Shahdol : कुछ तो शर्म करो, वर्गफुट में बिक रहा प्रशासन!
कुछ तो शर्म करो, वर्गफुट में बिक रहा प्रशासन!Raj Express

Shahdol : कुछ तो शर्म करो, वर्गफुट में बिक रहा प्रशासन!

शहडोल, मध्यप्रदेश : संभाग सहित जिले के मुखिया को नहीं है खबर। चांपा, कुदरी सहित आस-पास के क्षेत्र में दलाल काट रहे चांदी।

शहडोल, मध्यप्रदेश। संभागीय मुख्यालय सहित सटे गांवों से लगी कृषि भूमि पर इन दिनों दलालों की नजर गड़ी हुई है। दलाल इन जमीनों को एग्रीमेंट या फिर कृषि भूमि के नाम से रजिस्ट्री कराकर बिना डायवर्सन अवैध प्लाटिंग कर बेच रहे हैं। ऐसा करके यह लोग उन लोगों को गलत तरीके से फंसाकर प्लाट बेचते हैं, जो कि अपना आशियाना बनाने के लिए पाई-पाई जोड़ते हैं। इस अवैध कारोबार में प्रशासन की भी पूरी मदद मिल रही है। प्रशासनिक अधिकारी सब कुछ जानते हुए भी इस ओर कोई कार्यवाही नहीं करते हैं। अवैध प्लाटिंग का यह कारोबार सबसे अधिक मेडिकल कॉलेज के आस-पास चल रहा है।

कटघरे में ही बनेगा गुनहगार :

संभागीय मुख्यालय से लगे चापा, कुदरी ग्राम पंचायत में पिछले कुछ वर्षों से कृषि भूमि को टुकड़ों में काटकर बेचने का अवैध कारोबार चल रहा है। चर्चा है कि अंकुर और शिव कुमार नामक दलाल किसानों को अधिक पैसे देकर उनकी खेतिहर भूमि को खरीद कर हाइवे से सटे भू-खण्ड पर प्लाटिंग कर रहे हैं, मजे की बात तो यह है कि पूरे मुख्यालय के आस-पास अवैध कालोनियों का निर्माण धड़ल्ले से हो रहा है, लेकिन जिम्मेदारों से अगर कोई बात करे तो, यह जरूर कहेंगे हम दिखवाते हैं, शासन से मोटा वेतन लेकर उच्च पदों पर बैठे जिम्मेदार अवैध कार्याे को अपने सामने होने देते हैं, जब किसी प्रकार की विवादित स्थित निर्मित होती है तो, जमीन क्रेताओं को ही कटघरे में खड़ा कर देते हैं।

वर्गफुट में बिक रही प्रशासन :

चर्चा है कि टिकुरी टोला में अवैध प्लाटिंग का काम जिस व्यक्ति द्वारा किया जा रहा है, उसका रेरा में पंजीयन तक नहीं हैं, चर्चा है कि खेती वाली जमीन का सौदा कर उन्हें प्लाट के रुप में टुकड़े कर रहे हैं,और खुद का प्रोजेक्ट बताकर बेच रहे हैं। इसके लिए कथित दलाल ने खुद ही मिट्टी की सड़क बनवाई है, लोगो को मेडिकल कॉलेज के पास प्लाट का झांसा दिया जा रहा है । प्लाट में 25 से 30 फीट सड़क और आकर्षक उपहार बताकर प्लाटिंग के अवैध कार्य को बेखौफ अंजाम दिया जा रहा। वहीं निर्माण करा रहे एक व्यक्ति ने बताया 700-800 रूपये वर्गफुट में प्लाट काट कर कथित दलाल द्वारा बेचा जा रहा है।

खुलेआम हो रही धोखाधड़ी :

भू-खण्ड का दलाल असली भू-स्वामियों से एकड़ के भाव में जमीन का एग्रीमेंट कर उसे वर्गफीट के हिसाब से बेचते हुए करोड़ो रुपये का चूना सरकार को लगा रहे हैं। दो हजार वर्गफीट से लेकर 2400 वर्गफीट तक के प्लाट लोगों को धोखे में रखकर अवैध तरीके से बेचे जा रहे है। जमीन की कीमत दलाल द्वारा 700 से लेकर 800 रुपए वर्गफीट तक तय की गई है। प्लाट खरीदने वालों के साथ धोखाधड़ी हो ही रही है, मेडिकल कॉलेज के आस-पास ग्राम पंचायतों में की गई प्लाटिंग और बिक्री की जांच हुई तो, यहां जमीन मालिक सहित कथित दलाल फंसते नजर आयेंगें, वहीं क्रेताओं के लिए भी समस्या खड़ी हो सकती है। जागरूक लोगों ने मांग की है कि अगर संभाग के मुखिया सहित जिले के मुखिया के पास समय हो तो, मेडिकल कॉलेज के आस-पास पहुंचे और यहां पदस्थ पटवारी सहित जमीन दलालों पर दिखावे की ही कार्यवाही कर लें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.