Raj Express
www.rajexpress.co
अतिक्रमण हटाओ अभियान
अतिक्रमण हटाओ अभियान|Mukesh Choudhary
मध्य प्रदेश

शिवपुरी: अतिक्रमण हटाओ अभियान से एक झटके में उजड़ गए गरीबों के आशियाने

शिवपुरी, मध्यप्रदेश : अतिक्रमण हटाओ अभियान जगह जगह चलाये जा रहे हैं, वहीं अतिक्रमण की चपेट में आने वाले गरीब व निम्न वर्ग की व्यवस्था के अनुरूप व्यवस्थित करने का भी जिम्मा लिया जा रहा है

Mukesh Choudhary

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश सरकार की नीति और रीति के चलते जहां नगरों व शहरों को सुंदर बनाने का सपना संजोये 'अतिक्रमण हटाओ अभियान' जगह-जगह चलाये जा रहे हैं। वहीं अतिक्रमण की चपेट में आने वाले गरीब व निम्न वर्ग के तबके को शासन की व्यवस्था के अनुरूप व्यवस्थित करने का भी जिम्मा लिया जा रहा है। लेकिन शिवपुरी शहर में इस अतिक्रमण हटाओ अभियान में इस जिम्मेदारी को दरकिनार कर व्यवस्था के नाम पर शासकीय अधिकारी कर्मचारी बचते नजर आ रहे हैं। शिवपुरी नगर के माधव चौक कोर्ट रोड पर एक तिराहे के चारों ओर फुटपाथ पर अपनी दुकानें लगाकर रोजी-रोटी कमाने वाले अतिक्रमणधारी छोटे फुटपाती दुकानदार पटवाओं को प्रशासन ने अतिक्रमण हटाओ मुहिम के तहत हटा तो दिया परन्तु अतिक्रमण हटाते वक्त प्रशासन द्वारा इन पटवाओं को पुराने बस स्टैण्ड के अंदर व्यवस्थित करने के आश्वासन पर अमल आज तक नहीं किया।

वर्तमान हालातोंं में ये छोटे दुकानदार पटवा जो अपनी पीड़ा रोते हुये बयान कर रहे हैं कि गणेश चतुर्थी एवं नवदुर्गा महोत्सव के साथ दीपावली तक ही उनकी दुकानदारी का मुख्य सीजन होता है। सालभर की कमाई इसी सीजन में की जाती है। ऐसे भरे सीजन में हमारी सालों से चली आ रही रोजी-रोटी को प्रशासन द्वारा हमसे छीन लिया गया। हमारी दुकानों को हटाते वक्त प्रशासन द्वारा हमें आश्वासन दिया गया था कि, तुम्हें पुराने बस स्टैण्ड के अंदर फुटपाथ पर दुकान लगाने की जगह दी जायेगी। लेकिन लगभग एक माह से अधिक बीत जाने के बावजूद भी अभी हालात जस के तस हैं। प्रशासन अपने दिये गये आश्वासन को भुला चुका है।

  • हम व हमारे बच्चे दुकानदारी ना चलने व हमारा रोजगार हमसे छिन जाने के कारण दाने-दाने को मोहताज हैं। हम गरीबों की सुनने वाला कोई नहीं है।

  • प्रशासन की अतिक्रमण हटाओ मुहिम का शिकार बने ये फुटपाती छोटे दुकानदार पटवाओं की पुकार आखिर कब प्रशासन सुनेगा?

  • पीड़ित दुकानदार यूं ही गणेश चतुर्थी महोत्सव की तरह नवदुर्गा महोत्सव व दीपावली जैसे त्योहारों के सीजनेवल समय को गंवाते नजर आते हैं।

गरीबों के आशियाने एक झटके में उजड़ गये, अमीरों के तलघर जस के तस शिवपुरी में अब से लगभग एक माह पूर्व प्रशासन द्वारा चलाई गई अतिक्रमण हटाओ अभियान मुहिम के दौरान निशाना बनाया गया माधव चौक, कोर्टरोड तिराहे पर बने पार्क के चारों ओर फुटपाथ लगाकर दुकानदारी करने वाले पटवाओं को प्रशासन द्वारा उन्हें व्यवस्थित करने की समझाईश दी और आसानी से अतिक्रमण हटा दिया गया। ये तो हुई एक गरीब का व्यवसाय उजड़ने की स्थिति, वहीं दूसरी ओर नजर डालें तो नगर में कई-कई इमारतों के नीचे बने तलघरों पर, तो मध्यप्रदेश शासन द्वारा तलघर हटाओ अभियान को भी सख्ती से लागू करने के आदेश दिये गये हैं। लेकिन इस ओर प्रशासन का रूख सख्त ना होकर नर्म दिखता प्रतीत होता है। क्योंकि इस तलघर हटाओ कार्यवाही में प्रशासन द्वारा महज खानापूर्ति के लिये छोटी-मोटी कार्यवाही कर मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया जाता है। कारण यह है कि इस मुहिम में आरोपी एक गरीब ना होकर अमीर व्यक्ति होता है। इस कारण आज भी इन तलघरों की स्थिति जस की तस बनी हुई है।

इधर उधर भटके मजबूर
इधर उधर भटके मजबूर
Mukesh Choudhary

नहीं मिली पटवाओं को आज तक सामान बेचने की जगह

शिवपुरी में प्रशासन द्वारा चलाई गई अतिक्रमण हटाओ मुहिम का शिकार बने छोटे फुटपाती दुकानदार पटवाओं को प्रशासन के दिये गये वादे के मुताबिक आज तक पेट पालन करने के लिये फुटपात दुकान लगाने की जगह नहीं मिली है। जिससे रोजमर्या का जीवन जीवन दुस्वार हो गया है। अभी हाल ही में इन्हीं दुकानदारों में से एक दुकानदार को माधवचौक चौराहे पर ठेले पर सामान बेचते देखा गया। रात के समय वह दुकानदार उसी ठेले पर सोता पाया गया। अर्थात अब इन दुकानदारों की स्थिति दयनीय हो चली है। शासन प्रशासन को चाहिये कि इन छोटे फुटपाती दुकानदारों की दयनीय स्थिति पर गौर करते हुये कार्यवाही को अंजाम देकर शीघ्र ही इन्हें किये गये, वादे के मुताबिक व्यवस्था के अनुरूप फुटपाथ लगाकर अपनी दुकानदारी करने की जगह मुहैया कराये, ताकि नवदुर्गा महोत्सव से दीपावली तक चलने वाले सीजन का लाभ लेकर ये पुन: अपनी जीवन शैली जीते हुये अपना व अपने परिवार का भरण-पोषण कर सकें।

तलघरों पर होती है दिखावटी कार्यवाही
तलघरों पर होती है दिखावटी कार्यवाही
Mukesh Choudhary

तलघरों पर होती है दिखावटी कार्यवाही, गरीब की हाय बड़ी

शिवपुरी के इस गरीब वर्ग ने अपना दु:ख जताते हुये प्रशासन के उन अधिकारियों व कर्मचारियों की ओर इशारा किया जिन्हेांने अतिक्रमण हटाते वक्त उनसे वादा किया था कि शीघ्र ही तुम्हें पुराने बस स्टैण्ड पर फुटपाथ लगाने की जगह देकर व्यवस्थित किया जायेगा। इन पटवाओं ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि प्रशासन के लोग हमसे वादा करके हमारी दुकानदारी छीन ले गये। इन ऊंचे पदों पर बैठे लोगों केा हम गरीबों का फुटपाथ तो नजर आया और हमारे आशियाने उजाड़ दिये परन्तु उन अमीरों के तलघरों पर केवल दिखावटी कार्यवाही की जाती है। लेकिन इन वादा खिलाफी करने वाले नुमाइंदों को इसका ध्यान रखना चाहिये कि हम गरीबों की हाय उन अमीरों के दिखावों से कहीं बड़ी होती है।