Shahdol : गांधी चौक हुआ जलमग्न, नगर पालिका व्यवस्था की खुली पोल

शहडोल, मध्यप्रदेश : रविवार की शाम गरज के साथ शहर में हुई वर्षा ने नगर की साफ सफाई और वर्षा पूर्व तैयारियों के चलाए गए अभियानों की पोल खोलकर रख दी है।
गांधी चौक हुआ जलमग्न
गांधी चौक हुआ जलमग्नRaj Express

शहडोल, मध्यप्रदेश। रविवार की शाम गरज के साथ शहर में हुई वर्षा ने नगर की साफ-सफाई और वर्षा पूर्व तैयारियों के चलाए गए अभियानों की पोल खोलकर रख दी है। जनता के सामने एक बार फिर यह सच उजागर हो गया कि जनमानस के लिए कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। शासन और विभागों का कार्य सिर्फ एक कागजी प्रपोगण्डा ही है। जनसुविधाओं का खोखलापन बस्तियों और वार्डों में तो दिखा ही नगर के मुख्य बाजार क्षेत्र स्थित गांधी चौक में भी दिखा जहां तालाबनुमा नजारा घण्टो तक मौजूूद रहा। आने जाने वाले राहगीर जान हथेली पर लेकर आते जाते रहे। जबकि कुछ वर्षों पूर्व ही यहां की स्थिति में सुधार लाने नगरपालिका ने लाखों रुपए खर्च कर काम कराया था।

चौराहे की दुर्दशा :

न्यू गांधी चौक में दुर्दशा की शुरुआत पहली वर्षा से ही हो चुकी है। पूर्व की भांति रविवार को भी गांधी चौराहा से रेलवे स्टेशन जाने वाला मार्ग जलमग्न हो गया, चूंकि यह बाजार क्षेत्र में है इसलिए यहां दिनभर लोगों की आवाजाही बनी रहती है। वाहनों के छींटे से सायकिल सवार और पैदल चलने वाले नहाते रहे। यहां हालात यह है कि नगरपालिका ने यहां जो नालियां कुछ वर्षों पूर्व बनवाई वे गलत नियोजन का शिकार हुईं। उन नालियों की उंचाई सड़क के लेबल से कुछ ऊपर है। सड़क का पानी उधर जाने की बजाय नालियों का पानी सड़क पर आता है।

व्यापारी भी कम नहीं :

एक तो नगरपालिका ने नालियां गलत बनाईं हैं और फिर ऊपर से इन्ही नालियों को जब कवर्ड कर दिया गया तो लोगों ने इन पर कब्जा कर लिया। किसी व्यापारी ने अपना बोर्ड रख दिया तो किसी अपना ठेला लगा लिया तो कहीं पर दुकान बढ़ा ली गई और सामान रख दिया गया। पानी निकलने की याद किसी को भी नहीं आती। वर्षा का पानी आखिर बहे किस रास्ते से उसे ढलाव सड़क की ओर मिलता है इसलिए वह सड़क की ओर बहता है।

बस्तियों का हाल बेहाल :

नगर की बस्तियों का तो जैसे हाल ही बेहाल हो गया। जरा देर की वर्षा ने न केवल सड़कों को कीचड़ से सान दिया, बल्कि नालियों में पानी का रेला बहने लगा जो कि घरों की ओर आने लगा था। मलबे से पटी नालियों में और क्या होगा। नगरपालिका का वर्षा पूर्व चलाया जाने वाला अभियान इस वर्ष दिखाई नहीं पड़ा है। शहर के नाले और नालियों की जब समुचित रूप से सफाई नहीं कराई जाएगी तो क्या होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co