंबर सें मुख्य नहर में पानी की मात्रा बढ़ने लगी थी, अब उन्होंने दूसरे दिन 31 दिसंबर को सुबह खेत जाकर देखा तो मुख्य नहर से पानी पुरी नहर भरकर पटरी से उपर पानी बहकर किसानो के खेत में पहुंच गया करीब आसपास के कृषकों के 150 एकड़ में खेतों में गेहूं लगी फसल में पानी चले जाने की कारण फसल बर्बाद हो चुकी है।

गौरतलब है कि कृषकों द्वारा सिंचाई विभाग के अधिकारी को नहर के पानी खेतो में भर जाने की जानकारी दी गयी पंरतु कोई अधिकारी मौका में निरीक्षण करने के लिए नहीं पहुंचा। आनन- फानन में कृषकों द्वारा ग्राम के मजदूरों को बुलाकर नहर की पटरी से बह रहा पानी को बंद करवाने का प्रयास किया गया परंतु पानी को खेतों में जाने से नहीं रोक पायें। इस दशा में नहर फूट जाने की संभावना बनी हुई है, कृषक खेतों में पानी भर जाने के कारण फसल बर्वाद होता देख मायूस हो गये है कृषकों द्वारा कान्हीवाडा थाना पहुचकर शिकायत दर्ज करायी गयी हे तथा कलेक्टर को भी इस सबध में आवेदन दिया गया है।

कृषकों का कहना है कि एसडीओ एवं कलेक्टर नहर का निरीक्षण करने नहीं पहुंचते हैं कृषकों द्वारा शीघ्र नहर का पानी कम कराने जाने तथा फसल की नुकसानी का निरीक्षण कर मुआवजा दिलायें जाने की मांग की गयी है। एवं नहर विभाग के लापरवाह अधिकारीयों के खिलाफ कार्यवाही की जाने की मॉग की गयी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.