Shivpuri : भ्रूण हत्या डील वायरल वीडियो मामला लेता जा रहा है नया मोड़
भ्रूण हत्या डील वायरल वीडियो मामला लेता जा रहा है नया मोड़राज एक्सप्रेस, संवाददाता

Shivpuri : भ्रूण हत्या डील वायरल वीडियो मामला लेता जा रहा है नया मोड़

शिवपुरी, मध्यप्रदेश : जांच टीम के दो मेम्बरों को किया टीम के बाहर, कारण बताने से पीछे हटे अधिकारी। दो हफ्ते पहले बना था भ्रूण हत्या की सौदेबाजी का वीडियो। ब्लैकमेलिंग असफल होने पर आया सामने।

शिवपुरी, मध्यप्रदेश। शिवपुरी जिले में कन्या भ्रूण हत्या की सौदेबाजी करते हुए के वायरल हुए वीडियो के मामले में नया खुलासा हुआ है। इंटरनेट पर उन माता-पिता की तस्वीर भी वायरल हो गई है जो बच्ची गिरवाने के लिए नर्स से सौदेबाजी कर रहे हैं। इस मामले में एक शिकायती आवेदन सामने आया है जो सिद्धि विनायक अस्पताल प्रबंधन द्वारा कोतवाली थाना को 22 अगस्त को दिया गया था। इसमें प्रबंधन ने शिकायत की थी कि कुछ लोग अस्पताल की छवि को नुकसान पहुंचाने की धमकी देकर उन्हें ब्लैकमेल करने का प्रयास कर रहे हैं। शिकायती आवेदन के साथ एक कॉल डिटेल की सूची भी पुलिस का सौंपी गई थी। हाल फिलहाल भ्रूण हत्या डील के वायरल वीडियो को लेकर नित नये ऐंगिल सामने आ रहे हैं। आज रविवार को एक महिला पुरूष का फोटो सामने आ गया। जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि यही दोनों सिद्धि विनायक अस्पताल गये थे और भ्रूण को लेकर डील की थी। इतना ही नहीं इन दोनों के कुछ लेागों से मिले होने और अस्पताल को ब्लेकमेल करने का मामला भी सामने आया है। कहा जा रहा है कि एक आवेदन सिद्धि विनायक अस्पताल की तरफ से पुलिस को इस संबंध में दिया जा चुका है। लेकिन इसे लेकर पुलिस टीआई द्वारा कोई आवेदन न आने की बात कही गई है। अस्पताल प्रबंधन ने मीडिया के समक्ष यह स्वीकार नहीं किया कि मामला उन्हीं से जुड़ा हुआ है। बल्कि इंकार किया कि इस वीडियो से उनका और अस्पताल का कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन यदि बात पूर्व में आवेदन देने की सामने आई है तो सच्चाई सामने आनी बाकी है।

आखिर क्या है मामला ?

गौरतलब है कि शुक्रवार को इंटरनेट मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें एक दंपत्ति निजी अस्पताल में नर्स के साथ कन्या भ्रूण गिराने की डील कर रहे हैं। इसमें नर्स 17 हजार रुपये में उन्हें भ्रूण गिरवाने की डील करती हुई नजर आ रही है। नर्स दो टूक अंदाज में में बता रही है कि 17 हजार में आपका काम हो जाएगा। नर्स कह रही है कि यह पूरी तरह गैर कानूनी हैं और मैं बिना किसी को कानों-कान खबर हुए बगैर गुपचुप यहीं कर दूंगी। जो भूण कोख में मार कर मेरे द्वारा बाहर निकाला जाएगा उसकी सफाई और जमीन में गडाई भी स्वीपर के माध्यम से हम करा देंगे आपको इसके अलग से पैसे देने पड़ेंगे। बताया जाता है कि इस मामले को लेकर प्रशासन द्वारा एक 9 सदस्यीय टीम गठित की गई थी। जो जांच करके तीन दिन में अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत करेगी। लेकिन मामले में नया मोड आते हुये इस टीम में से दो सदस्यों को टीम के बाहर करते हुये नया निर्णय लिया गया है। आखिर एैसा क्यों किया गया यह सवाल अब भी बना हुआ है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co