शहडोल : घर-दुकान और पैथोलॉजी पर एक ही डॉक्टर की डिग्री
घर-दुकान और पैथोलॉजी पर एक ही डॉक्टर की डिग्रीRaj Express

शहडोल : घर-दुकान और पैथोलॉजी पर एक ही डॉक्टर की डिग्री

शहडोल, मध्य प्रदेश : अनूपपुर से शहडोल तक फैला सोनोग्राफी का जाल। एक साथ, एक डिग्री पर तीन संस्थान हो रहे संचालित।

शहडोल, मध्य प्रदेश। संभागायुक्त और कलेक्टर शहडोल के द्वारा जिले में संचालित अवैध पैथोलॉजी और एक्स-रे सेंटरों पर बीते सप्ताह दर्जनों कार्यवाहियां करवाई गईं। जिसमें दर्जनों की अवैध दुकानें बंद हो गई, लेकिन इसके बाद भी शहडोल व अनूपपुर में आज भी प्रशासन से नजरें बचाकर एक डिग्री पर पैथोलॉजी और सोनोग्राफी सहित अलग-अलग क्लीनिक चलाये जा रहे हैं।

बीते पखवाड़े के दौरान कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र सिंह व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मेघ सिंह सागर के निर्देशन में अवैध पैथोलॉजी, एक्स-रे व सोनोग्राफी सेंटरों की जांच की गई। कई को नोटिस और कुछ को सील भी किया गया, प्रशासन की तबाड़तोड़ कार्यवाहियों और मेहनत के बाद भी कुछ ऐसे सेंटर कार्यवाही से बच गये, जिन्होंने अपने पद का लाभ लेते हुए जुगाड़ के रास्तों को अपनाया, आरोप है कि अनूपपुर निवासी डॉ. प्रदीप तिवारी तीन से चार संस्थानों में अपनी डिग्री व नाम भाड़े पर देकर उनका संचालन करा रहे हैं, जबकि वे अकेले होने के कारण एक ही स्थान पर एक समय अपनी सेवा दे सकते हैं। बाकी समय नौसिखियों के हाथों मरीजों को छोड़ दिया जाता है, जो मानवता के साथ ही मेडिकल के नियमों के भी खिलाफ है।

यहां-यहां संचालित हैं दुकान :

डॉ. प्रदीप तिवारी पर आरोप है कि अनूपपुर स्थित निजी आवास पर सोनोग्राफी मशीन लगाकर रखी है, जहां वे खुद सोनोग्राफी करते हैं या फिर करने का दावा करते हैं। अनूपपुर से लगभग 50 से अधिक किलोमीटर दूर शहडोल में गायत्री मंदिर के बगल से ओम पैथोलॉजी संचालित है, जिसे संभवत: डॉ. प्रदीप तिवारी ने अपनी डिग्री भाड़े पर दी हुई है। इसके अलावा शहडोल में ही जेल बिल्डिंग, मेन रोड में चरक सिटी सेंटर में भी माननीय ऑन रिकार्ड अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

डॉ. प्रदीप तिवारी का निजी आवास
डॉ. प्रदीप तिवारी का निजी आवासRaj Express

यह कहते हैं कायदे :

स्वास्थ्य विभाग के कायदों पर नजर डाले तो, यह स्पष्ट है कि एक चिकित्सक एक ही स्थान पर अपनी सेवाएं दे सकता है, हालांकि चिकित्सा से जुड़े सूत्रों का मत है कि एमडी पैथोलॉजिस्ट दो स्थानों पर भी अपनी सेवाएं दे सकता है, लेकिन उन दोनों संस्थानों की दूरी 40 किलोमीटर से अधिक होना चाहिए, यहां यह भी बताना आवश्यक है कि किसी भी स्थिति में खुद के नाम के डिजिटल हस्ताक्षर वाले जांच पत्र किसी और को न तो भाड़े पर दिये जा सकते हैं और न ही कोई भी नौसिखिया भाड़े पर डिग्री लेकर डॉक्टर ऐसे ब्लैंक पत्रों का उपयोग रिपोर्ट देने के लिए कर सकता है, यह अपराध की श्रेणी में आ सकता है।

दोनों जिले अंधेरे में :

डॉ. प्रदीप तिवारी के द्वारा अनूपपुर में जिला चिकित्सालय के ठीक पीछे निजी आवास पर संचालित सोनोग्राफी सेंटर का रजिस्ट्रेशन अवश्य ही कराया गया होगा, जाहिर है कि उसका रजिस्ट्रेशन उनके खुद के नाम पर होगा और उन्होंने प्रपत्र भरते समय शहडोल में उनके नाम पर संचालित चरक सिटी सेंटर और ओम पैथोलॉजी को दिये गये सहमति पत्र या डिग्री की जानकारी अनूपपुर के प्रपत्र में नहीं दी होगी, यही स्थिति शहडोल में संचालित दोनों प्रतिष्ठानों के प्रपत्र भरते समय संभवत: छुपाई गई होगी, अन्यथा 50 किलोमीटर दूर रजिस्टर्ड फर्म की जानकारी देने के बाद विभाग उन्हें ऑन रिकार्ड यह अनुमति शायद ही देता। बहरहाल यह जांच का विषय है, स्थानीय प्रबुद्धजनों ने शहडोल व अनूपपुर कलेक्टर सहित स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों से इस संदर्भ में जांच व कार्यवाही की अपेक्षा की है।

जांच के दौरान नहीं मिले थे डॉ. प्रदीप :

बीते सप्ताह जब शहडोल के गायत्री मंदिर समीप स्थित ओम पैथोलॉजी पर स्वास्थ्य विभाग की दबिश दी गई थी, उस दौरान भी डॉ. प्रदीप तिवारी मौके पर नहीं मिले थे, जबकि वहां रक्त के नमूने लेने व परीक्षण का कार्य जारी था। विभाग की ओर से पैथोलॉजी के संचालक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, यह अलग बात है कि इस दौरान उन्होंने चरक सिटी सेंटर में दबिश नहीं दी थी।

इनका कहना है :

एक व्यक्ति कई स्थानों पर कैसे सेवा दे सकता है, यदि ऐसा है तो, गलत है, कल कार्यालयीन समय में इस संदर्भ में दस्तावेजों की जांच की जायेगी।

डॉ. व्ही.डी. सोनवानी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अनूपपुर

नियमों के विपरीत जो कुछ भी संचालित है, उस पर कार्यवाही अवश्य होगी।

डॉ. मेघ सिंह सागर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, शहडोल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co