सिंगरौली : शराब के दुकानदार उपभोक्ताओं को बिल देने में कर रहे आनाकानी
शराब के दुकानदार उपभोक्ताओं को बिल देने में कर रहे आनाकानी सांकेतिक चित्र

सिंगरौली : शराब के दुकानदार उपभोक्ताओं को बिल देने में कर रहे आनाकानी

अभी भी निर्धारित मूल्य से अधिक दाम में शराब बिक रही हैं। शराब दुकानदार और उपभोक्ताओं को बिल दे रहे हैं इसको देखने वाले जिले में कोई नहीं है।

सिंगरौली, मध्य प्रदेश। शराब दुकानदारों द्वारा कीमत से अधिक दाम में शराब बेचने की शिकायतें बार बार मिल रही हैं शासन द्वारा एक सितंबर से प्रदेश की सभी देशी और विदेशी दुकानों में शराब खरीदने वालों को बिल देने के निर्देश दिए गए, लेकिन जिले में कुछ दुकानदार शराब खरीदने वाले उपभोक्ताओं को बिल नहीं दे रहे हैं। अभी भी निर्धारित मूल्य से अधिक दाम में शराब बिक रही हैं। शराब दुकानदार और उपभोक्ताओं को बिल दे रहे हैं इसको देखने वाले जिले में कोई नहीं है।

आबकारी विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जिले की सभी 47 देशी-विदेशी शराब दुकानों में बिल बुक पहुंच गई है और सभी दुकानदारों को निर्देश दिए गए हैं कि जो भी दुकानदार शराब खरीदे ए उसे विधिवत बिल बनाकर दिया जाए शासन द्वारा जारी किए गए नए निर्देश कोई भी उपभोक्ता शराब के दुकान में शराब खरीदने आए तो उसे बिल दिया जाए । बिल बुक में शराब ठेकेदार का नाम, लाइसेंस नंबर, मदिरा का प्रकार, ठेका की अवधि, आबकारी विभाग के प्रभारी अधिकारी का मोबाइल नंबर बिल बुक में अंकित किया गया है।

ताकि कोई भी समस्या आने पर ग्राहक बिल बुक में दिए गए संबंधित आबकारी विभाग के अधिकारी को सूचना दे सके और अपनी शिकायत दर्ज करा सके। सभी दुकानों में बिल बुक उपलब्ध हैं आबकारी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि नए निर्देश के तहत जिले की सभी 29 देशी और 18 विदेशी शराब दुकानों में बिल बुक उपलब्ध है। कुछ दुकानदार सौ से एक हजार वाली बिल बुक लिए हैं तो कुछ इससे कम वाली बिल बुक ली है।

आबाकारी विभाग के अधिकारियों का कहना है कि महंगे दामों में अगर कोई शराब दुकानदार शराब बेचते हैं तो दुकानों में विभाग के अधिकारियों ने मोबाइल नंबर लिखे हुए हैं, जिस पर फोन कर शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। बिल देने से क्यों बच रहे दुकानदार, जानकारों की मानें तो शराब दुकानदार शराब बेचने के बाद उपभोक्ता को इसलिए बिल नहीं देते क्योंकि बिल देने पर आबकारी विभाग को यह पता चल जाएगा कि संबंधित शराब दुकान में प्रतिमाह शराब की कितनी खपत होती है। वहीं बिल देने पर शराब दुकानदार महंगे दाम पर शराब नहीं बेच पाएंगे। यही कारण है कि कई दुकानदार उपभोक्ताओं को बित्न देने में आनाकानी कर रहे हैं। मामला चाहे जो भी हो, लेकिन सरकार की नई व्यवस्था का पालन जिले में ठीक तरह से नहीं हो रहा है, जिसका फायदा उपभोक्ता नहीं ले पा रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co