Raj Express
www.rajexpress.co
अतिक्रमण हटाओ अभियान
अतिक्रमण हटाओ अभियान|Mukesh Choudhary
मध्य प्रदेश

शिवपुरी: अतिक्रमण हटाओ अभियान से एक झटके में उजड़ गए गरीबों के आशियाने

शिवपुरी, मध्यप्रदेश : अतिक्रमण हटाओ अभियान जगह जगह चलाये जा रहे हैं, वहीं अतिक्रमण की चपेट में आने वाले गरीब व निम्न वर्ग की व्यवस्था के अनुरूप व्यवस्थित करने का भी जिम्मा लिया जा रहा है

Mukesh Choudhary

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश सरकार की नीति और रीति के चलते जहां नगरों व शहरों को सुंदर बनाने का सपना संजोये 'अतिक्रमण हटाओ अभियान' जगह-जगह चलाये जा रहे हैं। वहीं अतिक्रमण की चपेट में आने वाले गरीब व निम्न वर्ग के तबके को शासन की व्यवस्था के अनुरूप व्यवस्थित करने का भी जिम्मा लिया जा रहा है। लेकिन शिवपुरी शहर में इस अतिक्रमण हटाओ अभियान में इस जिम्मेदारी को दरकिनार कर व्यवस्था के नाम पर शासकीय अधिकारी कर्मचारी बचते नजर आ रहे हैं। शिवपुरी नगर के माधव चौक कोर्ट रोड पर एक तिराहे के चारों ओर फुटपाथ पर अपनी दुकानें लगाकर रोजी-रोटी कमाने वाले अतिक्रमणधारी छोटे फुटपाती दुकानदार पटवाओं को प्रशासन ने अतिक्रमण हटाओ मुहिम के तहत हटा तो दिया परन्तु अतिक्रमण हटाते वक्त प्रशासन द्वारा इन पटवाओं को पुराने बस स्टैण्ड के अंदर व्यवस्थित करने के आश्वासन पर अमल आज तक नहीं किया।

वर्तमान हालातोंं में ये छोटे दुकानदार पटवा जो अपनी पीड़ा रोते हुये बयान कर रहे हैं कि गणेश चतुर्थी एवं नवदुर्गा महोत्सव के साथ दीपावली तक ही उनकी दुकानदारी का मुख्य सीजन होता है। सालभर की कमाई इसी सीजन में की जाती है। ऐसे भरे सीजन में हमारी सालों से चली आ रही रोजी-रोटी को प्रशासन द्वारा हमसे छीन लिया गया। हमारी दुकानों को हटाते वक्त प्रशासन द्वारा हमें आश्वासन दिया गया था कि, तुम्हें पुराने बस स्टैण्ड के अंदर फुटपाथ पर दुकान लगाने की जगह दी जायेगी। लेकिन लगभग एक माह से अधिक बीत जाने के बावजूद भी अभी हालात जस के तस हैं। प्रशासन अपने दिये गये आश्वासन को भुला चुका है।

  • हम व हमारे बच्चे दुकानदारी ना चलने व हमारा रोजगार हमसे छिन जाने के कारण दाने-दाने को मोहताज हैं। हम गरीबों की सुनने वाला कोई नहीं है।

  • प्रशासन की अतिक्रमण हटाओ मुहिम का शिकार बने ये फुटपाती छोटे दुकानदार पटवाओं की पुकार आखिर कब प्रशासन सुनेगा?

  • पीड़ित दुकानदार यूं ही गणेश चतुर्थी महोत्सव की तरह नवदुर्गा महोत्सव व दीपावली जैसे त्योहारों के सीजनेवल समय को गंवाते नजर आते हैं।