शहडोल : तहसील की साख पर बट्टा लगा रहे दैवेभो कर्मचारी
तहसील की साख पर बट्टा लगा रहे दैवेभो कर्मचारीRaj Express

शहडोल : तहसील की साख पर बट्टा लगा रहे दैवेभो कर्मचारी

शहडोल, मध्य प्रदेश : स्वान इंजीनियर व दैवेभो बाबू बन वसूल रहे नगदी। तहसीलदार और अन्य अधिकारियों के नाम पर वसूली।

शहडोल, मध्य प्रदेश। कर्मचारियों के अभाव तथा तहसीलदार व अन्य जिम्मेदारों की व्यस्तता का फायदा दैवेभो व उपयंत्री उठा रहे हैं, आलम यह है कि नपा धनपुरी के दैवेभो कर्मचारी तथा इंटरनेट कम्पनी के अभियंता बाबू बन पेशियां लगाने के साथ तहसील में फाइले निपटा रहे हैं, आये दिन वसूली की शिकायतों ने तहसीलदार सहित जिला प्रशासन की साख को कटघरे में खड़ा कर दिया है।

विकासखण्ड मुख्यालयों में स्थित तहसील कार्यालयों व इनके मुखिया के पास राजस्व के अलावा शासन द्वारा दर्जनों अन्य जिम्मेदारियों ने इन्हें मूल कार्यों से भटका दिया है, हालात यह हैं कि तहसील कार्यालयों को अब बाबू चला रहे हैं, मजे की बात तो यह है कि बाबुओं की बात तो अलग, बुढ़ार स्थित तहसील कार्यालय में स्थायी कर्मचारियों की कमी और तहसीलदार की व्यस्तता का फायदा जुगाड़ से यहां संलग्न और अन्य कार्यों में नियुक्त कर्मचारी बाबू बनकर उठा रहे हैं। अतिक्रमण विरोधी मुहिम तथा इससे पूर्व राजस्व के मामलों में पेशियां लगाना और तहसीलदार न्यायालय के आदेशों को पूर्व से पढ़कर अधिवक्ताओं के माध्यम से वसूली करने का खेल दैवेभो कर्मचारी व अन्य उठा रहे हैं, जिससे तहसीलदार सहित जिला प्रशासन की छवि भी धूमिल हो रही है।

दैवेभो कर्मचारी बना सूत्रधार :

बुढ़ार तहसील कार्यालय में तहसीलदार के कक्ष की जिम्मेदारी आफ रिकार्ड सौरभ जैन नामक कर्मचारी के हाथों में हैं, इनके पिता यही अधिवक्ता का कार्य करते हैं, मजे की बात तो यह है कि सौरभ जैन की नियुक्ति तहसील कार्यालय में की ही नहीं गई है, बीते लम्बे अर्से से वर्तमान तक इन्हें धनपुरी नगर पालिका से वेतन मिलता है और वे वहां पर दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी के रूप में पदस्थ हैं। आरोप है कि उक्त कर्मचारी तहसीलदार की आंखों में धूल झोंककर, उनकी व्यस्तता का फायदा उठाते हुए तमाम पेशियां, निर्णय और राजस्व के अन्य मामलों में खुलकर दलाली कर रहे हैं, यही नहीं उनके पिता संभवत: यही पर अधिवक्ता का कार्य करते हैं, कार्यालय के अंदर पुत्र और बाहर पिता की जोड़ी प्रशासन की साफ और स्व'छ छवि को अपने कारनामों से दागदार कर रही है।

पूर्व में हुई थी कार्यवाही :

आफ रिकार्ड तहसील कार्यालय के लगभग कार्यों का जिम्मा उठाये उक्त दैनिक कर्मचारी पर पूर्व में भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे, पूर्व के वर्षों में तत्कालीन कलेक्टर नरेश पाल ने प्रमाणित शिकायत पर इन्हें पद से हटाया भी था, लेकिन बाद में जब श्री जैन ने यहां तहसीलदार का पद सम्हाला तो सौरभ जैन धनपुरी नपा के दैवेभो कर्मचारी बन खुद को निर्वाचन शाखा में संलग्न करवा लिया और तहसील कार्यालय के खेल एक बार फिर शुरू हो गये।

अपात्रों की है लम्बी कतार :

कर्मचारियों के अभाव बताकर तहसील कार्यालय में आधा दर्जन अन्य लोगों को जमावड़ा किसी न किसी जुगाड़ या पद का बहाना बताकर यहां लगा रहता है, इनका दखल रिकार्ड रूम से लेकर तहसीलदार, नायब तहसीलदार व अन्य शासकीय दस्तावेजों और विभाग से जुड़ी फाइलों तक रहता है, सौरभ जैन के अलावा विकास गुप्ता नामक कर्मचारी जिन्हें नेटलिंग साफ्टवेयर प्राइवेंट लिमिटेड कम्पनी के द्वारा यहां पर नेटवर्क इंजीनियर के रूप में पदस्थ किया गया है, लेकिन तहसील कार्यालय के कक्ष क्रमांक-1 में राजस्व की फाइलें व अन्य आवेदनों की सुनवाई विकास गुप्ता बीते कई माहों से कर रहे हैं, हालांकि उनका काम कम्प्यूटरों व उससे जुड़े नेट की समस्याओं का समाधान करना है, न कि शासकीय फाइलों व आवेदनों में दखल देने का, इसी क्रम में चित्रा नामदेव और अनीश नामक कर्मचारी भी शामिल हैं, जिनकी यहां स्थायी नियुक्ति न होने के बावजूद तहसील के दस्तावेजों में उनका पूरा दखल रहता है।

इनका कहना है :

मुझे वेतन धनपुरी नपा से ही मिलता है, डेढ़-दो साल से तहसील में हूँ, निर्वाचन शाखा में नपा से अटैच किया गया था, पूर्व में कलेक्टर ने हटाया था, लेकिन उसके कारण व्यक्तिगत थे।

सौरभ जैन, दैवेभो कर्मचारी, नपा धनपुरी

सौरभ दैवेभो कर्मचारी है, यदि इसके द्वारा रुपये लेने की शिकायत आती है तो कार्यवाही अवश्य की जायेगी।

रतन सोनी, तहसीलदार, बुढ़ार

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co