Raj Express
www.rajexpress.co
रेत माफिया
रेत माफिया|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

शहडोल: रेत माफिया का बनास में ताण्डव

शहडोल, मध्यप्रदेश : मध्यप्रदेश रेत माफिया का बनास में ताण्डव-जिम्मेदारों ने कार्यवाही की बजाय मूंद ली आंखे, पुलिस, राजस्व, ग्रामीण विकास, वन, खनिज, विभागों को मिल रही है पीसीबी की खुली छूट।

Afsar Khan

राज एक्सप्रेस। अवैध उत्खनन रोकने और नदियों के संरक्षण के लिए कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले बनाये अपने वचन पत्र में प्रभावी नियम बनाने का जो वादा किया था, उसे निभाते हुए 30 अगस्त को नवीन रेत नियम 2019 लागू किया गया, लेकिन प्रदेश में रेत की किल्लत न हो, इसके लिए निविदा प्रक्रिया पूर्ण न हो जाने तक पुरानी खदानों के संचालन की अनुमति जारी करने का आदेश दिया गया।

जिले के ब्यौहारी तहसील के बोर्डिंग में पंचायत की रेत खदान स्वीकृत कर दी गई, जबकि उक्त खदान के शुरू होने से जिले में रेत की किल्लत की पूर्ति नहीं की जा सकती, केवल माफियाओं और रेत तस्करों के लिए ही उक्त खदान को शुरू कराया गया, जबकि जिले की अन्य खदाने भी शुरू हो सकती थी, जिससे शहडोल, बुढ़ार, धनपुरी आदि स्थानों के साथ ही दूसरे जिलों को भी फायदा मिल सकता था, यह बात जगजाहिर है कि ब्यौहारी अंचल में रेत का अवैध कारोबार स्थानीय मैनेजमेंट से फल-फूल रहा है। गुरूवार को जो वीडियो और फोटो सामने आये, उसमें वाहनों की संख्या में इजाफा होने के साथ पोकलेन के साथ जेसीबी मशीन लगा दी गई है।