Raj Express
www.rajexpress.co
अपराधों की रोकथाम के लिए पुलिस अधीक्षक ने ली क्राइम मीटिंग
अपराधों की रोकथाम के लिए पुलिस अधीक्षक ने ली क्राइम मीटिंग|Shubham Tiwari
मध्य प्रदेश

अपराधों की रोकथाम के लिए पुलिस अधीक्षक ने ली क्राइम मीटिंग

शहडोल, मध्यप्रदेश : अपराधों के ग्राफ को कम करने के लिए पुलिस अधीक्षक ने सभी थाना प्रभारियों को सशक्त और कार्यवाही करने के निर्देश जारी किए।

Shubham Tiwari

हाइलाइट्स :

  • हत्या, लूट, अपहरण की वारदातों में इजाफा

  • अंकुश लगाने कप्तान ने प्रभारियों को दिये टिप्स

  • विलेज क्राइम नोटबुक में कर्मचारी अंकित करेंगे टीप

  • शिक्षण संस्थानों में रखी जायेगी बेटी की पेटी

राज एक्सप्रेस। बीते 2018 की तुलना में वर्ष 2019 में गंभीर अपराधों में वृद्धि हुई है, प्रदेश के शहडोल जिले में शनिवार को पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह ने क्राइम मीटिंग के दौरान आंकड़े सार्वजनिक किये, हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, महिला संबंधी अपराध, अपहरण में जहां बढ़ोत्तरी हुई है, वहीं कई अपराधों में गिरावट भी जिले भर में देखने को मिली है, बलात्कार सहित अन्य अपराधों की घटनाएं कम सामने आई हैं, अपराधों के ग्राफ को कम करने के लिए पुलिस अधीक्षक ने सभी थाना प्रभारियों को सशक्त कार्यवाही करने के निर्देश जारी किये हैं, ताकि अपराधियों के मन में पुलिस का भय रहे और अपराधों पर नियंत्रण रखा जा सके, नशे के खिलाफ लगातार मुहिम चलाकर कार्यवाही करने के भी निर्देश जारी किये गये हैं।

विलेज क्राइम में नोट होगी टीप

पुलिस कप्तान अनिल सिंह कुशवाह द्वारा पुलिस कण्ट्रोल रूम में क्राईम मीटिंग के दौरान निर्देश दिए कि, थाने के सभी कर्मचारी विलेज क्राईम नोट बुक में अपनी टीप दर्ज करेंगें, मोटर व्हीकल एक्ट और पुलिस एक्ट के तहत प्रभावी कार्यवाही करें, सीएम हेल्प लाईन की शिकायतों का संतुष्टिपूर्ण निराकरण किया जाये, गम्भीर अपराधों में फरार आरोपियों की गिरफ्तारी की कार्यवाही ज्यादा से ज्यादा करें। सभी थाने लंबित अपराध/ मर्ग/चालान की संख्या अधिक है, इनका अधिक से अधिक निराकरण करें। स्थाई वारण्टियों की गिरफ्तारी की कार्यवाही एवं धारा 82, 83 की कार्यवाही ज्यादा से ज्यादा की जाये तथा ईनामों की उद्घोषण हेतु वरिष्ठ कार्यालयों को अनुमोदन भेंजें।

अवैध उत्खनन पर लगाये अंकुश :

क्राइम मीटिंग में एसपी ने कहा कि जुआ/सट्टा एवं एनडीपीएस एक्ट की कार्यवाही में प्रभावी कार्यवाही की जाये, एनडीपीएस एक्ट महिला अपराध, एमपी ई.कोप आदि अवेयरनेस प्रोग्रामों के तहत जनसंवाद कार्यक्रम कर जागरूकता फैलायें। किसी भी थाना क्षेत्र में अवैध उत्खनन किसी भी सूरत मे बरदाश्त नहीं होगा, संपत्ति संबंधी अपराध, मर्ग, हत्या आदि गंभीर अपराधों में थाना प्रभारी स्वयं घटना स्थल जाकर घटनास्थल का मुआयना करेंगे। महिला संबंधी अपराधों मे कमी लाने के लिये कोचिंग सेन्ट्रों पर जाकर पास्को एक्ट/ एमपी ई.कोप एप एवं महिला जागरुकता के बारे मे जानकारी दें।

संस्थानों में बेटी की पेटी :

थानों पर प्राप्त शिकायतों का निराकरण समय सीमा में करना सुनिश्चित करें। थाना प्रभारी अपने क्षेत्र के कस्बों में भी ट्रॉफिक कंट्रोल व्यवस्था लायें ताकि आम जन को ट्रॉफिक संबंधी समस्या न हो। सभी थाना प्रभारी अपने थाना क्षेत्रों में बैरक व्यवस्था, मेस व्यवस्था, वाउण्ड्री वाल इत्यादि बनवाने हेतु अनुमोदन के लिए प्रतिवेदन वरिष्ठ कार्यालय को भेंजें। सभी थाना प्रभारी स्कूल, कॉलेजों, कोचिंग संस्थानों में बेटी की पेटी लगाएंगे। थानों पर आगंतुक रजिस्टरों में एंट्रीयन करवाने तथा उनको अद्यतन रखने के निर्देश दिए। मार्केट और भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर पुलिस की उपस्थिति बढ़ाने के लिए निर्देशित किया गया।

72 लाख का मिला राजस्व :

सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के उद्देश्य से की गयी कार्यवाहियों में हेलमेट धारण न करने वाले, तेज गति से वाहन चलाने वाले, दोपहिया वाहनों में दो से अधिक सवारी बैठाने वाले, वाहन चलाते समय मोबाईल का प्रयोग करने वाले, प्रतिबंधित क्षेत्र में वाहन चलाने, रेड लाईट जम्प करने वाले, यातायात संकेतों का उल्लंघन करने वाले, शराब पीकर वाहन चलाने वालों के विरूद्ध वर्ष 2018 की तुलना में वर्ष 2019 में अधिक कार्यवाही की गयी हैं। वर्ष 2018 में स्कूल वाहनों पर कार्यवाही निरंक थी जो वर्ष 2019 में 126 वाहनों पर कार्यवाही की गयी। इसके अतिरिक्त अपारदर्शी फिल्म, गलत नम्बर प्लेट लगाने, प्रदूषण फैलाने वाले वाहन, नो पार्किंग करने वाले वाहनों के विरूद्ध तुलनात्मक रूप से वर्ष 2019 में अधिक कार्यवाही की गयी है। इसी प्रकार सड़क पर व्यापार कर यातायात बाधित करने वालों के विरूद्ध वर्ष 2018 में 18 की तुलना में वर्ष 2019 में 60 लोगों के विरूद्ध कार्यवाही की गयी है। सारांशत: मोटर व्हीकल एक्ट के अन्तर्गत वर्ष 2018 के 12790 की तुलना में वर्ष 2019 में 13403 चालान किये गये और 7218800 रूपये का सम्मन शुल्क प्राप्त कर शासकीय खजाने में जमा किया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।