समीक्षा बैठक में बोले शिवराज "मैं स्वयं करूंगा होम आइसोलेट मरीजों से बात"
समीक्षा बैठक में बोले शिवराज "मैं स्वयं करूंगा होम आइसोलेट मरीजों से बात"Social Media

समीक्षा बैठक में बोले शिवराज "मैं स्वयं करूंगा होम आइसोलेट मरीजों से बात"

भोपाल, मध्यप्रदेश : श्री चौहान मंगलवार को सीएम हाउस से कोरोना की रोकथाम और व्यवस्थाओं के संबंध में कोर ग्रुप की बैठक को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित कर रहे थे।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीजों को मिल रहे मार्गदर्शन, इलाज, मेडिकल किट और उनके संतुष्टि के स्तर के संबंध में जानकारी लेने के लिए वे स्वयं कोरोना मरीजों से बात करेंगे। श्री चौहान मंगलवार को सीएम हाउस से कोरोना की रोकथाम और व्यवस्थाओं के संबंध में कोर ग्रुप की बैठक को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि प्रभारी मंत्रियों को भी डिस्ट्रिक्ट कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की व्यवस्थाओं पर निगरानी रखने और फोन से मरीजों के संपर्क में रहने के निर्देश दिए गए हैं। व्यवस्था के बारे में इन मरीजों का निरंतर फीडबैक लिया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए 30 अप्रैल तक हर शहर, गली-मोहल्ले, गाँव में जनता कफ्र्यू का प्रभावी क्रियान्वयन आवश्यक है। श्री चौहान ने इंदौर, जबलपुर और टीकमगढ़ की विशेष समीक्षा की।

होम आइसोलशन और कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था को प्रभावी बनाने से अस्पतालों के भार करेंगे कम :

श्री चौहान ने कहा कि होम आइसोलशन और कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था को प्रभावी बनाने से अस्पतालों के भार को कम किया जा सकेगा। कोविड केयर सेंटरों की व्यवस्था के संबंध में जनता में विश्वास विकसित करना आवश्यक है। इससे अस्पतालों पर बढ़ रहे भार से बचा जा सकेगा। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को नियंत्रित करने और अति गंभीर मरीजों के इलाज की अस्पतालों में उचित व्यवस्था सुनिश्चित होगी। जिन जिलों में संक्रमण अधिक है वहाँ किल कोरोना अभियान-2 के अंतर्गत घर-घर सर्वे, संभावित लक्षण वाले व्यक्तियों का चिन्हांकन, उनके टेस्ट और उपचार की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कोरोना मरीजों को सकारात्मक माहौल देने और आशावादिता बनाए रखने के लिए गीत-संगीत, भजन आदि की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए।

30 अप्रैल तक ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था :

वीडियो कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि प्रदेश में सोमवार 414 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। जबकि खपत 375 मीट्रिक टन हुई। ऑक्सीजन की 30 अप्रैल तक की मांग के अनुरूप आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली गई है। केन्द्र सरकार से समन्वय के उपरांत विभिन्न स्थानों से टैंकरों के माध्यम से ऑक्सीजन की आपूर्ति जारी है। इसके साथ ही प्रदेश के 13 जिलों में 16 मई तक, 09 जिलों में 23 मई तक और 15 जिलों में 20 जुलाई तक पीएसए टाइप ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कर दिए जाएंगे। जिला तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में ऑक्सीजन बेड बढ़ाने के लिए पाइप लाइन की व्यवस्था भी की जा रही है।

इंदौर, जबलपुर और टीकमगढ़ की स्थिति की विशेष समीक्षा :

वीडियो कॉन्फ्रेंस में इंदौर, जबलपुर तथा टीकमगढ़ की स्थिति की विशेष समीक्षा की गई है। इंदौर का पिछले सप्ताह से पॉजिटिविटी रेट स्थिर होना आरंभ हुआ है। यह लगभग 20 प्रतिशत के आसपास बना हुआ है। इंदौर कलेक्टर ने बताया कि स्वस्थ होकर डिस्चार्ज होने वाले व्यक्तियों की संख्या में भी वृद्धि हो रही है। होम आयसोलेशन व्यवस्था में रह रहे व्यक्तियों से संवाद के लिए 80 डॉक्टरों को दायित्व सौंपा गया है। प्रतिदिन 10 से 11 हजार व्यक्तियों को दो बार फोन पर आवश्यक सलाह दी जाती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इंदौर में प्रभावी जनता कर्फ्यू की प्रशंसा करते हुए कहा कि संक्रमण की चैन तोडऩे के लिए किए गए प्रयास सराहनीय है। श्री चौहान ने जबलपुर की 30 प्रतिशत पॉजिटिविटी दर पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे नियंत्रित करने के लिए हरसंभव प्रयास करने के निर्देश दिए। जबलपुर में अस्पतालों की व्यवस्था, उपलब्ध बेड, ऑक्सीजन आपूर्ति, रेमडेसिविर सहित आवश्यक दवाओं की स्थिति की समीक्षा भी की गई। उन्होंने टीकमगढ़ कलेक्टर को निर्देश दिए कि गाँवों में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए बाहर से आने वाले व्यक्तियों को ग्राम स्तर पर आयसोलेट करने की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co